राजस्थान में मतदान के लिए सुरक्षा कड़ी, भाजपा-कांग्रेस में कड़ी टक्कर

  • Updated on 12/7/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। राजस्थान में विधानसभा की 199 सीटों के लिए आज मतदान होगा। निर्वाचन विभाग ने इसके लिए सभी तैयारियां पूरी कर ली हैं। भारत-पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय सीमा से सटे इस राज्य में सुरक्षा चाक चौबंद है। राज्य में 20 लाख से अधिक मतदाता पहली बार वोट डालेंगे। मतदान के लिए दो लाख से ज्यादा ईवीएम-वीवीपैट का इस्तेमाल किया जाएगा और ईवीएम के साथ-साथ पूरे राज्य में वीवीपैट मशीनों का उपयोग पहली बार हो रहा है। 

नीतीश कुमार से नाराज उपेंद्र कुशवाहा बिहार में अपना सकते हैं नया रास्ता

मुख्य निर्वाचन अधिकारी आनंद कुमार ने यहां संवाददाताओं को बताया कि राज्य में स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं शांतिपूर्ण चुनाव संपन्न कराने के लिए सभी तैयारियां पूरी हैं। मतदान निष्पक्ष तथा शांतिपूर्ण ढंग से करवाने का जिम्मा 1,44,941 जवानों पर होगा जिनमें केंद्रीय सुरक्षा बलों की 640 कंपनियां शामिल हैं। राज्य में कुल 387 नाके और चैक पोस्ट लगाए गए हैं।  उन्होंने बताया कि 199 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों के लिए कुल 4,74,37,761 मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे। इनमें 2,47,22,365 पुरुष तथा 2,27,15,396 महिला मतदाता है। इनमें से पहली बार मतदान कर रहे युवा मतदाताओं की संख्या 20,20,156 हैं। 

येचुरी बोले- यूपी में सांप्रदायिक हिंसा के आरोपियों को बचा रही है योगी सरकार

राज्य के 199 विधानसभा निर्वाचन क्षेत्रों से कुल 2,274 उम्मीदवार चुनाव मैदान में हैं। इंडियन नेशनल कांग्रेस से 194, भारतीय जनता पार्टी से 199 उम्मीदवार, बहुजन समाज पार्टी से 189, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी से 01, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी से 16 एवं माक्र्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी से 28 उम्मीदवार चुनाव लड़ रहे हैं जबकि 817 गैर मान्यता प्राप्त दलों के प्रत्याशी एवं 830 निर्दलीय उम्मीदवार हैं।  

सावित्री फुले के इस्तीफे पर कांग्रेस बोली- डूबते जहाज से छलांग समझदारी

राजस्थान में विधानसभा की कुल सीटों की संख्या 200 है लेकिन एक सीट पर चुनाव स्थगित कर दिया गया है। कुमार ने बताया कि अलवर जिले के रामगढ़ विधानसभा निर्वाचन क्षेत्र से बहुजन समाज पार्टी के प्रत्याशी लक्ष्मण सिंह का 29 नवम्बर को निधन हो गया है। वहां का चुनाव स्थगित कर दिया गया है। 

पाकिस्तानी यासिर शाह ने तोड़ा टेस्ट विकेट लेने में 82 साल पुराना रिकार्ड

राज्य के चार लाख से ज्यादा दिव्यांगजनों के लिए विशेष सुविधा की गयी है। उनको मतदान के लिए घर से लाने की व्यवस्था की गयी है। 259 मतदान केंद्रों का जिम्मा महिलाओं के हवाले होगा जहां मतदान दलकर्मी, सुरक्षाकर्मी इत्यादि सभी महिलाएं होंगी।    इस बीच विभाग को सी-विजिल एप से अब तक 3,784 से अधिक शिकायतें मिलीं जिनमें से 3,098 शिकायतें सही पाई गई है।

कांग्रेस के सत्ता में आने पर ही साफा पहनूंगा:पायलट
कांग्रेस की राजस्थान इकाई के अध्यक्ष सचिन पायलट ने कहा है कि उन्हें पूरा भरोसा है कि चुनावों में पार्टी की जीत होगी और वह एक बार फिर साफा पहनेंगे। पायलट से जब बुधवार को पार्टी के लिये उनके संकल्प के बारे में पूछा गया तो उन्होंने कहा,‘‘ 2014 में पार्टी की हार के बाद मैंने सौगंध ली थी कि जब तक कांग्रेस सत्ता में वापसी नहीं करेगी मैं साफा नहीं पहनूंगा। मैंने साफे से खुद को दूर करने का फैसला किया जो कि हमारी संस्कृति का एक प्रतीक है।’’ 

सुनंदा पुष्कर कांड : स्वामी की अर्जी का थरुर और पुलिस ने किया विरोध

पायलट ने कहा,‘‘ मुझे पूरा भरोसा है कि जनता के आशीर्वाद से चुनावों में कांग्रेस की जीत सुनिश्चित होगी और मैं एक बार फिर साफा पहन पाऊंगा।’’ उल्लेखनीय है कि राजस्थानी साफा राजस्थान में संस्कृति और परंपराओं का एक अभिन्न हिस्सा है। खासकर चुनाव प्रचार में तो हर पार्टी का हर नेता साफा पहनता है लेकिन प्रचार अभियान के दौरान जब भी लोग और उनके समर्थक पायलट को स्वागत के रूप में साफा भेंट करते तो वह उसे माथे से लगाकर रख देते।  

जमीन अतिक्रमण मामले में अनुराग ठाकुर को सुप्रीम कोर्ट से मिली राहत

पायलट प्रचार के आखिरी दिन टोंक विधानसभा क्षेत्र में प्रचार कर रहे थे जहां उनका मुकाबला भाजपा के यूनुस खान से है। उन्होंने जनवरी 2014 में प्रदेशाध्यक्ष का पछ्वार संभाला था जबकि 2013 के विधानसभा चुनाव और 2014 के लोकसभा चुनाव में पार्टी राज्य में बुरी तरह हार गई थी। राज्य की 200 में से 199 सीटों के लिये मतदान सात दिसम्बर को और मतगणना 11 दिसम्बर को होगी।  

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.