Friday, Dec 03, 2021
-->
Rakesh Tikait warns Modi BJP govt new agricultural laws Haryana after Uttar Pradesh rkdsnt

यूपी के बाद हरियाणा में टिकैत ने ठोकी ताल, किसानों की मांगों पर मोदी सरकार को चेताया

  • Updated on 2/7/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। केंद्र की मोदी सरकार के नये कृषि कानूनों के खिलाफ प्रदर्शनों को ‘नाकाम नहीं होने वाला जन आंदोलन’ करार देते हुए भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत ने रविवार को कहा कि मांगें पूरी होने तक घर वापसी नहीं होगी। टिकैत ने यहां किसान महापंचायत को संबोधित करते हुए कहा कि केंद्र सरकार को विवादास्पद कृषि कानूनों को वापस लेना चाहिए, न्यूनतम समर्थन मूल्य (एमएसपी) प्रणाली को जारी रखने का विश्वास दिलाने के लिए एक नया कानून बनाना चाहिए और गिरफ्तार किये गये किसानों को रिहा करना चाहिए। 

उत्तराखंड आपदा से स्तब्ध हैं ममता, केजरीवाल मदद मुहैया कराने को तैयार

उन्होंने कहा, ‘‘यह जन आंदेलन है, यह फेल (नाकाम) नहीं होगा। ’’ टिकैत ने दावा किया कि नये कृषि कानूनों के खिलाफ आंदोलन मजबूत होता जा रहा है। कई खाप नेता महापंचायत में मौजूद थे। टिकैत ने आंदोलन को मजबूत करने में उनकी भूमिका की सराहना की। दादरी से निर्दलीय विधायक एवं सांगवान खाप के प्रमुख सोमबीर सांगवान भी कार्यक्रम में मौजूद थे। उन्होंने पिछले साल दिसंबर में राज्य की भाजपा-जजपा सरकार से समर्थन वापस ले लिया था। उन्होंने राज्य सरकार को ‘‘किसान विरोधी’’ कहा है। 

गुजरात में सक्रिय ओवैसी ने किसान आंदोलन पर पीएम मोदी पर साधा निशाना

टिकैत ने तीन फरवरी को अपनी पहली किसान महापंचायत को हरियाणा के जींद स्थित कंडेला में संबोधित किया था। उत्तर प्रदेश से बीकेयू नेता टिकैत केंद्र के तीन नये कृषि कानूनों के खिलाफ किसान संगठनों के प्रदर्शनों के तहत दिल्ली-उत्तर प्रदेश की सीमा पर स्थित गाजीपुर बॉर्डर पर डेरा डाले हुए हैं। टिकैत ने कहा कि राजा हर्षवर्धन के शासन काल के दौर से ही खाप समाज में अपनी भूमिका निभाते आ रहे हैं। बीकेयू नेता ने कहा कि जब किसानों का आंदोलन शुरू हुआ था तब इसे पंजाब और हरियाणा का आंदोलन करार देते हुए इसे विभाजित करने की कोशिशें की गई थी। 

उत्तराखंड में ग्लेशियर टूटने के बाद यूपी में हाई अलर्ट, सीएम योगी ने बढ़ाई प्रशासनिक सक्रियता

किसान संगठनों के बीच एकजुटता प्रर्दिशत करने की कोशिश करते हुए टिकैत ने कहा , ‘‘मंच और पंच नहीं बदलेंगे। ’’ बीकेयू नेता ने प्रदर्शनकारी किसानों को आगाह करते हुए कहा , ‘‘कुछ लोग आपको सिख, गैर सिख के तौर पर विभाजित करने की कोशिश कर रहे हैं, लेकिन एकजुट रहना है। ’’ टिकैत ने एक बार फिर से पंजाब बीकेयू नेता बलबीर सिंह राजेवाल की सराहना की, जिन्होंने आंदोलन का शानदार नेतृत्व किया है। वह इस मौके पर मौजूद थे। 

’ AAP ने किया MCD उपचुनाव के लिए उम्मीदवारों का ऐलान

टिकैत ने कहा, ‘‘राजेवाल हमारे बड़े नेता हैं। हम यह लड़ाई मजबूती से लड़ेंगे। ’’ उन्होंने उत्तराखंड के चमोली जिले में जोशीमठ में ग्लेशियर टूटने से आई आपदा का भी जिक्र किया।  उन्होंने कहा, ‘‘उत्तराखंड में एक बड़ी आपदा आई है । मैं बीकेयू परिवार एवं अन्य किसान संगठनों से मदद का हाथ बढ़ाने तथा स्थानीय प्रशासन की सहायता करने की अपील करता हूं। ’’ 

सुप्रीम कोर्ट ने जस्टिस शाह ने पीएम मोदी को बताया ‘लोकप्रिय, जीवंत और दूरदर्शी नेता’

 

 

 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...


 

comments

.
.
.
.
.