Friday, Feb 26, 2021
-->
reaction of farmer leaders before and after tractor rally violence kmbsnt

किसान हिंसा के बाद बयान से पलटे किसान नेता, पढ़ें- पहले और बाद की प्रतिक्रिया

  • Updated on 1/27/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। ट्रैक्टर रैली (Tractor Rally) की आड़ में 26 जनवरी के दिन देश की राजधानी के कई इलाकों में जमकर हिंसा हुई। रैली से पहले किसान नेतओं ने दावा किया था कि रैली शांतिपूर्ण ढंग से आयोजित की जाएगी। लेकिन रैली के दौरान सामने आई वीडियो और तस्वीरें हिंसा की तस्दीक करती हैं। 72 वें गणतंत्र दिवस समारोह को दिल्ली में किसान आंदोलन की आड़ में हुई हिंसा के लिए याद रखा जाएगा। इस दौरान किसान नेताओं ने पहले शांतिपूर्ण रैली का दावा करके पुलिस की अनुमति ली और उसके बाद जो हिंसा हुई उसकी जिम्मेदारी लेने से भी साफ इनकार कर दिया। 

किसानों का आरोप है कि पुलिस ने रैली निकालने नहीं दी। वहीं पुलिस ने कहा है कि किसानों ने उनके विश्वास को तोड़ा और तय 37 शर्तों में से एक का भी पालन नहीं किया। पूरी घटना को लेकर अब तक 15 एफ आई आर दर्ज की गई है। राजधानी दिल्ली में सुरक्षा कड़ी कर दी गई है।

आचार्य प्रमोद का तंज-  लाल किले का इतना “अपमान” तो किसी “कमजोर” PM के दौर में भी नहीं हुआ

किसान नेताओं ने रैली से पहले क्या कहा था-

राकेश टिकैत: भारतीय किसान यूनियन के नेता राकेश टिकैत जो दो माह से नए कृषि कानूनों को रद्द करने की मांग को लेकर दिल्ली सीमा पर धरने पर बैठे हैं उन्होंने शांतिपूर्ण रैली का वादा किया था। उन्होंने कहा था कि हम किसी भी प्रकार से कानूनी नियमों का उल्लघंन नहीं होने देंगे। ट्रैक्टर परेड में हिंसा का सवाल ही नहीं है। हालांकि रैली से पहले टिकैत का वीडियो वायरल हुआ जिसमें उन्होंने प्रदर्शनकारियों से अपने साथ लाठी लाने की अपील की। 

योगेंद्र यादव: ट्रैक्टर रैली से पहले योगेंद्र यादव ने कहा था कि शांतिपूर्ण तरीके से विरोध होगा। इस रैली में कोई भी हथियार न लाए। भड़काऊ भाषण न दें और किसी भी प्रकार से हिंसा में शामिल न हो। 

बलवीर सिंह राजेवाल: ट्रैक्टर रैली में शांति बनाए रखें, जिस प्रकार से इतने दिन आंदोलन शांतिपूर्ण हुआ है उसी प्रकार से रैली भी शांतिपूर्ण तरीके से पूरी की जाए। 

दर्शनपाल सिंह: ट्रैक्टर रैली के दौरान सब शांति बनाए रखें। अनुशासित रहें और ट्रैक्टर में किसी भी तरह का स्टंट न करें। अप्रिय घटना होने पर हमारे लिए चिंता बढ़ेगी। 

हिंसा से आहत संयुक्त किसान मोर्चा ने तत्काल प्रभाव से किसान ट्रैक्टर परेड वापस ली

रैली केे बाद किसान नेताओं ने क्या कहा-

26 जनवरी को रैली शुरू होने के बाद ही प्रदर्शनकारी हिंसक हो गए थे। आईटीओ पर पुलिस मुख्यालय के सामने उपद्रवियों ने पुलिस पर पथराव किया और सड़कों पर घंटों ट्रैक्टरों से स्टंट किए। नांगलोई, अक्षरधाम, सिंघु बॉर्डर, टिकरी बॉर्डर, पीरागढ़ी, अप्सरा बॉर्डर, मुकरबा चौक, आजादपुर मेट्रो स्टेशन के पास हिंसा हुई और करोड़ों की संपत्ति को नुकसान पहुंचाया गया।

राकेश टिकैत: हमारी रैली शांतिपूर्ण है, हिंसा कौन कर रहा है हम नहीं जानते हमें कुछ नहीं पता। पुलिस ने तय रूट पर भी ट्रैक्टर लगाए। लाल किले पर जो कुछ हुआ उसमें उनके संगठन का हाथ नहीं है। दीप सिद्धू जैसे लोग किसानों को भड़का रहे थे। 

योगेंद्र यादव: जिन लोगों ने भी हिंसा की वो हमारे लोग नहीं है। कुछ लोग पहले से ही हिंसक थे और भड़काऊ भाषण भी दे रहे थे, कि वो लाल किले पर जाएंगे। हिंसा करने वालों के खिलाफ कार्रवाई होनी चाहिए। दीप सिद्धू जैसे लोगों ने युवाओं को भड़काया। 

संयुक्त किसान मोर्चा: जो भी हिंस हुई है उसमें हमारे संगठन के लोग नहीं है। हुड़दंगी रैली में घुसे और उन्होंने हिंसा को अंजाम दिया। हम अपनी ट्रैक्टर रैली वापस ले रहे हैं। बहकावे में आने के बाद कई लोग अलग-अलग रास्तों पर अपने ट्रैक्टर ले जाने लगे। 

ये भी पढ़ें:

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.