Monday, Jun 27, 2022
-->
red-fort-festival-has-set-high-standards-globally-piyush-goyal

लालकिला महोत्सव ने वैश्विक स्तर पर उच्च मानक स्थापित किए : पीयूष गोयल

  • Updated on 4/4/2022

नई दिल्ली। टीम डिजिटल। लालकिला महोत्सव भारत भाग्य विधाता ने हमारे देश की समृद्ध संस्कृति एवं विरासत के अपने अद्वितीय प्रदर्शन के साथ वैश्विक स्तर पर काफी उच्च मानक स्थापित किया है। उक्त बातें केंद्रीय वाणिज्य एवं उद्योग, उपभोक्ता कार्य, खाद्य एवं सार्वजनिक वितरण और कपड़ा मंत्री पीयूष गोयल ने कहीं। दरअसल संस्कृति एवं पर्यटन मंत्रालय 17वीं शताब्दी के ऐतिहासिक स्मारक पर दस दिनों के उत्सव का आयोजन लालकिला स्मारक मित्र डालमिया भारत लिमिटेड के साथ मिलकर कर रहा था, जिसका रविवार को समापन दिवस था।
अब नहीं होगी सफदरजंग में डायलिसिस के लिए परेशानी

कोविड के बाद उत्सव द्वारा सृजित अवसर प्रशंसनीय : गोयल
गोयल ने कहा कि कोविड के बाद इस उत्सव द्वारा सृजित अवसर कहीं अधिक प्रशंसनीय है जो इस बात का प्रमाण है कि हम किस प्रकार नए भारत की ओर बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि मुझे उम्मीद है कि लालकिला के स्मारक मित्र डालमिया भारत लिमिटेड जैसी कंपनियां हमारे इस प्रयास में शामिल होंगी क्योंकि हम अपनी गौरवशाली विरासत को खोए बिना अपने लोगों के कल्याण पर ध्यान केंद्रित करते हैं। वहीं डालमिया भारत लिमिटेड के प्रबंध निदेशक पुनीत डालमिया ने कहा कि हम भारत सरकार के आभारी हैं कि उन्होंने हमें अपने समृद्ध सांस्कृतिक इतिहास एवं विरासत को लालकिला जैसे वैश्विक मंच पर साझा करने और इस उत्सव में रोजगार की संभावनाएं पैदा करके हमारे समुदायों के लिए जीविका का साधन उपलब्ध कराने का अवसर दिया है।
इंडियन रिवाइवल ग्रुप ने प्रदर्शित किया एक भारत-श्रेष्ठ भारत 

डेढ लाख लोगों ने देखा लालकिला महोत्सव
लालकिला महोत्सव भारत-भाग्य विधाता में मातृभूमि प्रोजेक्शन मैपिंग शो व यात्रा-एक 360 डिग्री इमर्सिव अनुभव और भारत गौरव प्रदर्शनी जैसे अत्याधुनिक अनुभव ने लोगों में देशभक्ति और गर्व की भावना पैदा की। यही वजह रही कि लालकिला महोत्सव के पहले संस्करण को देखने के लिए दस दिनों में करीब डेढ लाख से अधिक लोग पहुंचे थे।

 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.