rally-against-maharashtra-government-by-prakash-ambedkar

दोषियों पर अगर नहीं होगी कार्रवाई, तो हिंदुओं में भी पैदा होंगे हाफिज सईद : प्रकाश अंबेडकर

  • Updated on 1/6/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारत में संविधान की नींव रखने वाले डॉ . भीमराव अंबेडकर के पोते और एक प्रसिद्ध वकील प्रकाश अंबेडकर ने शुक्रवार के दिन मध्यप्रदेश की राजधानी भोपाल  में महाराष्ट्र सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि भीमा - कोरेगांव कांड के दोषियों पर अगर सरकार किसी भी तरह की कोई कार्रवाई या सख्त कदम नहीं उठती है तो हिंदुओं में भी हाफिज सईद पैदा होने से कोई नहीं रोक पाएगा। 

हाई एजुकेशन हासिल करने में लड़कियां हुईं आगे, इन राज्यों में बढ़ा अांकड़ा

प्रकाश अंबेडकर ने यह बात बीजेपी की विरोधी पार्टियों की लाठी रैली में कही है। दरअसल यह रैली अखिल भारतीय महात्मा फुले समता परिषद् द्वारा पूर्व सांसद सुखलाल कुशवाह के 54 वें जन्मदिन पर छोला दशहरा मैदान में की गई थी। इस दौरान प्रकाश अंबेडकर के साथ समाजवादी नेता शरद यादव ने भी पिछड़ो, दलितों और आदिवासियों को एक साथ आने के लिए कहा। 

अपने आरोप में प्रकाश अंबेडकर ने कहा कि महाराष्ट्र सरकार के आदेश पर ही पुलिस ने दोषियों की बजाए उलटा पीड़ितों के खिलाफ कार्रवाई की है। यह सब आरएसएस के इशारे पर किया जा रहा है। इसके साथ ही उन्होंने इस बात की भी चेतावनी भी दे डाली जिसमें कहा गया कि अगर महाराष्ट्र में दोषियों के खिलाफ कोई सख्त कार्रवाई नहीं होगी, तो हिंदुओं में भी कई हाफिद सईद पैदा होंगे। ऐसे में इसे रोकना है तो दोषियों पर कार्रवाई की जाए। 


इसके साथ ही प्रकाश अंबेडकर ने कहा कि छोटी समझी जाने वाली सभी जातियों को अपने मान - सम्मान के लिए एक साथ आना चाहिए। उन्होंने अपनी बात में कहा कि मध्य प्रदेश में कांग्रेस अध्यक्ष अरुण यादव पिछड़ी जाति के है। ऐसे में अब कांग्रेस को यह तय करना है कि वह विधानसभा चुनाव में जीत के बाद किसे मुख्यमंत्री के रुप में देखना चाहती है। गुजरात में अगर कांग्रेस आदिवासियों को अपने से जोड़ने में किसी भी तरह से सफल हो पाती है, तो उसकी सरकार बनना तय हो जाती। 

शरद यादव ने भी अपने बात को कुछ अपने ही आंदाज में सबके सामने रखते हुए कहा कि देश में हालात भयावह होते जा रहे है। छोटी जातियों को एक साथ होकर कट्टरपंथियों का मुकाबला करना होगा। उन्होंने यह तक भी कहा कि पेशवाई के खिलाफ जो लड़ाई लड़ी गई ती, वह छोटी जातियों ने लड़ी थी। जिनके नाम कोरेगांव के स्तंभ पर दर्ज है।

सफर के दौरान बरकरार रखना चाहते हैं फैशनेबल लुक, अपनाएें ये तरीके

इस मामले में अब प्रश्न यह उठाता है कि छोटी जाति के लोग हिंदू नहीं है क्या? इन पर हिंदुवादियों को हमला क्यों करना चाहिए? शरद यादव ने कहा कि सवाल यह है कि जब  सरकार दोषियों का साथ देगी,  इन पर रोक कौन लगाएगा? इसलिए कह रहा हूं कि देश में हालात काफी भयावह है और भी भयावह हो जाएंगे। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.