Tuesday, Mar 02, 2021
-->
raw chief is getting criticism from nepal prime minister kp sharma oli rkdsnt

रॉ प्रमुख की नेपाल के प्रधामनंत्री से भेट को लेकर हो रही है आलोचना

  • Updated on 10/23/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। नेपाल के प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली द्वारा कूटनीतिक नियमों की अनदेखी कर भारत की खुफिया एजेंसी रिसर्च एंड एनालायसिस विंग (RAW) के प्रमुख सामंत कुमार गोयल के साथ भेंट करने के कारण वह सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी समेत विभिन्न नेताओं की आलोचना के केन्द्र में आ गये हैं। गोयल ने बुधवार शाम को यहां ओली से उनके सरकारी निवास पर भेंट की थी। हालांकि भारतीय खुफिया एजेंसी के प्रमुख की यात्रा सत्तारूढ़ नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी (एनसीपी) समेत कुछ राजनीतिक नेताओं को रास नहीं आयी। 

चिदंबरम ने 19 लाख रोजगार के वादे को लेकर BJP पर किया कटाक्ष

सत्तारूढ़ दल के नेता भीम रावल ने कहा कि रॉ प्रमुख गोयल और प्रधानमंत्री ओली के बीच जो बैठक हुई, वह कूटनीतिक नियमों के विरूद्ध है और इससे नेपाल के राष्ट्रहितों की पूर्ति नहीं हुई। उन्होंने कहा, ‘‘चूंकि यह बैठक विदेश मंत्रालय के संबंधित संभाग के साथ बिना परामर्श के गैर पारदर्शी तरीके से हुई, ऐसे में इससे हमारी राजकीय प्रणाली कमजोर भी होगी।’’ एनसीपी के विदेश मामलों के प्रकोष्ठ के उपप्रमुख विष्णु रिजाल ने कहा, ‘‘कूटनीति नेताओं के द्वारा नहीं बल्कि राजनयिकों द्वारा संभाली जानी चाहिए। रॉ प्रमुख की यात्रा पर वर्तमान संशय कूटनीति राजनेताओं द्वारा संभाले जाने का परिणाम है।’’ 

हेलीकॉप्टर घोटाला: बिचौलिये राजीव सक्सेना को कोर्ट ने दी अंतरिम जमानत

नेपाली कांग्रेस के केंद्रीय नेता गगन थापा ने ट्वीट किया, ‘‘ यह बैठक न केवल कूटनीतिक नियमों का उल्लंघन है बल्कि हमारी राष्ट्रीय सुरक्षा पर खतरा भी पैदा करती है। इसकी जांच की जानी चाहिए।’’ नेपाल के तीन पूर्व प्रधानमंत्री-- प्रचंड पुष्प कमल दहल प्रचंड, माधव कुमार नेपाल (दोनों एनसीपी के नेता) और नेपाली कांग्रेस के शेर बहादुर देउबा ने मीडिया की इन खबरों का खंडन किया कि उनकी भी रॉ प्रमुख के साथ बैठक हुई। 

कमलनाथ बोले- एक्टिंग में शाहरुख-सलमान को भी मात दे सकते हैं शिवराज चौहान

गोयल की यात्रा भारतीय सेना के प्रमुख जनरल एम एम नरवणे की नवंबर के पहले सप्ताह में होने वाली नेपाल यात्रा से पहले हुई है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा आठ मई को उत्तराखंड में लिपुलेख और धारचूला को जोडऩे वाले 80 किलोमीटर लंबे रणनीतिक रूप से अहम मार्ग का उद्घाटन किये जाने के बाद दोनों देशों के बीच तनाव पैदा हो गया था। 

BJP के फ्री वैक्सीन के चुनावी वादे पर AAP ने बिहार की जनता को चेताया

नेपाल ने यह दावा करते हुए इस उद्घाटन का विरोध किया था कि यह सड़क उसके क्षेत्र से गुजरती है। कुछ दिनों बाद उसने नया मानचित्र जारी किया और लिपुलेख, कालापानी को अपनी सीमा के अंदर दिखाया। भारत ने भी नवंबर, 2019 में नया मानचित्र जारी किया था जिसमें इन क्षेत्रों केा अपनी सीमा के अंदर दिखायाथा। नेपाल के मानचित्र जारी करने पर भारत ने कड़ी प्रतिक्रिया जारी की और इसे ‘एकतरफा कृत्य ’ करार दिया। उसने कहा कि ‘क्षेत्रीय दावे का कृत्रिम विस्तार उसे स्वीकार्य नहीं है।

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.