Saturday, Jul 24, 2021
-->
ram janmabhoomi dispute hindu parties say never given plea disturbed communal harmony

अयोध्या मामला: हिंदू पक्ष बोला- सांप्रदायिक सौहार्द बिगाड़ने वाली नहीं दी कोई दलील

  • Updated on 10/1/2019

नई दिल्ली/डिजिटल। राम जन्मभूमि-बाबरी मस्जिद भूमि विवाद के मामले में हिंदू पक्षकारों ने मंगलवार को उच्चतम न्यायालय में कहा कि सुनवाई के दौरान उन्होंने कभी ऐसी दलील नहीं दी जो सांप्रदायिक सौहार्द और शांति को बिगाड़ती हो। हिंदू पक्ष ने दावा किया कि उनके प्रतिद्वंद्वियों के दावे में सांप्रदायिक पहलू शामिल है।

यौन उत्पीड़न के आरोपी चिन्मयानंद को PGI से मिली छुट्टी, फिर KJMU में पहुंचे

उन्होंने मुस्लिम पक्षकारों की इस दलील को अनुचित और दुर्भाग्यपूर्ण भी बताया कि पुरातत्विक रिपोर्ट को नष्ट किया जा सकता है। उन्होंने कहा कि अब वे आरोप लगा रहे हैं कि जो दीवार खुदाई में निकली, वह ईदगाह की थी। 

#PMC बैंक संकट: #HDIL ने कहा- पर्याप्त सुरक्षा गारंटी देकर लिया कर्ज

दलीलों पर प्रश्न करते हुए राम लला के वरिष्ठ वकील ने कहा कि इसका आशय है कि मुगल शासक बाबर आया था और उसने ईदगाह को गिराकर मस्जिद बनाई। इसने उनके पुराने रुख का भी विरोध किया कि मस्जिद खाली जमीन पर बनाई गयी थी। हिंदू पक्षकारों की दलीलों पर मुस्लिम पक्ष की तीखी प्रतिक्रिया आई।  

सुप्रीम कोर्ट में फंसे फड़णवीस को अब NCP ने लिया आड़े हाथ

     दलीलों पर बहस के दौरान दोनों पक्षों के वरिष्ठ वकीलों के बीच तीखी नोकझोंक हो गयी। वे प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच न्यायाधीशों की संविधान पीठ के समक्ष दलील रख रहे थे। पीठ ने इस संवेदनशील मामले पर 35वें दिन की सुनवाई पूरी की। 

गुलाम नबी आजाद बोले- जम्मू-कश्मीर में सरकार निर्मित आपदा से कारोबार हुआ खत्म

राम लला की ओर से वरिष्ठ अधिवक्ता सी एस वैद्यनाथन ने कहा, ‘‘सुनवाई के दौरान उन्होंने (मुस्लिम पक्ष ने) अनावश्यक टिप्पणियां कीं और हमने कभी ऐसी कोई दलील नहीं दी जो सांप्रदायिक शांति और सौहार्द के खिलाफ हो।’’ उन्होंने कहा, ‘‘दुर्भाग्यपूर्ण है कि (सुन्नी) वक्फ बोर्ड ने इलाहाबाद उच्च न्यायालय के फैसले को ‘ज्ञात अनुमान’ की तरह पेश किया।’’

स्पा सेक्स रैकेट : दिल्ली महिला आयोग ने दिल्ली पुलिस, MCD को जारी किया समन

इस पर मुस्लिम पक्षों के वकील राजीव धवन ने आपत्ति जताते हुए कहा, ‘‘मैंने इसे चित्रित नहीं किया, बल्कि न्यायाधीशों ने खुद इसे ज्ञात अनुमान की तरह चित्रित किया है।’’ धवन ने कहा, ‘‘हम ऐसी दलीलों से बचते हैं जिनसे सांप्रदायिक विभाजन की आशंका हो। हमने कहा था कि गतिविधियां गैरकानूनी थीं और सांप्रदायिक विभाजन पर कुछ नहीं कहा था।’’ 

comments

.
.
.
.
.