Sunday, Jun 16, 2019

फरवरी में दुष्कर्म की शिकार हुई युवती,अदालत के आदेश पर अब हुआ मुकदमा दर्ज

  • Updated on 5/20/2019

हरिद्वार/ब्यूरो। उत्तराखंड में महिलाओं के प्रति अपराध को लेकर पुलिस और व्यवस्था संवेदनहीन नजर आने लगी है। 12 फरवरी को कनखल थाना क्षेत्र के एक गांव में रहने वाली युवती को कुछ दबंग अपहरण कर एक डेयरी में ले गए। उसके कपड़े फाड़ डाले। फिर आठ लोगों ने रेप किया।

उसकी वीडियो बनाई और वायरल कर दिया। युवती थाने से लेकर पुलिस तक दौड़ती रही, लेकिन उसकी एफआईआर दर्ज नहीं हुई। 19 मई देर रात को अदालत के आदेश पर आठ लोगों के खिलाफ पुलिस ने मुकदमा दर्ज किया गया है। अब जाकर पुलिस मामले की तहकीकात करने की बात कह रही है।

लोकसभा चुनाव के दौरान अलवर में एक युवती के साथ हुए रेप के मामले को दबाने पर जहां भाजपा ने हंगामा काट रखा है, वहीं भाजपा शासित राज्य में उसकी पुलिस का यह नमूना उसे मुंह चिढ़ा रहा है। युवती की शिकायत के मुताबिक, 12 फरवरी शाम वह अपनी मां को ढूंढने घर से निकली थी। उसे कुछ लोग रास्ते से उठाकर एक डेयरी में ले गए। फिर उसके साथ सामूहिक दुष्कर्म हुआ।

उसे धमकी दी गई कि किसी को कुछ भी बताया तो जान से मार डाला जाएगा। जब बेटी की तलाश में उसकी मां डेयरी में पहुंची, तो उसे भी मार पीटकर भगा दिया गया। युवती और उसकी मां ने गांववालों से मदद की गुहार लगाई, लेकिन दबंगों के डर से किसी ने साथ नहीं दिया।

जब पुलिस ने भी एफआईआर नहीं लिखी, तो पीड़िता ने अदालत की शरण ली। अब अदालत के आदेश पर रविवार देर रात गांव के ही आसिफ, गुड्डू, सावेज, अहसान, कल्लू, शहबान, खुस्सू और कुर्बान के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर लिया गया है। कनखल एसओ हरिओम राज चौहान ने बताया कि अदालत के आदेश पर युवती की तहरीर पर आठ लोगों के खिलाफ रेप, छेड़छाड़, वीडियो वायरल करने सहित अन्य मामलों में मुकदमा दर्ज किया गया है। मामले की जांच की जा रही है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.