Monday, Jun 21, 2021
-->
rajasthan rebellion in congress again mla said dalits do not hear pragnt

राजस्थान कांग्रेस में फिर बगावत, MLA ने कहा- दलितों की नहीं सुनती सरकार

  • Updated on 10/15/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। राजस्थान (Rajasthan) के करौली (Karauli) जिले में एक मंदिर के पुजारी की हत्या को लेकर चल रहा विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है। अब इस मामले में प्रदेश की कांग्रेस सरकार (Congress Government) के खिलाफ उनके ही एक विधायक ने मोर्चा खोलते हुए कई गंभीर आरोप लगाए हैं।

प्रियंका गांधी बोलीं, दिल्ली से नहीं चल सकती यूपी की राजनीति

लगाए ये आरोप
कांग्रेस के एक दलित विधायक का अपनी ही सरकार पर जमकर गुस्सा फूटा है। उन्होंने आरोप लगाया कि गहलोत सरकार में न तो दलित विधायकों की आवाज सुनी जाती है और न ही किसी मामले में सुनवाई की जाती है जो की गलत है। सरकार में जो ब्राह्मण मंत्री पद पर विरजमान है उन्हें दलितों की बिल्कुल भी चिंता नहीं है। वो दलितों के लिए काम ही नहीं करते हैं। आपको बता दें कि गहलोत सरकार में ये कोई पहली बार नहीं है जब अंदर से विद्रोह की आवाज उठी हो। इससे पहले भी कई बार अंदर से विरोध की ज्वाला भड़कती हुई दिखाई दी है।

UP विधानभवन के पास खुद को जलाने वाली महिला की मौत, पूर्व गवर्नर का बेटा गिरफ्तार

पीसीसी चीफ से की मुलाकात
अलवर के कठूमर से कांग्रेसी विधायक बाबूलाल बैरवा ने कहा कि उनकी ही सरकार के चिकित्सा मंत्री उनके काम नहीं करते हैं। जिसके बाद वो अपने इलाके में लोगों को क्या जवाब दें ये समझ नहीं आता है। इसके लिए बैरवा ने पीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा से भी मुलाकात की है।

कांग्रेस ने बढ़ते अपराधों पर योगी सरकार बर्खास्त करने की मांग की

जाहिर की नाराजगी
आपको बता दें किपीसीसी चीफ गोविंद सिंह डोटासरा से भी मुलाकात करते हुए बैरवा ने अपनी नाराजगी जाहिर की है। उन्होंने शर्मा पर गंभीर आरोप लगाते हुए कहा कि शर्मा सिर्फ ब्राहमणों की ही सुनते हैं। वो पक्षपात करते हैं इसलिए उनका महकमा बदलना चाहिए। 

तेलंगाना और आंध्र में भारी बारिश के कारण 25 लोगों की मौत, पीएम मोदी ने दिया हरसंभव मदद का भरोसा

निकाय चुनाव में क्या देंगे जवाब
बैरवा ने आगे कहा कि अगर ऐसा ही चलता रहा तो वो आगे होने वाले निकाय चुनाव में जनता के सवालों का कैसे सामना करेंगे। इसके साथ ही उन्होंने राहुल गांधी का नाम लेते हुए कहा कि राहुल गांधी न्याय देने की बात कर रहे हैं लेकिन यहां कांग्रेस अपने विधायकों के साथ ही न्याय नहीं कर पा रही है।  

World Students Day 2020: विद्यार्थियों के लिए प्रेरणादायक हैं अब्दुल कलाम के ये 10 विचार

होता है पक्षपात
बैरवा ने हाल ही में हुई एक घटना का  उदाहरण देते हुए कहा कि अभी स्वास्थ्य विभाग में ही चार ट्रांसफर दिए थे जिसमें से एक ब्राह्मण थे और 3 दलित थे। इस लिस्ट में से  ब्राह्मण का नाम देखकर उसका ट्रांसफर कर दिया गया लेकिन  तीनों दलितों का ट्रांसफर नहीं हुआ। ऐसा यहां पर होता है अगर यही चलता रहा तो कैसे काम होगा।

comments

.
.
.
.
.