Sunday, Jan 23, 2022
-->
rbi dissolves board of directors of anil ambani reliance capital appointed administrator rkdsnt

रिलायंस कैपिटल के निदेशक मंडल को RBI ने किया भंग, प्रशासक नियुक्त

  • Updated on 11/29/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारतीय रिजर्व बैंक ने सोमवार को अनिल अंबानी की अगुवाई वाले रिलायंस समूह की कंपनी रिलायंस कैपिटल लि. (आरईएल कैप) के निदेशक मंडल को भंग करते हुए प्रशासक की नियुक्ति की है। कंपनी के भुगतान बाध्यताओं को पूरा करने में विफल रहने के बाद यह कदम उठाया गया है। 

संसद में कृषि कानून वापस : सपा और बसपा ने लोकतंत्र की वास्तविक जीत करार दिया

रिजर्व बैंक ने कहा कि निदेशक मंडल को भंग कर दिया गया है। ‘‘कंपनी के अपने कर्जदाताओं को कर्ज लौटाने में चूक और कंपनी संचालन से जुड़ी गंभीर चिंताओं को देखते हुए यह कदम उठाया गया। कंपनी का निदेशक मंडल इन मुद्दों का समाधान प्रभावी तरीके से नहीं कर पाया।’’ केंद्रीय बैंक ने बैंक ऑफ महाराष्ट्र के पूर्व कार्यकारी निदेशक नागेश्वर राव वाई को गैर-बैंकिंग वित्तीय कंपनी (एनबीएफसी) का प्रशासक नियुक्ति किया है। 

केजरीवाल ने चुनावों से पहले पंजाबी में पंजाब की माताओं-बहनों से की अपील

केंद्रीय बैंक ने एक बयान में कहा, ‘‘रिजर्व बैंक जल्दी ही ऋण शोधन अक्षमता और दिवाला (वित्तीय सेवा प्रदाताओं की दिवाला और परिसमापन कार्यवाही और न्यायनिर्णय प्राधिकरण को आवेदन) नियम, 2019 के तहत कंपनी को लेकर समाधान प्रक्रिया शुरू करेगा। रिजर्व बैंक राष्ट्रीय कंपनी विधि न्यायाधिकरण (एनसीएलटी), मुंबई से भी ऋण शोधन समाधान पेशेवर के रूप में प्रशासक नियुक्त करने का आग्रह करेगा। 

Twitter के सह-संस्थापक जैक डॉर्सी छोड़ेंगे CEO का पद, भारतीय मूल के अग्रवाल लेंगे जगह 

 


यूनियन बैंक ऑफ इंडिया पर एक करोड़ रुपये का जुर्माना 
भारतीय रिजर्व बैंक ने नियामकीय अनुपालन में खामियों के लिए यूनियन बैंक ऑफ इंडिया पर एक करोड़ रुपये का जुर्माना लगाया है। केंद्रीय बैंक ने सोमवार को यह जानकारी दी।  रिजर्व बैंक की ओर से 25 नवंबर को इस बारे में आदेश जारी किया गया है। केंद्रीय बैंक ने कहा कि भारतीय रिजर्व बैंक (धोखाधड़ी-वाणिज्यिक बैंकों और चुनिंदा वित्तीय संस्थानों द्वारा वर्गीकरण एवं रिपोर्टिंग) निर्देशों-2016 के कुछ प्रावधानों तथा बैंकों के लिए दबाव वाली संपत्तियों की बिक्री से संबंधित दिशानिर्देशों के अनुपालन में कमी के लिए यह जुर्माना लगाया गया है।       केंद्रीय बैंक ने कहा कि उसने 31 मार्च, 2019 तक बैंक की वित्तीय स्थिति के संदर्भ में सांविधिक निरीक्षण और निगरानी आकलन (आईएसई) किया था। 

शिअद से अलग हुए गुट और BJP के साथ सीटों का बंटवारा कर बनाएंगे सरकार: अमरिंदर सिंह

comments

.
.
.
.
.