Thursday, Oct 28, 2021
-->
rakesh-tikets-video-provoking-miscreants-goes-viral-said-this-in-the-cleaning-albsnt

उपद्रवियों को भड़काने वाला राकेश टिकेत का वीडियो वायरल, सफाई में कही ये बात... 

  • Updated on 1/27/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली में गणतंत्र दिवस के दिन मची हिंसा को लेकर किसान आंदोलन से जुड़े नेता निशाने पर आ गए है। सोशल मीडिया पर राकेश टिकेत का वो वीडियो तेजी से वायरल हो रहा है जिसमें वे अपने समर्थकों से कहते हुए नजर आते है कि लाठी-डंडा लेकर पहुंचे। उन्होंने कहा कि जमीन बचानी हो तो सभी आ जाओ। जिसके बाद राकेश टिकेत की मुश्किलें थमती नजर नहीं आ रही है। 

ट्रैक्टर परेड हिंसा: घायल पुलिसकर्मी की हालत नाजुक, LNJP अस्पताल के ICU में भर्ती

हालांकि वीडियो वायरल होने के बाद राकेश टिकेत सफाई देते हुए नजर आ रहे है। उन्होंने स्वीकार किया कि यह वीडिया उनका ही है। लेकिन लाठी-डंडे कोई हथियार नहीं है। जिसको लेकर इतना हाय-तौबा मचाया जाना चाहिये। उन्होंने अपने बचाव में कहा कि बिना लाठी-डंडे के झंडे भी नहीं लगते है। उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन को साजिश के तहत बदनाम किया गया है। कुछ असामाजिक तत्व इस आंदोलन के बीच शामिल हो गए,जिस कारण आज आंदोलन की पवित्रता खत्म हो गई।

किसान हिंसा के बाद बयान से पलटे किसान नेता, पढ़ें- पहले और बाद की प्रतिक्रिया

राकेश टिकेत ने दिल्ली पुलिस पर आंदोलन के असफल होने का ठीकरा फोड़ते हुए कहा कि यदि तय रुट में बदलाव नहीं किया जाता तो इतना हंगामा नहीं होता। उन्होंने कहा कि जब रुट में अंतिम क्षण में बदलाव किया गया तो कुछ लोग भटक गए। जिसके बाद यह आंदोलन अपने मूल रास्ते से हट गया। उन्होंने लालकिला की घटना पर भी चिंता प्रकट की है। उन्होंने मांग की जो भी व्यक्ति हिंसा को अपने हाथ में लिया उस पर कार्रवाई होनी चाहिये। बता दें कि दिल्ली में लालकिला पर जिस तरह से एक धर्म विशेष के झंडा फहराया गया,उससे आमजनों में भी रोष है। यहीं नहीं आईटीओ पर भी उग्र आंदोलनाकियों ने ट्रैक्टर स्टंट करके पुलिस को खदेड़ने की कोशिश की। जिससे घंटो तक पुलिस और आंदोलनकारियों के बीच संघर्ष देखने को मिला।  

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.