ravidas temple dispute manoj tiwari fires on aam aadmi party said temple will be built there

रविदास मंदिर विवाद: तिवारी ने आम आदमी पार्टी पर बोला हमाल, कहा- वहीं बनेगा मंदिर

  • Updated on 8/24/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दिल्ली (Delhi) में संत रविदास का मंदिर (Ravidas Mandir) गिराए (Collapse) जाने के बाद दील्ली के दलितों (Dalits) में खुशी नहीं है। इस मसले पर दिल्ली की सियासत भी गर्म हो गई है। दिल्ली की केजरीवाल (Arvind Kejriwal) सरकार (Delhi Government) ने फैसला किया है कि जहां मंदिर तोड़ा गया वहीं पर अब एक भव्य मंदिर बनाया जाएगा। जिसके लिए दिल्ली विधानसभा (Delhi Assembly) में प्रस्ताव भी पारित कर दिया गया है। तो वहीं अब इस मुद्दे पर आम आदमी पार्टी (AAP) और BJP आमने-सामने है। जहां आम आदमी पार्टी इसके लिए BJP को जिम्मेदार ठहरा रही है। और BJP आम आदमी पार्टी पर इसे लेकर आरोप लगा रही है। 

तमिलनाडु: विरुधुनगर की पटाखा फैक्ट्री में लगी आग, 3 लोगों की मौत

रविदास मंदिर मामले में मनोज तिवारी ने AAP बोला हमला

रविदास का मंदिर गिराए जाने के मुद्दे पर अब दिल्ली के BJP अध्यक्ष मनोज तिवारी (Manoj Tiwari) ने भी बड़ा बयान दिया है। तिवारी ने कहा कि, 'जहां रवि दास जी का मंदिर था मंदिर वहीं बनेगा। बीजेपी (BJP) को चाहे कोर्ट जाना पड़े या फिर सरकार को इसको लेकर कोई फैसला लेना हो, संत रविदास जी का मंदिर वहीं बनवाएंगे।'

समाजवादी पार्टी में जारी है बदलाव का दौर, अखिलेश ने सपा के कई समितियों को किया भंग

दिल्ली में पता नहीं कौन चलाता है सरकार- मनोज तिवारी 

मनोज तिवारी ने आगे कहा कि, 'मंदिर जहां था अब वहीं बनेगा। BJP किसी भी हालत में इसका रास्ता निकलेगी और मंदिर वहीं बनाएगी। ऐसा नहीं हो सकता था कि भारत BJP के शासन रहते ये मंदिर टूट जाता।' तिवारी ने केजरीवाल सरकार पर हमला करते हुए ये भी कहा कि, 'दिल्ली में पता नहीं चलता कि सरकार कौन चला रहा है। जब मंदिर गिराया जा रहा था तब दिल्ली सरकार के SDM, पटवारी और लेखपाल क्या कर रहे थे?'

J&K: कठुआ में प्रशासन का बड़ा फैसला, सोशल मीडिया एडमिन को थाने में पंजीकृत कराना होगा ग्रुप

रविदास मंदिर पर दिल्ली की सियासत गर्म

दिल्ली में आगामी विधानसभा को देखते हुए इस मुद्दे पर सियासत गर्माना लाजमी है। दिल्ली में अगर दलित जनसंख्या की बात करें तो दिल्ली में 70 में से 12 सीटों पर दलित समाज ही फैसला करती है। साल 2011 जनगणना के मुताबिक दिल्ली में दलित और जाटव की आबादी करीब 28 लाख के करीब है। जिसे लेकर आम आदमी पार्टी और BJP में गर्मा-गर्मी होना आम बात है। जिस जगह पर रविदास का मंदिर था उसे रवि दास मार्ग कहा जाता है। इस वक्त मंदिर जाने के रास्ते को दीवार से ढक दिया गया है और वहां पुलिस का जबरदस्त पहरा है।

प्रियंका ने दागा सवाल- मोदी सरकार बताए, अर्थव्यवस्था की दुर्दशा क्यों है?

10 अगस्त DDA ने ढहाया था रविदास मंदिर

दरअसल सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के आदेश पर 10 अगस्त को डीडीए (DDA) ने तुगलकाबाद (Tuglakabad) के जहांपनाह वनक्षेत्र में बने हुए रविदास मंदिर को ध्वस्त (Destroyed) कर दिया था। जिसके विरोध में दलित समुदाय के लोगों ने दिल्ली में जमकर प्रदर्शन और तोड़फोड़ की। इस मामले में गोविंदपुरी थाना पुलिस ने भीम आर्मी के चीफ चंद्रशेखर (Chandrashekhar) उर्फ 'रावण' समेत करीब 80 लोगों को हिरासत में ले लिया, जिन्हें बुधवार देर रात गिरफ्तार करने की बात कही गई थी।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.