Tuesday, Aug 03, 2021
-->
rajasthan cm gehlot furious at the news of the waste of vaccine said the news is false pragnt

Vaccine की डोज बर्बाद होने की खबर पर भड़के CM गहलोत, कहा- खबर झूठी है

  • Updated on 5/28/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने राज्य में कोरोना वायरस रोधी टीकों के खराब होने को लेकर भाजपा के आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि वह झूठ की राजनीति कर कोरोना योद्धाओं का मनोबल गिराने का प्रयास कर रही है। इसके साथ ही गहलोत ने राजस्थान में टीकों की 11.5 लाख खुराक खराब होने की मीडिया की खबरों को भी गलत बताया।

31 मई से अनलॉक होगी दिल्ली, CM केजरीवाल ने बताया सोमवार से क्या- क्या खुलेगा

CM ने दिया ये बयान
सीएम गहलोत ने एक बयान में कहा, 'राजस्थान में कोरोना वायरस टीकों की 11.5 लाख खुराक बर्बाद होने की खबर झूठी है। कोविन सॉफ्टवेयर पर दर्ज आंकड़ों के मुताबिक 26 मई तक राज्य में 1,63,67,230 लोगों को टीका लगाया जा चुका है। इसमें से 3.38 लाख खुराब हुई है, जो सिर्फ दो प्रतिशत है। यह टीका खराबी के राष्ट्रीय औसत से छह प्रतिशत तथा भारत सरकार द्वारा टीके खराबी की अनुमति सीमा से 10 प्रतिशत कम है।'

दिल्ली: कोरोना की तीसरी लहर से निपटने की तैयारी तेज, बच्चों के बचाव के लिए गठित की गई कमेटी

BJP कर रही झूठ की राजनीति
उन्होंने कहा, 'ऐसा लगता है कि महामारी के समय में जानबूझकर जनता को गुमराह करने का प्रयास किया जा रहा है। हम सभी को साथ लेकर कोरोना वायरस से निपटने के लिए काम कर रहे हैं लेकिन भारतीय जनता पार्टी ऐसे झूठे आरोप लगाकर 14 महीने से दिन रात मेहनत कर रहे कोरोना योद्धाओं का मनोबल गिराने का प्रयास कर रही है।' मुख्यमंत्री ने कहा कि इस महामारी के समय में भाजपा द्वारा की जा रही झूठ की राजनीति को पूरा देश देख रहा है। गलत नीतियों के कारण वे टीका उपलब्ध कराने में नाकाम रहे जिसका ठीकरा राज्यों पर फोड़ना चाहते हैं।

12 से 17 साल के बच्चों का तुरंत हो वैक्सीनेशन, दिल्ली हाईकोर्ट में याचिका दर्ज

विपक्षी नेताओं से करेंगे अपील
मुख्यमंत्री गहलोत ने कहा, 'मैं राजस्थान के विपक्षी नेताओं से अपील करूंगा कि वे तमाम तरह के विवाद पैदा करने की बजाय राज्य के हित को देखकर केंद्र पर दबाव बनाए, जिससे राज्य को अधिक टीके मिल सके।' गहलोत ने कहा कि इसके साथ ही केंद्र सरकार पर निशुल्क टीकाकरण के लिए भी दबाव बनाएं। उन्होंने कहा कि टीके खराब होने के आंकड़े बढ़ा-चढ़ाकर बताने का यह मामला अन्य राज्यों में भी हुआ है।

CBSE 12th Board Exam: 3 दिन बाद जारी होगा एग्जाम शेड्यूल और पैर्टन, जानें कैसी होगी परीक्षा

लगाया ये आरोप
उनके अनुसार छत्तीसगढ़ में 30.2 प्रतिशत, झारखंड में 37.3 प्रतिशत टीके की खुराक होने का आरोप लगाया गया, जबकि दोनों राज्यों के मुख्यमंत्रियों ने छत्तीसगढ़ में 0.95 प्रतिशत व झारखंड में 4.65 प्रतिशत टीके की खुराक खराब होने की जानकारी दी है। गहलोत ने कहा कि केंद्र सरकार इन आंकड़ों को 30 प्रतिशत व 37 प्रतिशत बता रही है जबकि ये असल में 4.65 प्रतिशत व 0.95 प्रतिशत हैं।इस बीच, राज्य के स्वास्थ्य मंत्री डॉ. रघु शर्मा ने भी एक बयान में कहा कि राज्य में मात्र 3.38 लाख खुराक बर्बाद हुई है, जो कि उपयोग में ली गई कुल खुराक का मात्र दो प्रतिशत है। बता दें कि एक केंद्रीय मंत्री ने पिछले दिनों ट्वीट किया था कि राज्य में टीकों की 11.5 लाख खुराक बर्बाद हुई हैं।

comments

.
.
.
.
.