Thursday, May 06, 2021
-->
red-fort-violence-iqbal-singh-sent-to-police-custody-after-deep-sidhu-rkdsnt

लाल किला हिंसा : दीप सिद्धू के बाद इकबाल सिंह को पुलिस हिरासत में भेजा गया

  • Updated on 2/10/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दिल्ली की एक अदालत ने गणतंत्र दिवस पर तीन नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों की ट्रैक्टर परेड के दौरान लाल किले पर हुई हिंसा के मामले में पंजाब से गिरफ्तार किए गए एक व्यक्ति को बुधवार को सात दिन की पुलिस हिरासत में भेज दिया। दिल्ली पुलिस के विशेष प्रकोष्ठ ने इकबाल सिंह को होशियारपुर से गिरफ्तार किया और आज उसे दिल्ली लेकर आयी।

माकपा ने न्यूज पोर्टल के कार्यालय पर ED छापे को स्वतंत्र मीडिया पर हमला करार दिया 

इकबाल पर 50,000 रुपये का इनाम घोषित किया गया था। उसे मेट्रोपॉलिटन मजिस्ट्रेट पूर्वा मेहरा के समक्ष पेश किया गया, जिन्होंने उसे पूछताछ के लिए हिरासत में भेज दिया। पुलिस ने अदालत से आग्रह किया कि घटना को लेकर सामने आए कई वीडियों की जांच करने और अन्य आरोपी व्यक्तियों की पहचान करने में मदद के लिए उसे हिरासत में लेकर पूछताछ करने की आवश्यकता है, जिसके बाद अदालत ने यह मंजूरी दे दी। 

पेट्रोल, डीजल की कीमतों में लगातार दूसरे दिन बढ़ोतरी, धर्मेंद्र प्रधान की सफाई

पुलिस ने 10 दिनों के लिए उसकी हिरासत की मांग करते हुए कहा कि सिंह कथित रूप से हिंसा के मुख्य साजिशकर्ताओं में से एक है और यह पता लगाने की आवश्यकता है कि उसके पैसे कहाँ से आ रहे हैं। जांच अधिकारी ने कहा कि इस मामले में मंगलवार को गिरफ्तार किए गए अभिनेता-कार्यकर्ता दीप सिद्धू से सिंह के कथित संबंध का पता लगाने की जरूरत है। पुलिस ने आरोप लगाया कि हिंसा को सुनियोजित ढंग से अंजाम दिया गया था। पुलिस ने कहा, सैंकड़ों वीडियो हैं। हमें इन सब के साथ उसकी संलिप्तता का पता लगाने की जरूरत है। हमें यह पता लगाने की जरूरत है कि कौन लोग हैं जो उसके साथ आए थे और वे किससे जुड़े हैं। वह हिंसा को भड़काने वाले मुख्य लोगों में से एक था। यह एक साजिश थी।’’ 

ओमप्रकाश राजभर बोले- राम मंदिर के नाम पर चुनाव के लिए चंदा जुटा रही है भाजपा 

जांच अधिकारी ने आरोप लगाया कि सिंह ने एक समाचार चैनल पर एक घंटे से अधिक समय तक लाइव वीडियो किया जिसमें उसे भीड़ को हिंसा के लिए उकसाते हुए देखा जा सकता है। उन्होंने कहा कि हमें पंजाब जाकर उस समाचार चैनल की छानबीन करने की जरूरत है। हमें यह पता लगाने की जरूरत है कि उसकी फंडिंग कहां से आ रही है। हालांकि, सिंह ने दावा किया कि वह ङ्क्षहसा करने के लिए लाल किले नहीं गया था और उसने उस दौरान जो कुछ भी कहा या किया वह तात्कालिक क्षण का असर था। गौरतलब है कि 26 जनवरी को ट्रैक्टर परेड के दौरान हजारों किसानों की पुलिस के साथ झड़प हो गई थी। हिंसा में 500 से अधिक पुलिस कर्मी घायल हो गए थे और एक प्रदर्शनकारी की मौत हो गई थी। 

सुरंग में फंसे लोगों को निकालने का अभियान पड़ा धीमा, अब तक 32 शव बरामद

 

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

 

comments

.
.
.
.
.