Monday, May 23, 2022
-->
rbi releases report on npas of banks by 2022 crisis may increase rkdsnt

RBI ने 2022 तक बैंकों के NPA को लेकर जारी की रिपोर्ट, बढ़ सकता है संकट

  • Updated on 12/29/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) ने कहा है कि अगर कोरोना वायरस के नये स्वरूप ओमीक्रोन से अर्थव्यवस्था पर प्रतिकूल असर पड़ता है, तो बैंकों का सकल एनपीए (गैर-निष्पादित परिसंपत्ति) यानी फंसा कर्ज सितंबर, 2022 तक बढ़कर 8.1-9.5 प्रतिशत तक पहुंच सकता है। यह सितंबर, 2021 में 6.9 प्रतिशत था।

GST परिषद की बैठक 31 दिसंबर को, दरों को युक्तिसंगत बनाने पर होगी चर्चा

 

 आरबीआई की बुधवार को जारी वित्तीय स्थिरता रिपोर्ट में यह कहा गया है। इसमें यह भी कहा गया है कि बैंकों के खुदरा ऋण पोर्टफोलियो में बढ़ता दबाव आवास ऋण की अगुवाई में है, जिसमें इस वित्त वर्ष में अबतक दहाई अंक में वृद्धि हुई है। पिछले कई साल से खुदरा कर्ज बैंक ऋण का मुख्य आधार बना हुआ है। 

राष्ट्रीय अल्पसंख्यक आयोग ने कथित घृणा भाषणों, गिरजाघरों पर हमलों का संज्ञान लिया

इसमें कहा गया है कि हालांकि संपत्ति गुणवत्ता बेहतर हुई है, सकल एनपीए और शुद्ध एनपीए अनुपात सितंबर, 2021 में घटकर क्रमश: 6.9 प्रतिशत और 2.3 प्रतिशत पर आ गया। लेकिन निजी क्षेत्र के बैंकों में संपत्ति गुणवत्ता में कमी की दर अधिक होने से फंसा कर्ज अनुपात बढ़ा है। 

प्रियंका गांधी बोलीं- 'जितनी बड़ी-बड़ी संस्थाएं हैं, वे सब पीएम मोदी के मित्रों को बेच दी गई हैं

दबाव परीक्षण के आधार पर रिपोर्ट में आगाह किया गया है कि सकल एनपीए अनुपात तुलनात्मक परिदृश्य के आधार पर सितंबर, 2022 तक बढ़कर 8.1 प्रतिशत हो सकता है। और अगर अर्थव्यवस्था ओमीक्रोन लहर से प्रभावित होती है, तो गंभीर दबाव की स्थिति में यह 9.5 प्रतिशत तक जा सकता है। 

पीयूष जैन छापा मामला : ओवैसी बोले- पीएम मोदी को स्वीकार करना चाहिए कि नोटबंदी नाकाम रही

सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों का सकल एनपीए सितंबर, 2021 में 8.8 प्रतिशत था और सितंबर, 2022 तक उछलकर तुलनात्मक आधार पर 10.5 प्रतिशत तक जा सकता है। वहीं निजी क्षेत्रों के बैंकों का सकल एनपीए उक्त अवधि में 4.6 प्रतिशत से बढ़कर 5.2 प्रतिशत हो सकता है। विदेशी बैंकों के लिये यह 3.2 प्रतिशत से बढ़कर 3.9 प्रतिशत हो सकता है।     

विपक्षी नेताओं के समर्थन के बाद प्रदर्शनकारी रेजिडेंट डॉक्टरों के हौसले बुलंद

comments

.
.
.
.
.