Tuesday, Jul 23, 2019

कभी करोड़ों लोग थे जिसके अनुयायी, वही राम रहीम आज जेल में ऐसा करने को है मजबूर

  • Updated on 7/12/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। हमारे देश (Country) में कहा जाता है कि हमें अपने गुनाहों (Crime) का हिसाब इसी जन्म में देना होता है, यह बात आज आंखो देखी हकीकत बन गई है। एक समय पर जिस बाबा के करोड़ो लोग अनुयायी (Followers) होते थे, उसकी एक झलक पर उसके लिए कुछ भी कर गुजरने को तैयार थे। आज वही बाबा गुरमीत राम रहीम सिंह (Gurmeet Ram Rahim Singh) सुनारिया जेल (Jail) में अपने गुनाहों की सजा अत्यन्त दीनहीन हालत में काट रहा है।

Image result for राम रहीम आज जेल में खेती करने को है मजबूर

जिसके आने पर करोड़ो भक्त अपने सर झुकाकर प्रणाम करते थे वही शख्स जेल में चौकीदार से लेकर जेलर तक को दिन रात सलाम करता है। इसे जेल-प्रशासन की सख्ती का असर कहा जाए या अच्छा आचरण दिखाकर पैरोल पर जाने की रणनीति, लेकिन डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत राम रहीम का यह अंदाज जेल में सबको भा रहा है। डेढ़ साल से भी अधिक समय बीत जाने के बावजूद गुरमीत राम रहीम के बारे में एक भी शिकायत (Complaint) जेल प्रशासन के पास दर्ज नहीं हुई है। 

'जय श्रीराम' न बोलने पर मदरसे के छात्रों को बैट से पीट कर किया अधमरा, जांच में जुटी पुलिस

Image result for राम रहीम  in jail

जेल में गुरमीत ने अपने आचरण से हर किसी को बनाया मुरीद
आपको बता दें कि गुरमीत राम रहीम साध्वी दुष्कर्म और पत्रकार हत्याकांड में सजा का रहा है। जेल में गुरमीत को एक स्पेशल सेल रखा गया है और इस वजह से उसका अन्‍य कैदियों व बंदियों से मिलना-जुलना नहीं हो पाता है। गुरमीत को सेल के बाहर तब निकाला जाता है जब कैदी व बंदी बैरकों में होते हैं। इसी दौरान ड्यूटी पर तैनात नंबरदार, सफाई कर्मचारी व सुरक्षागार्ड से आते-जाते वह खुद सभी कर्मियों को सलाम करता है।

सोनाक्षी सिन्हा के खिलाफ धारा 420, 406 के तहत धोखाधड़ी का मुकदमा दर्ज

Image result for राम रहीम  lifestyle

जेल का असर या पैरोल लेने का पैंतरा
गुरमीत के सामने जो भी आता है, वह खुद उनको आगे बढकर उमको सलाम करता है। यहां तक की जेल में परिजनों या वकील से मिलने जब उसे मुलाकात कक्ष में लाया जाता है तो वहां ड्यूटी पर मौजूद हर सुरक्षाकर्मी को वह सलाम करता है।

मुंबई पुलिस के अकाउंट ब्लॉक करने पर पायल ने कहा "हिंदुस्तान में नहीं हूं सुरक्षित"

Image result for राम रहीम  in jail

20 किलो वजन हुआ कम
गुरमीत राम रहीम को जब सीबीआई (CBI) की अदालत ने साध्वी दुष्कर्म मामले में सजा सुनाई तब, उसका वजन करीब 110 किलोग्राम था, अब 20 किलो घटकर 90 किलोग्राम पर पहुंच गया है। जेल में गुरमीत राम रहीम आमतौर पर सफेद कुर्ता-पायजामा पहनता है। वहीं गुरमीत का स्वास्थ्य भी अब पहले से बेहतर है और दाढ़ी भी आधी से ज्यादा सफेद हो गई है।

टीम इंडिया की हार पर लता मंगेश्कर ने शेयर किया ये गीत, धोनी से क्रिकेट न छोड़ने की लगाई गुहार

Image result for राम रहीम आज जेल में खेती करने को है मजबूर

जेल में करता है खेती 
राम रहीम को जेल में बागवानी का काम मिला हुआ है। वर्तमान में उसने जेल में ककड़ी, घिया और टमाटर की सब्जी उगा रखी है। इससे पहले वह आलू भी उगा चुका है। पिछले दिनों गुरमीत राम रहीम ने डेढ़ क्विंटल आलू की पैदावार की थी। अब उसने मौसमी सब्जी उगा रखी है। गुरमीत राम रहीम को जब भी मौका मिलता है फसल की सिंचाई, निराई और उसे तोड़ने में लग जाता है।

कैसे दिल्ली को स्लम बना दिया गया 14 जुलाई को होगी चर्चा, गोयल ने जारी किया वीडियो

Related image

42 दिन की पैरोल को लेकर लगाई थी अर्जी
गुरमीत राम रहीम ने खेती करने के लिए 42 दिन की पैरोल को लेकर जेल प्रशासन को 18 जून को अर्जी लगाई थी। जेल प्रशासन ने उसके आचरण को देखते हुए संस्तुति करके मंडलायुक्त को अर्जी भेज दी थी। राम रहीम की अर्जी प्रदेश में राजनीतिक मुद्दा बनना शुरू हो गया था। इसी बीच गुरमीत ने बिना कोई कारण दिए पैरोल की अर्जी को वापस ले लिया। हालांकि, पैरोल की अर्जी वापस क्यों ली, इसका कोई ठोस कारण अब तक सामने नहीं आ पाया है।

चुनाव लडने में दिलचस्पी नहीं क्योंकि केजरीवाल का चेहरा भी देखना पसंद नहीं : सपना

Image result for राम रहीम jail

सीबीआइ ने हाई कोर्ट में दी चुनौती
डेरे में साधुओं को ईश्वर से मिलवाने के नाम पर नपुंसक बनाए जाने के मामले में सीबीआइ की ट्रायल कोर्ट द्वारा केस डायरी डेरा सच्चा सौदा प्रमुख गुरमीत को दिए जाने के आदेशों को सीबीआइ ने हाई कोर्ट में चुनौती दे दी है। हाई कोर्ट ने सीबीआइ की याचिका पर डेरा मुखी को 25 अगस्त के लिए नोटिस जारी कर जवाब मांग लिया है। 

World Population Day : इन कारणों से प्रतिवर्ष बढ़ती है विश्व की जनसंख्या

Related image

आदेश को रद्द किये जाने की मांग
गौरतलब है कि हाई कोर्ट ने ही डेरे में साधुओं को नपुंसक बनाये जाने के मामले की सीबीआइ जाँच के आदेश दिए थे। सीबीआइ ने मामले की जांच कर हाई कोर्ट में सीलबंद स्टेटस रिपोर्ट दे दी थी। अब यह केस पंचकूला की ट्रायल कोर्ट में चल रहा है। जहां ट्रायल कोर्ट ने हाल ही में डेरा मुखीया की एक अर्जी पर इस मामले की केस डायरी उसे सौंपे जाने के सीबीआइ को आदेश दिए थे। सीबीआइ ने इसी आदेश को अब हाई कोर्ट में चुनौती देते हुए इसे रद्द किये जाने की मांग की है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.