Sunday, Jun 13, 2021
-->
rajnath singh meeting situation on the lac in ladakh with nsa and cds pragnt

पूर्वी लद्दाख के हालात पर रक्षा मंत्री ने की बैठक, अजित डोभाल समेत ये लोग रहे मौजूद

  • Updated on 8/22/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath Singh) ने पूर्वी लद्दाख (Ladakh) में समग्र सुरक्षा स्थिति की शनिवार को समीक्षा की। सूत्रों ने बताया कि राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजित डोभाल, प्रमुख रक्षा अध्यक्ष (CDS) जनरल बिपिन रावत, थल सेना प्रमुख जनरल एम एम नरवणे, नौसेना प्रमुख एडमिरल करमबीर सिंह और वायु सेना प्रमुख आर के एस भदौरिया ने बैठक में शिरकत की।

कांग्रेस में नए अध्यक्ष को लेकर चर्चा के बीच सोमवार को होगी CWC की बैठक

इन पहलुओं पर हुई चर्चा
पूर्वी लद्दाख में चीन (China) के साथ सीमा विवाद के सभी महत्वपूर्ण पहलुओं पर चर्चा की गई। उन्होंने बताया कि हालात से निपटने के लिए भविष्य के कदमों पर विचार-विमर्श किया गया। पूर्वी लद्दाख में सीमा पर गतिरोध सुलझाने के प्रस्ताव पर चीनी सेना के गंभीरता नहीं दिखाने के सेना के आकलन के मद्देनजर यह समीक्षा की गई। सैन्य वार्ता में गतिरोध आ गया है क्योंकि भारतीय सेना ने दृढ़तापूर्वक जोर दिया है कि तीन महीने से चल रहे विवाद को सुलझाने के लिए चीनी सेना को इस साल अप्रैल की यथास्थिति को बहाल करना होगा।

राहुल गांधी के बयान पर BJP का पलटवार, कहा- राफेल के मुद्दे पर लड़े 2024 का चुनाव

LAC में 'बदलाव' स्वीकार नहीं
सूत्रों ने बताया कि भारतीय सेना (Indian Army) ने चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) को स्पष्ट तौर पर बता दिया है कि वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) में 'बदलाव' उसे स्वीकार्य नहीं है। भारत और चीन के बीच पिछले ढाई महीने में सैन्य और राजनयिक स्तर पर कई चरण की बातचीत हो चुकी है लेकिन पूर्वी लद्दाख में सीमा विवाद के समाधान के लिए कोई महत्वपूर्ण प्रगति नहीं हो पाई है। दोनों पक्षों के बीच गुरुवार को राजनयिक स्तर की अगले चरण की वार्ता हुई जिसके बाद विदेश मंत्रालय ने कहा कि उन्होंने त्वरित तरीके से और निर्धारित समझौते और प्रक्रिया के मुताबिक लंबित मुद्दों के समाधान के लिए सहमति जतायी है।

कोरोना के खौफ के बीच आई Good News, भारत का रिकवरी रेट दुनिया में सबसे अच्छा

नहीं निकला कोई सामाधान
हालांकि सूत्रों ने कहा कि बैठक में कोई महत्वपूर्ण समाधान नहीं हो सका। एनएसए अजित डोभाल और चीन के विदेश मंत्री वांग यी के बीच टेलीफोन पर बातचीत के एक दिन बाद छह जुलाई को सैनिकों के पीछे हटने की औपचारिक प्रक्रिया शुरू हुई। हालांकि, मध्य जुलाई के बाद से प्रक्रिया आगे नहीं बढ़ पाई। सूत्रों ने बताया कि चीनी सेना गलवान घाटी और टकराव वाले कुछ अन्य स्थानों से पीछे हट चुकी है लेकिन पैंगोग सो, देपसांग तथा कुछ अन्य स्थानों से सैनिकों की वापसी नहीं हुई है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.