Sunday, Jan 23, 2022
-->
recruitment scam: haryana public service commission deputy secretary anil nagar sacked rkdsnt

भर्ती घोटाला: हरियाणा लोक सेवा आयोग के उप सचिव बर्खास्त, कांग्रेस का विरोध-प्रदर्शन

  • Updated on 12/7/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। हरियाणा लोक सेवा आयोग (एचपीएससी) के निलंबित उप सचिव को राज्य सरकार ने सेवा से मंगलवार को बर्खास्त कर दिया। उन्हें दंत सर्जन की भर्ती को रिश्वत लेकर प्रभावित करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है। एचपीएससी के उप सचिव अनिल नागर को हरियाणा सतर्कता ब्यूरो के अधिकारियों ने दो अन्य लोगों के साथ गिरफ्तार किया था। उसकी गिरफ्तारी दंत सर्जन के लिए लिखित परीक्षा में परीक्षार्थियों से रिश्वत लेकर उनके अंक बढ़ाकर भर्ती प्रक्रिया को प्रभावित करने के आरोप में की गई थी। 

यूपी विधानसभा चुनाव : सपा-रालोद ने की गठबंधन की औपचारिक घोषणा

सरकारी आदेश में कहा गया है कि नागर को उसकी गिरफ्तारी की तारीख 11 नवंबर को ही निलंबित कर दिया गया था और इस बात में कोई शक नहीं है कि आरोपी ने सबसे निंदनीय तरीके से काम किया है, जिसकी सरकारी कर्मी से उम्मीद नहीं की जाती है। हरियाणा लोक सेवा के अधिकारी को बर्खास्त करने वाले आदेश में कहा गया है कि आरोपी ने गंभीर कदाचार का प्रदर्शन किया है, जिससे आम जनता की नजर में राज्य सरकार की छवि धूमिल हो रही है। इसके अलावा, इस तरह की अनैतिक गतिविधियों से राज्य सरकार की बहुत बदनामी होती है। 

मोदी सरकार के प्रस्ताव को लेकर फिर बैठक करेगा संयुक्त किसान मोर्चा

बर्खास्तगी का आदेश सरकार द्वारा संविधान के अनुच्छेद 311(2)(बी) के तहत जारी किया गया है जो सक्षम प्राधिकारी को बिना किसी विभागीय जांच के किसी सरकारी कर्मचारी को बर्खास्त करने, हटाने या रैंक को कम करने का अधिकार देता है।  राज्य सतर्कता ब्यूरो ने अपनी रिपोर्ट में उल्लेख किया था कि नागर और एक अन्य आरोपी ने हरियाणा लोक सेवा की प्रारंभिक परीक्षा और दंत सर्जन के इम्तिहान की ओएमआर को प्रभावित किया था। 

मोदी सरकार ने NHPC के निदेशक-कार्मिक को कार्यकाल पूरा होने से पहले किया सेवामुक्त

रिपोर्ट के मुताबिक, नागर के आवास की तलाशी ली गई और 12 लाख रुपये नकद जब्त किए गए और उसके सहयोगी के पास से 2.10 करोड़ रुपये बरामद किए गए थे। आदेश में कहा गया है कि जांच के दौरान अबतक कुल 3.5 करोड़ रुपये बरामद हो चुके हैं और गिरफ्तार तीनों आरोपियों ने बताया कि इसमें कुल 30-32 अभ्यर्थी शामिल हैं।  

विरोध-प्रदर्शन के दौरान सुरजेवाला, सैलजा, विवेक बंसल हिरासत में 
हरियाणा के पंचकूला में मंगलवार को पुलिस ने‘डेंटल सर्जन’की भर्ती में कथित भ्रष्टाचार के खिलाफ विरोध-प्रदर्शन कर रहे कांग्रेस के वरिष्ठ नेता रणदीप सिंह सुरजेवाला, कुमारी सैलजा और विवेक बंसल समेत अन्य पार्टी नेताओं को कुछ देर के लिए हिरासत में लिया। कांग्रेस नेताओं ने भर्ती में घोटाले का आरोप लगाते हुए हरियाणा लोक सेवा आयोग के कार्यालय के घेराव का प्रयास किया, जिसके बाद पुलिस ने उन्हें हिरासत में ले लिया। पुलिस हिरासत में लिए गए नेताओं को पंचकूला पुलिस लाइन ले गई, जहां से कुछ देर बाद उन्हें छोड़ दिया गया। 

बाबा साहेब आंबेडकर के सपने को पूरा करने की केजरीवाल ने खाई कसम

कांग्रेस की हरियाणा इकाई की अध्यक्ष कुमारी सैलजा ने पंचकूला में संवाददाताओं से कहा कि पुलिस ने नेताओं को हिरासत में लेने के कुछ देर बाद छोड़ दिया।  कथित घोटाले पर प्रतिक्रिया देते हुए सैलजा ने कहा,‘’हम शुरू से ही कहते रहे हैं कि शीर्ष पर बैठे लोगों के संरक्षण के बिना ऐसा घोटाला संभव नहीं है। इसलिए, हम उच्च न्यायालय की निगरानी में स्वतंत्र जांच की मांग कर रहे हैं ताकि सच सामने आ सके।‘‘ हरियाणा मामलों के पार्टी प्रभारी बंसल ने आरोप लगाया कि राज्य की भाजपा-जजपा सरकार युवाओं के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रही है। 

रिलायंस कैपिटल के खिलाफ दिवाला प्रक्रिया शुरू करेगा NCLD, नागेश्वर राव कंपनी के प्रशासक

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.