Friday, Oct 30, 2020

Live Updates: Unlock 5- Day 29

Last Updated: Thu Oct 29 2020 09:53 PM

corona virus

Total Cases

8,071,140

Recovered

7,348,613

Deaths

120,909

  • INDIA8,071,140
  • MAHARASTRA1,666,668
  • ANDHRA PRADESH1,648,665
  • KARNATAKA812,784
  • TAMIL NADU716,751
  • UTTAR PRADESH476,034
  • KERALA418,485
  • NEW DELHI375,753
  • WEST BENGAL365,692
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • ODISHA287,099
  • TELANGANA234,152
  • BIHAR214,163
  • ASSAM205,635
  • RAJASTHAN191,629
  • CHHATTISGARH181,583
  • GUJARAT170,053
  • MADHYA PRADESH168,483
  • HARYANA162,223
  • PUNJAB132,263
  • JHARKHAND100,224
  • JAMMU & KASHMIR92,677
  • CHANDIGARH70,777
  • UTTARAKHAND61,261
  • GOA42,747
  • PUDUCHERRY34,482
  • TRIPURA30,290
  • HIMACHAL PRADESH21,149
  • MANIPUR17,604
  • MEGHALAYA8,677
  • NAGALAND8,296
  • LADAKH5,840
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS4,274
  • SIKKIM3,863
  • DADRA AND NAGAR HAVELI3,227
  • MIZORAM2,359
  • DAMAN AND DIU1,381
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
rbi released list of 30 largest willful defaulters in the country

RBI ने जारी की देश के 30 सबसे बड़े विलफुल डिफॉल्टर्स की लिस्ट

  • Updated on 11/23/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के आदेश के 4 साल आखिरकार भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) ने उन बैंक डिफाल्टरों की सूची जारी की है जिसने जानबूझकर बैंकों का लोन नहीं लौटाया है। इनमें से कुछ तो देश छोड़कर फरार हो चुके हैं।

विदेशी मुद्रा भंडार ने मारी बड़ी छलांग, 44.1 करोड़ डॉलर की हुई बढ़ोत्तरी

मेहुल चौकसी की गीतांजलि जेम्स टॉप पर
आरबीआई ने 'द वायर' को सूचना का अधिकार (RTI) के तहत मांगी गई जानकारी में 30 बड़े बैंक डिफॉल्टरों (Bank Defaulters) के विवरण का खुलासा किया है। मई 2019 में दाखिल आरटीआई आवेदन के जवाब में रिजर्व बैंक ने 30 अप्रैल 2019 तक 30 बड़े डिफाल्टरों के विवरण दिए हैं। इन 30 कंपनियों के पास कुल 50,000 करोड़ रुपए से ज्यादा का बकाया है। इनमें हीरा कारोबारी मेहुल चोकसी (Mehul Choksi) और नीरव मोदी (Nirav Modi) की कंपनियों के भी नाम हैं। मेहुल चोकसी की गीतांजलि जेम्स (Gitanjali Gems) इस सूची में टॉप पर है।

नाम राशि (करोड़ों रुपए में) नाम राशि (करोड़ों रुपए में)
गीतांजलि जेम्स लि. 5044 वीएमसी सिस्टम्स लि. 1314
आरईआई एग्रो लि. 4197 गुप्ता कोल इंडिया प्राइवेट लि. 1349
विनसम डायमंड्स एंड ज्वैलरी लि. 3386 नक्षत्र ब्रांड लि. 1314
रुचि सोया इंडस्ट्रीज लि. 3225 इंडियन टैक्नोमैक कंपनी लि. 1091
रोटोमैक ग्लोबल प्राइवेट लि. 2844 श्री गणेश ज्वेलरी हाउस लि. 1085
किंगफिशर एयरलाइंस लि. 2488 जैन इंफ्राप्रोजेक्ट्स लि. 1076
कुडोस कैसे. लिमिटेड 2326 सूर्या फार्मास्यूटिकल्स लि. 1065
जूम डेवलपर्स प्राइवेट लि. 2024 नाकोडा लि. 1028
डेक्कन क्रॉनिकल होल्डिंग्स लि. 1951 के एस ऑयल्स लि. 1026
एबीजी शिपयार्ड लि. 1875 कोस्टल प्रोजेक्ट लि. 984
फॉरएवर प्रीसियस ज्वैलरी   हनुंग टॉयज एंड टेक्सटाइल्स लि. 949
एंड डायमंड्स 1718 फर्स्ट लिविंग कंपनी ऑफ इंडिया लि. 929
सूर्य विनायक इंडस्ट्रीज लि. 1628 कॉनकास्ट स्टील एंड पावर लि. 888
एस कुमार्स नेशनवाइड लि. 1581 एक्शन इस्पात एंड पावर प्राइवेट लि. 888
गिली इंडिया लि. 1447 डायमंड पावर इंफ्रास्ट्रक्चर 869
सिद्धिविनायक लॉजिस्टिक्स लि. 1349    

 

कैबिनेट का बड़ा फैसला, BPCL सहित पांच कंपनियों की हिस्सेदारी बेचेगी सरकार

11,000 कंपनियों के पास 1.61 लाख करोड़ से ज्यादा की रकम बकाया
सिबिल डाटा के मुताबिक दिसंबर 2018 तक 11,000 कंपनियों के पास कुल 1.61 लाख करोड़ रुपए से ज्यादा की रकम का बकाया है। आरबीआई द्वारा जारी विलफुल डिफॉल्टर का डाटा केन्द्रीयकृत बैंकिंग प्रणाली डाटाबेस से आता है जिसे सेंट्रल रिपॉजिटरी ऑफ़ इन्फॉर्मेशन ऑन लार्ज क्रेडिट (CRILC) कहा जाता है। यह 5 करोड़ से ऊपर की उधारी देने वाले सभी उधारकर्ताओं की क्रैडिट जानकारी का एक केन्द्रीयकृत पुल है।

comments

.
.
.
.
.