Thursday, Apr 15, 2021
-->
rajnath singh spoke in rajya sabha today on the current situation of east ladakh sohsnt

पूर्वी लद्दाख: हम अपनी एक इंच जमीन भी किसी को लेने नहीं देंगे- राजनाथ सिंह

  • Updated on 2/11/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटिल। भारत-चीन के बीच पूर्वी लद्दाख में सीमा विवाद को लेकर अब तक नौ दौर की वर्ता हो चुकी है। दोनों देशों के सैन्य अधिकारियों ने इस दौरान पूर्वी लद्दाख (Ladakh) में टकराव वाले सभी स्थानों से सैनिकों को पीछे हटाने की प्रक्रिया पर जोर दिया गया था। ऐसे अब पूर्वी लद्दाख में वर्तमान स्थिति के बारे में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह (Rajnath singh) ने आज राज्यसभा में बड़ा बयान दिया है। 

रक्षा मंत्री ने कहा, फ्रिक्शन क्षेत्रों में डिसइंगेजमेंट के लिए भारत का यह मत है कि 2020 की फॉरवर्ड डिप्लॉयमेंट जो एक-दूसरे के बहुत नजदीक हैं वे दूर हो जाएं और दोनों सेनाएं वापस अपनी-अपनी स्थाई एवं मान्य चौकियों पर लौट जाएं।'

हम समझौते की स्थिति पर पहुंच गए- राजनाथ सिंह
राज्यसभा में रक्षा मंत्री राजनाथ ने बताया कि "बातचीत के लिए हमारी रणनीति तथा दृष्टिकोण माननीय प्रधानमंत्री मोदी जी के इस दिशा निर्देश पर आधारित है कि हम अपनी एक इंच जमीन भी किसी और को नहीं लेने देंगे। हमारे दृढ़ संकल्प का ही यह फल है कि हम समझौते की स्थिति पर पहुंच गए हैं। सितंबर, 2020 से लगातार सैन्य और राजनयिक स्तर पर दोनों पक्षों में कई बार बातचीत हुई है कि इस डिसइंगेजमेंट का परस्पर स्वीकार्य करने का तरीका निकाला जाए। अभी तक वरिष्ठ कमांडर के स्तर पर 9 राउंड की बातचीत हो चुकी है।

CM ममता पर दिलीप घोष का निशाना, कहा- वो अपने आप को टाइगर बता रहीं, उनका हाल बिल्ली जैसा

एक इंच जमीन भी किसी और को नहीं लेने देंगे- सिंह
राज्यसभा में सिंह ने कहा कि भारत ने चीन को हमेशा यह कहा है कि द्विपक्षीय संबंध दोनों पक्षों के प्रयास से ही विकसित हो सकते हैं और सीमा के प्रश्न को भी बातचीत के जरिए हल किया जा सकता है। उन्होंने कहा, 'हम अपनी एक इंच जमीन भी किसी और को नहीं लेने देंगे। हमारे दृढ़ संकल्प का ही फल है कि हम समझौते की स्थिति पर पहुंच गए हैं।' रक्षा मंत्री ने कहा कि विभिन्न स्तरों पर चीन के साथ हुई वार्ता के दौरान भारत ने चीन को बताया कि वह तीन सिद्धांतों के आधार पर इस समस्या का समाधान चाहता है।  

राजनाथ सिंह ने समाधान के लिए दिये ये सिद्धांत
उन्होंने कहा, 'पहला, दोनों पक्षों द्वारा वास्तविक नियंत्रण रेखा को माना जाए और उसका सम्मान किया जाए। दूसरा, किसी भी पक्ष द्वारा यथास्थिति को बदलने का एकतरफा प्रयास नहीं किया जाए। तीसरा, सभी समझौतों का दोनों पक्षों द्वारा पूर्ण रूप से पालन किया जाए।'  रक्षा मंत्री ने देश को आश्वस्त किया कि 'इस बातचीत में हमने कुछ भी खोया नहीं है।'  उन्होंने बताया 'मैं सदन को यह जानकारी भी देना चाहता हूं कि अभी भी एलएसी पर तैनाती और निगरानी के बारे में कुछ मुद्दे बचे हैं। उन्होंने कहा, 'इन पर हमारा ध्यान आगे की बातचीत में रहेगा।'  

सैनिकों की वापसी जल्द से जल्द
सिंह ने कहा कि दोनों पक्ष इस बात पर सहमत हैं कि द्विपक्षीय समझौतों तथा प्रोटोकॉल के तहत सैनिकों की वापसी जल्द से जल्द कर ली जाए।  उन्होंने कहा, 'चीन भी देश की सम्प्रभुता की रक्षा के हमारे संकल्प से अवगत है। यह अपेक्षा है कि चीन द्वारा हमारे साथ मिलकर शेष मुद्दों को हल करने का प्रयास किया जाएगा।' सीमा पर विषम परिस्थितियों के बीच जवानों की बहादुरी की सराहना करते हुए रक्षा मंत्री ने कहा, 'यह पूरा सदन, चाहे कोई किसी भी दल का क्यों न हो, देश की संप्रभुता, एकता, अखंडता और सुरक्षा के प्रश्न पर एक साथ खड़ा है और एक स्वर से समर्थन करता है कि यह सन्देश केवल भारत की सीमा तक ही सीमित नहीं रहेगा, बल्कि पूरे जगत को जायेगा।

चीन और भारत के सैनिकों ने पूर्वी लद्दाख में पीछे हटना शुरू किया : चीनी रक्षा मंत्रालय

दोनों देशों की बीच अब तक 9 दौर की वार्ता
बता दें कि भारत और चीन के बीच हाल ही में उच्च स्तरीय सैन्य वार्ता पूर्वी लद्दाख में वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) के चीन की ओर स्थित मोल्दो सीमावर्ती क्षेत्र में हुई थी। इससे पहले, छह नवंबर को हुई आठवें दौर की वार्ता में दोनों पक्षों ने टकराव वाले खास स्थानों से सैनिकों को पीछे हटाने पर जोर दिया था। वार्ता में भारतीय प्रतिनिधिमंडल का नेतृत्व लेह स्थित 14वीं कोर के कमांडर लेफ्टिनेंट जनरल पीजीके मेनन ने किया था।

भारत ने चीन से कही ये बात
सीमा विवाद के लेकर जारी गतिरोध के बाद से भारत लगाताय यहां शांति बहाली की दिशा में कार्य कर रहा है। इसके साथ ही भारत का कहना है कि पर्वतीय क्षेत्र में टकराव वाले सभी स्थानों से सैनिकों को वापस बुलाने की प्रक्रिया को आगे बढ़ाने और तनाव को कम करने की जिम्मेदारी चीन की है। पूर्वी लद्दाख में विभिन्न पवर्तीय क्षेत्रों में भारतीय थल सेना के कम से कम 50,000 जवान युद्ध की तैयारियों के साथ अभी तैनात हैं। दरअसल, गतिरोध के हल के लिए दोनों देशों के बीच कई दौर की वार्ता में कोई ठोस नतीजा हाथ नहीं लगा है। अधिकारियों के अनुसार चीन ने भी इतनी ही संख्या में अपने सैनिकों को तैनात किया है।

यहां भी पढ़े अन्य बड़ी खबरें...

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.