Thursday, Aug 16, 2018

RS उपसभापति चुनाव : मतभेद के बावजूद NDA के साथ शिवसेना, सपा नाखुश

  • Updated on 8/8/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। राज्यसभा में उपसभापति पद के चुनाव को लेकर यूपीए और एनडीए घटक दलों में रस्साकसी तेज हो गई है। कांग्रेस ने जहां राज्यसभा सदस्य बीके हरिप्रसाद की उम्मीदवारी घोषित की है, वहीं, एनडीए की ओर से जदयू के हरिवंश को पहले ही उम्मीदवार घोषित किया जा चुका है। 

दलाई लामा बोले- महात्मा गांधी चाहते थे जिन्ना पीएम बनें, लेकिन नेहरू ने...

भाजपा से नाराज चल रही शिवसेना ने भी एनडीए उम्मीदवार के पक्ष लेने का फैसला किया है। वहीं, आम आदमी पार्टी भी कांग्रेस से नाराज है। उसकी मांग है कि बिना कांग्रेस अध्यक्ष के समर्थन मांगे पार्टी उसके उम्मीदवार का समर्थन नहीं करेगी। वहीं समाजवादी पार्टी भी असमंजस में नजर आ रही है।

मुज्जफरपुर यौन उत्पीड़न कांड में आखिरकार मंत्री मंजू वर्मा पर गिरी गाज

सपा तो किसी एक उम्मीदवार के नाम पर सर्वसम्मति नहीं बन पाने के लिए नाराज है। पार्टी ने इसके लिए भाजपा और कांग्रेस को समान रूप से जिम्मेदार ठहराया है। कांग्रेस द्वारा हरिप्रसाद की उम्मीदवारी घोषित किए जाने के बाद इस पद के लिए अब चुनाव होना तय है। 

 यादें शेष :DMK सुप्रीमो करुणानिधि की जिंदगी से जुड़े ये हैं 10 बड़े खास किस्से

सपा के रामगोपाल यादव ने कहा कि कुछ अपवादों को छोड़ कर उपसभापति पद पर कभी चुनाव नहीं हुआ। सभी दल सर्वसम्मति से उपसभापति का चयन कर लेते हैं। यादव ने इस पर नाखुशी जाहिर करते हुए कहा कि कांग्रेस की ओर से यूपीए के घटक दल के किसी सदस्य को उम्मीदवार बनाने की बात थी। लेकिन अंतिम क्षण में अपने ही दल के सदस्य को उम्मीदवार घोषित कर दिया। 

देवरिया कांड को लेकर CM योगी आदित्यनाथ का ऐलान- CBI करेगी जांच

उच्च सदन में 3 सदस्यों वाली आम आदमी पार्टी ने भी कांग्रेस के रुख को विपक्ष की एकता के लिए झटका करार दिया। पार्टी सांसद संजय सिंह ने कहा, ‘‘कांग्रेस तंगदिली से सियासत करती है। राष्ट्रपति और उपराष्ट्रपति के चुनाव में हमने कांग्रेस द्वारा घोषित उम्मीदवार को बिना मांगे वोट दिया था,  लेकिन कांग्रेस ने इसके लिए शुक्रिया अदा करने की औपचारिकता भी नहीं निभाई।'

इशरत जहां मामले में सीबीआई कोर्ट ने आरोपी वंजारा, अमीन को दिया झटका

 उन्होंने कहा कि कांग्रेस का यह रवैया विपक्ष की एकता के लिए नुकसानदायक है। व्यापक हित में यह उचित नहीं है। वहीं, उम्मीदवारी घोषित होने के बाद हरिप्रसाद ने कहा, ‘‘पार्टी ने निश्चित रूप से काफी सोचने के बाद यह फैसला किया होगा। हम सभी विपक्षी दलों से बात करेंगे। देखते हैं क्या होता है।'

पीएनबी घोटाले के जांच अधिकारी समेत 4 अफसरों का CBI में बढ़ा कार्यकाल

244 सदस्यीय राज्य सभा में उपसभापति चुनाव को जीतने के लिए 123 मतों की जरुरत पड़ेगी। अगर दि अन्नाद्रमुक (13), बीजद (9), टीआरएस (6) और वाईएसआर कांग्रेस (2) का समर्थन एनडीए को मिल जाता है तो उसके पास 126 वोट हो जाएंगे। राज्यसभा में भाजपा के 73 और कांग्रेस के 50 सदस्य हैं। भाजपा के सहयोगी जदयू, शिवसेना और अकाली दल के क्रमश: 6 और 3-3 सदस्य हैं। 

हरिवंश को मिला शिवसेना का समर्थन
राज्यसभा के उपसभापति पद के लिए एनडीए के उम्मीदवार जदयू के हरिवंश को शिवसेना का समर्थन मिल गया है। राज्य सभा में शिवसेना के सदस्य अनिल देसाई ने आज कहा, 'हम एनडीए उम्मीदवार का समर्थन करेंगे।' हरिवंश को एनडीए की ओर से उपसभापति पद का उम्मीदवार घोषित किया गया है। 

देवरिया, मुजफ्फरपुर कांड पर विपक्ष की मांग- SC की निगरानी में हो जांच

बता दें कि भाजपा से नाराज चल रही शिवसेना के सदस्य हाल ही में मोदी सरकार के खिलाफ लोकसभा में अविश्वास प्रस्ताव के दौरान अनुपस्थित रहे थे। राज्यसभा में शिवसेना 3 सदस्य हैं। इससे पहले पार्टी सांसद संजय राउत ने भी कल उपसभापति चुनाव में एनडीए उम्मीदवार को समर्थन देने की पुष्टि की थी।       
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.