Friday, Feb 26, 2021
-->
rakesh tikait asks the government to answer the religious flag hoisting at the red fort pragnt

लाल किले पर धार्मिक झंडा फहराने पर राकेश टिकैत ने सरकार से ही मांगा जवाब

  • Updated on 1/27/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। गणतंत्र दिवस (Republic Day) के मौके पर देश की राजधानी दिल्ली (Delhi) में आंदोलन किसानों (Farmers Protest) ने जमकर उत्पात मचाया। केंद्र के नए कृषि कानूनों (Farm Laws) के खिलाफ 26 जनवरी पर ट्रैक्टर परेड (Tractor Parade) निकाल रहे किसानों ने लाल किले पर धावा बोला। इसके बाद प्रदेशकारियों ने एक धार्मिक झंडा भी लगा दिया। अब इस मामले में भारत किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत (Rakesh Tikait) ने ट्रैक्टर परेड की जिम्मेदारी ली। इसके साथ ही टिकैत ने सरकार से ही सवाल पूछते हुए कहा कि लाल किले पर झंडा किसने लगाया?

दीप सिद्धू के साथ नाम जुड़ने के बाद सनी देओल ने दी सफाई, बोले- नहीं उससे कोई संबंध

अशिक्षित लोग चला रहे थे ट्रैक्टर
रकेश टिकैत ने कहा, 'अशिक्षित लोग ट्रैक्टर चला रहे थे। उन्हें दिल्ली का रास्ता तक पता नहीं था। प्रशासन ने उन्हें दिल्ली की ओर जाने का रास्ता बताया। वे दिल्ली तक गए और फिर वापस लौट आए। उनमें से कुछ भूलवश लालकिले की तरफ चले गए। इसके बाद पुलिस ने उन्हें लौटने के लिए निर्देशित किया।'

किसानों को भड़काने वाला राकेश टिकैत का वीडियो हुआ वायरल, अब दे रहे हैं सफाई

BJP पर बोला हमला
उन्होंने कहा कि जिन लोगों ने लाल किले में हिंसा और झंडे फहराए, उन्हें अपने कामों के लिए भुगतान करना होगा। पिछले दो महीने से एक समुदाय विशेष के खिलाफ साजिश चल रही है। यह सिखों का नहीं, बल्कि किसानों का आंदोलन है। राकेश टिकैत ने कहा, 'दीप सिद्धू सिख नहीं हैं, वे भाजपा के कार्यकर्ता हैं। पीएम के साथ उनकी एक तस्वीर है। यह किसानों का आंदोलन है और ऐसा ही रहेगा। कुछ लोगों को तुरंत इस जगह को छोड़ना होगा- जो लोग बैरिकेडिंग तोड़ चुके हैं वे कभी भी आंदोलन का हिस्सा नहीं होंगे।'

उन्होंने कहा कि जिसने झंडा फहराया वो कौन आदमी था? एक कौम को बदनाम करने की साजिश पिछले 2 महीने से चल रही है। कुछ लोग को चिन्हित किया गया है उन्हें आज ही यहां से जाना होगा। जो आदमी हिंसा में पाया जाएगा उसे स्थान छोड़ना पड़ेगा और उसके खिलाफ कार्रवाई होगी। 

Tractor Rally Violence: 22 के खिलाफ FIR, दिल्ली पुलिस की प्रेस कॉन्फेंस आज

300 से ज्यादा पुलिसकर्मी घायल
दिल्ली में मंगलवार को ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा के बाद संयुक्त किसान मोर्चा ने परेड निरस्त कर इसमें हिस्सा लेने वाले सभी लोगों से अपील की कि वे तत्काल संबंधित प्रदर्शन स्थलों पर लौट जाएं। दिल्ली के कई हिस्सों में ट्रैक्टर परेड के दौरान हुई हिंसा के संबंध में दिल्ली पुलिस 22 प्राथमिकियां दर्ज कर चुकी है। इस दौरान 300 से ज्यादा पुलिसकर्मी घायल हुए। किसान मोर्चा ने ट्रैक्टर परेड के दौरान हिंसा करने वाले लोगों से खुद को अलग कर लिया और आरोप लगाया था कि कुछ 'असमाजिक तत्व' इस प्रदर्शन में घुस आए वरना प्रदर्शन शांतिपूर्ण ही था।

कृषक संगठनों की केन्द्र के तीन नए कृषि कानूनों को वापस लेने की मांग के पक्ष में मंगलवार को हजारों की संख्या में किसानों ने ट्रैक्टर परेड निकाली थी। इस दौरान कई जगह प्रदर्शनकारियों ने पुलिस के अवरोधकों को तोड़ दिया और पुलिस के साथ झड़प की, वाहनों में तोड़ फोड़ की और लाल किले पर एक धार्मिक झंडा भी लगा दिया था। 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.