Wednesday, Dec 08, 2021
-->
ram vilas paswan daughter asha devi uproar over refusal to enter patna airport rkdsnt

पटना एअरपोर्ट में एंट्री से मना करने पर पासवन की बेटी ने किया हंगामा

  • Updated on 10/9/2020


नई दिल्ली/टीम डिजिटल। केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान (Ram vilas Paswan) का पार्थिव शरीर शुक्रवार को पटना आने पर उनकी प्रथम पत्नी की पुत्री और दामाद ने हवाईअड्डे पर उस समय हंगामा किया, जब उन्हें दिवंगत नेता के अंतिम दर्शन करने के लिये अंदर प्रवेश करने की अनुमति नहीं दी गई। पासवान की पुत्री आशा देवी और दामाद अनिल साधु ने राज्य के उप मुख्यमंत्री सुशील कुमार मोदी की कार के सामने हंगामा किया जब वे लोक जनशक्ति पार्टी के संस्थापक के अंतिम दर्शन करने आए थे। 

एल्गार मामला: मानवाधिकार कार्यकर्ता फादर स्टेन स्वामी को न्यायिक हिरासत में भेजा

आशा पासवान और अनिल कुमार साधु ने आरोप लगाया कि सुरक्षाकर्मी उन्हें अंदर नहीं जाने दे रहे थे। पासवान के दामाद साधु ने संवाददाताओं से कहा, ‘‘ऐसे दुखद अवसर पर राजनीति क्यों की जा रही है? उनकी पुत्री और परिवार के सदस्यों को हवाई अड्डे पर प्रवेश क्यों नहीं करने दिया जा रहा है। ’’

नीरव मोदी की रिमांड 3 नवंबर को होने वाली अगली प्रत्यर्पण सुनवाई तक बढ़ी

पासवान का पार्थिव शरीर शुक्रवार शाम को विशेष विमान से पटना हवाईअड्डे लाया गया। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार, उपमुख्यमंत्री सुशील मोदी, राजद नेता तेजस्वी यादव, राजीव प्रताप रूडी समेत कई नेता उन्हें श्रद्धांजलि देने हवाईअड्डे पर पहुंचे। हवाईअड्डे पर काफी की संख्या में समर्थक भी रामविलास पासवान के अंतिम दर्शन के लिए पहुंचे। 

सुप्रीम कोर्ट का CBI को निर्देश- अदालतों के निष्कर्षो पर सवाल उठाने के लिए बहुत ठोस आधार दे

गौरतलब है कि आशा देवी रामविलास पासवान और उनकी पहली पत्नी राजकुमारी देवी की पुत्री हैं जो अभी भी बिहार के खगडिय़ा जिले में सहरबन्नी गांव में रहती हैं। राजकुमारी देवी से पासवान की एक और पुत्री उषा देवी हैं। पासवान ने राजकुमारी देवी से 1960 में विवाह किया था और बाद में यह बात बतायी थी कि 1981 में उनका तलाक हुआ। रामविलास पासवान ने रीना शर्मा से 1983 में विवाह किया और इनका एक पुत्र चिराग और एक पुत्री हैं। 

कालाधन: भारत को स्विस बैंक खातों के बारे में मिली और जानकारी

 

 

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

comments

.
.
.
.
.