Friday, Jan 18, 2019

एशियन फिल्म अवॉर्ड 2019 की रेस में सबको पछाड़ 'संजू' सबसे आगे

  • Updated on 1/12/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। नए साल के आगाज के साथ 2018 में रिलीज हुई बॉलीवुड की कुछ फिल्में एशियन फिल्म अवार्ड 2019 के रेस में शामिल हो चुकी हैं। इस रेस में राजकुमार हिरानी की फिल्म 'संजू' बेस्ट फिल्म का पुरस्कार जीतने के लिए सबसे आगे है।

'संजू' बॉलीवुड स्टार संजयदत्त की बॉयोपिक स्टोरी है इस फिल्म को बेस्ट फिल्म के अलावा भी 8 और कैटेगरी के लिए नॉमिनेट किया गया है। इस बॉलीवुड फिल्म से फिल्म डायरेक्टर राजकुमार हिरानी को काफी उम्मीद भी है। इसके साथ ही हाल ही में रिलीज हुई रजनीकांत की फिल्म  '2.0' भी बेस्ट विजुअल एफेक्ट की कैटेगरी में अपने आपको शामिल करने में कामयाब हो सकी है। 

B'day Special: 46 की उम्र में भी हमसफर की तलाश में हैं साक्षी तंवर

हांगकांग की एक वेबसाइट 'वेराइटी डॉट कॉम' के मुताबिक भारतीय फिल्मों के साथ ही  निर्देशक ली चांग-डोंग की दक्षिण कोरियाई ड्रामा फिल्म 'बर्निग' को भी कई सारी केटिगरी के लिए नॉमेनेट किया गया है। बता दें कि 'शॉपलिफ्टर्स', 'संजू' और 'शैडो' को 6 नॉमिनेशन मिले हैं। 17 मार्च को हांगकांग में होने वाले इस अवॉर्ड शो की अहमियत काफी ज्यादा है। जिसके लिए नॉमिनेशन की घोषणा शुक्रवार को हांगकांग में की गई।

रणबीर कपूर का शानदार अभिनय
वहीं 'संजू' में रणबीर कपूर के अभिनय की बात करें तो उन्होंने संजयदत्त बनने के लिए कोई कसर नहीं छोड़ी है। 'संजू' एक ऐसे पॉपुलर सेलिब्रिटी की  फिल्म  है जिसका चलना-बोलना-हंसना लोगों ने न सिर्फ असली जीवन में बल्कि पर्दे पर भी सैकड़ों बार देखा है।

इस मशहूर टीवी शो के लिटिल सिंगर्स का एलबम 'पहली गुंज' हुआ रिलीज

यहां तक कि न जाने कितने कॉमेडियन सिर्फ संजय दत्त की मिमिक्री के सहारे अपने करियर की गाड़ी चला ले गए हैं। ऐसे किरदार को उसकी खूबियों-खामियों समेत रणबीर कपूर जिस सच्चाई से परदे पर लाए हैं, उसके लिए उनकी खूब-खूब तारीफ की जानी चाहिए। वे न सिर्फ बोलने और दिखने में, बल्कि बॉडी लैंग्वेज से भी पूरे-पूरे संजू बाबा बन गए। यानी हम ऐसा कह सकते है कि इतनी अच्छी एक्टिंग तो शायद खुद संजय दत्त भी ना कर पाते।
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.