Monday, Oct 22, 2018

रामपाल दो मामलों में दोषी करार,16 -17 अक्टूबर को होगा सजा का ऐलान

  • Updated on 10/11/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। सतलोक आश्रम में हत्या के मामले में जेल में बंद संत रामपाल को लेकर आज हिसार के विशेष  कोर्ट ने दो मामलों में रामपाल दोषी करार दे दिया है। मामले की गंभीरता को देखते हुए आज देशभर के कई हिस्सों में पुलिस ने सुरक्षा कड़ी कर दी है। इसके साथ ही हिसार में धारा 144 लागू कर दी गई है। संत रामपाल की सजा का ऐलान 16 या 17 अक्टूबर को किया जाएगा। 

आपको बता दें कि इस फैसले के लिए जेल में ही एक विशेष प्रकार की अदालत का बनाई गई थी। जिसमें वीडियो कॉन्फ्रेंस के जरिए  रामपाल की पेशी की गई।

जिन मामलों में रामपाल को सजा सुनाई गई है, उनमें पहला केस महिला भक्त की संदिग्ध मौत का है, जिसकी लाश उनके सतलोक आश्रम से 18 नवंबर 2014 को बरामद की गई थी। वहीं  दूसरा मामला उस हिंसा से जुड़ा है जिसमें रामपाल के भक्त पुलिस के साथ भिड़ गये थे।

संत राम पाल के समर्थकों को रोकने के लिए हिसार के आस-पास के क्षेत्र मध्य प्रदेश राज्यस्थान में कई सारी ट्रेनों का संचालन भी बंद कर दिया गया है। इसके साथ ही इस अहम फैसले को देखते हुए कोर्ट के तीन किलोमीटर के दायरे में सुरक्षा घेरा भी बनाया गया है जिसमें  किसी भी बाहरी को  आने की अनुमति नहीं दी गई है सुरक्षा घेरे के आस-पास भारी सुरक्षा बल भी तैनात कर दी गई है।

लगभग चार साल से जेल में बंद रामपाल पर सोमवार को हुई फाइनल सुनवाई के बाद कोर्ट ने अपना फैसला गुरुवार तक के लिए सुरक्षित रख लिया था।  बरवाला के सतलोक आश्रम प्रकरण में हत्या के दो मुकदमों की सुनवाई अतिरिक्त जिला एवं सत्र न्यायाधीश अजय पराशर सेंट्रल जेल वन में कर रहे थे। उनका पिछले दिनों यहां से तबादला हो गया। 

वहीं आपको बता दें कि पिछले साल 24 अगस्त को न्यायिक दंडाधिकारी मुकेश कुमार की अदालत ने पुलिस की गुहार पर फैसला 29 अगस्त तक टाल दिया था। पुलिस ने एक अर्जी लगाकर कहा कि डेरा मुखी के फैसले को लेकर कानून व्यवस्था बनाए रखने में पुलिस व्यस्त है फैसला टाला जाए।

जेट एयरवेज ने वरिष्ठ अधिकारियों को अगस्त का बकाया वेतन दिया, सितंबर के वेतन में होगी देरी  

इससे पहले बरवाला के सतलोक आश्रम प्रकरण में मुकदमा नंबर 426 और 427 में सेंट्रल जेल वन में लगी कोर्ट में बहस पूरी हो गई थी। राम रहीम को सजा के खिलाफ उसके गुंड़ो ने हरियाणा समेत देश की कई राज्यों में तोड़फोड़,हिंसा और आगजनी की तमाम घटनाओं को अंजाम दिया था। ऐसे में राज्य की सरकार और प्रशासन नहीं चाहेंगे कि हिंसा की आग में हरियाणा फिर से जले। इसके लिए ही इस बार सरकार ने हिसार में 1300 पुलिस जवान जिसमे 700 जवान दूसरे राज्यों से बुलाए गए हैं, उन्हें यहां पर तैनात किया है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.