Sunday, Dec 15, 2019
ranjan gogoi supreme court  rti transparency

CJI का दफ्तर RTI के दायरे में आएगा या नहीं, कल अदालत सुनाएगी फैसला

  • Updated on 11/12/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल।  बुधवार को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) की संवैधानिक बेंच आरटीआई (RTI) से जुड़े एक महत्वपूर्ण मुद्दे पर अपना फैसला सुना सकती है। कोर्ट बुधवार को निर्णय करेगी की पारदर्शिता के हिसाब से CJI का ऑफिस सूचना के अधिकार कानून के दायरे में आएगा की नहीं। कोर्ट ने इस मामले पर सुनवाई अप्रैल में ही पूरी कर ली थी और अपना फैसला सुरक्षित रख लिया था।
कैबिनेट बैठक के बाद 11वें BRICS सम्मेलन के लिए रवाना हुए पीएम मोदी


क्या है पूरा मामला
बता दें कि केन्द्रीय सूचना आयोग ने कहा था कि सुप्रीम कोर्ट के मुख्य न्यायधीश का ऑफिस आरटीआई के दायरे में आता है। जिसे हाईकोर्ट (highcourt) ने सही ठहराया था मगर 2010 में सुप्रीम कोर्ट की एक रजिस्ट्री ने चुनौती दी औ कोर्ट ने उस पर स्टे लगा दिया था जिस पर कल फैसला आने वाला है।  
सीएम योगी आदित्यनाथ जल्द ही जाएंगे अयोध्या, साधु-संतो से करेंगे मुलाकात

वकील प्रशांत भूषण ने की पैरवी 
वरिष्ठ वकील प्रशात भूषण (Prashant Bhushan) ने पारर्दशिता का समर्थन करते हुए इस मामले में कहा था कि देश के जज बहुत ही बेहतर काम करते हैं लेकिन फिर भी पारदर्शिता को देखते हुए सभी जज सूचना के कानून के दायरे में आने चाहिए

सीएम योगी आदित्यनाथ जल्द ही जाएंगे अयोध्या, साधु-संतो से करेंगे मुलाकात

रंजन गोगोई ने क्या कहा
इस पूरे मामले पर सुनवाई के दौरान मुख्य न्यायधीश रंजन गोगोई ने इस फैसले पर कहा था  कि कोई नहीं चाहता कि कुछ भी अंधेरे में रखा जाए और सिस्टम में किसी तरह की अपारदर्शिता नहीं रखी जाए लेकिन फिल्हाल फैसला सुरक्षित रखा जाता है।  
 

comments

.
.
.
.
.