Sunday, Sep 26, 2021
-->

रविशंकर प्रसाद का बयान, साइबर हमले का भारत पर असर नहीं

  • Updated on 5/16/2017

Navodayatimesनई दिल्ली/टीम डिजिटल। पूरे विश्व में साइबर हमले का खतरा बना हुआ है। 150 से ज्यादा देश इसकी चपेट में आ चुके हैं। ऐसे में देश के आईटी मिनिस्टर रवि शंकर प्रसाद का कहना है कि इस हमले से यहां कोई बड़ा नुकसान नहीं हुआ है।

उन्होंने हाल ही इस मसले पर कहा है कि भारत पर कोई विशेष असर नहीं पड़ा, कुछ इक्का-दुक्का मामले हैं। उनसे निपटा जा रहा है।'प्रसाद ने कहा कि जहां-जहां असर हुआ है, वहां-वहां मॉनिटरिंग चल रही है।

पूर्व केंद्रीय मंत्री पी. चिदंबरम के घर CBI की रेड, कुल 16 जगहों पर छापेमारी

उन्होंने कहा कि जून से साइबर कोऑर्डिनेशन सेंटर भी शुरू हो जाएगा। प्रसाद ने कहा कि आज सुबह ही रैनसमवेयर के संभावित खतरों की समीक्षा की थी। विदेशों की तरह भारत पर कोई इसका बड़ा असर नहीं है। भारत पूरी तरह सतर्क है और बैंकिंग, टेलीकाम, बिजली और उड्डयन सेवाओं को हाई अलर्ट पर रखा गया है

साइबर हमले के खतरों और आशंकाओं के बीच सरकार ने कहा है कि केरल और आंध्र प्रदेश की छिटपुट घटनाओं को छोड़कर देश में कहीं भी इसका कोई गंभीर प्रभाव नहीं हुआ है। अलबत्ता सरकार का सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय पूरी तरह सतर्क है और स्थिति पर नजर बनाये हुए है। उधर कुछ राज्यों ने अपने विभागों और रिजर्व बैंक ने बैंकों से कहा है कि इस संबंध में वे केंद्र सरकार के कंप्यूटर इमरजेंसी रिस्पांस टीम के दिशानिर्देशों का पालन करें।

 PM मोदी की ऐतिहासिक जीत के तीन साल पूरे, एक सप्ताह मनेगा जश्न

 प्रसाद ने कहा है कि  रेनसमवेयर साइबर अटैक का बहुत गंभीर असर की सूचना नहीं मिली है। उन्होंने कहा कि नेशनल इन्फॉरमैटिक्स सेंटर द्वारा चलाया जा रहा सिस्टम भी बिना किसी दिक्कत के काम कर रहा है।

इस हमले से रूस और यूके समेत करीब 150 देशों में नेटवर्क प्रभावित हुआ है। इसे अब तक का सबसे बड़ा साइबर हमला बताया जा रहा है।देश में करीब 2.2 लाख एटीएम काम कर रही हैं और ज्यादातर पुराने विंडोज एक्सपी साफ्टवेयर से संचालित होती हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.