Sunday, Jun 26, 2022
-->
Republic Day parade will be held on Central Vista only: Architect Bimal Patel

गणतंत्र दिवस परेड सेंट्रल विस्टा पर ही होगी: आर्किटेक्ट बिमल पटेल

  • Updated on 11/30/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। नए सेंट्रल विस्टा परियोजना के कारण गणतंत्र दिवस परेड के स्थान को लेकर चल रहे कयासों के बीच परियोजना के आर्किटेक्ट बिमल पटेल ने साफ किया कि 2022 में गणतंत्र दिवस परेड नई दिल्ली में आने वाले नए सेंट्रल विस्टा पर ही होगी। उन्होंने वादे के साथ कहा कि अगले वर्ष 2022 की गणतंत्र दिवस परेड से पहले परियोजना के एक हिस्से को लोक निर्माण विभाग (पीडब्ल्यूडी) को जल्द ही सौंप दिया जाएगा। उन्होंने कहा कि यह हमारे गणतंत्र की भावना के अनुरूप अत्यंत सामयिक कदम है।

ऐतिहासिक धरोहरों के सम्मान में कोई समस्या न आए
उन्होंने कहा कि इस परियोजना में कई तरह की आलोचना होने की बात को स्वीकार किया, लेकिन साथ ही कहा कि उन्होंने परियोजना में इस बात का पूरा ध्यान रखा है कि इतिहास अथवा ऐतिहासिक धरोहरों के सम्मान में कोई समस्या न आए। 

नया संसद भवन अगले साल 2022 के अंत तक तैयार हो जाएगा
आर्किटेक्ट बिमल पटेल ने कहा कि नया संसद भवन अगले साल 2022 के अंत तक तैयार हो जाएगा। उन्होंने कहा कि अगले शीतकालीन सत्र से पहले देश में एक नया संसद भवन होगा। उन्होंने कहा कि परियोजना की टीम को कई तरह की चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है, लेकिन उनमें से अधिकांश का समाधान कर लिया गया है। उन्होंने कहा कि मैं समझ सकता हूं कि लोगों की जो आशंकाएं हैं, वे अच्छी तरह से स्थापित हैं। इतना अधिक परिवर्तन जो हम अपने आस-पास देखते हैं वह समस्याग्रस्त है, यह पुरानी यादें छीन लेता है।

जगह-जगह न लगे रेहड़ी-पटरी, जगह हो निर्धारित, लोगों ने डीडीए के समक्ष रखे विचार

आर्किटेक्ट पटेल ने कहा कि लेकिन भावनात्मक होने के अलावा, लोगों को तथ्यों को देखना चाहिए, और क्या प्रस्तावित किया जा रहा है, इस पर भी गौर करना चाहिए। उन्होंने कहा कि चूंकि हमारा दृष्टिकोण इतिहास का सम्मान करता है, इसलिए कोई समस्या नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा कि हालांकि, कुछ ऐतिहासिक महत्व की चीजें है, लेकिन हमने परियोजना में इस बात का पूरा ध्यान भी रखा है कि ऐसे महत्व की चीजों से हमें पंगु नहीं बनना है, बल्कि हमें वह करना चाहिए जो इन स्थानों को बदलने के लिए आवश्यक है ताकि वे हमारे लिए उसी तरह काम करें जैसे वे आज हमारे लिए उपयोगी हैं। 

राष्ट्रीय संग्रहालय के स्थानांतरण एक प्रगतिशील कदम है
उन्होंने राष्ट्रीय संग्रहालय के स्थानांतरण के मसले पर कहा कि यह एक प्रगतिशील कदम है। उन्होंने कहा कि मैं संग्रहालय को स्थानांतरित करने और कलाकृतियों को संभालने के बारे में चिंताओं को समझ सकता हूं। लेकिन हमारे गणतंत्र के लिए यह सही समय है कि हम राज के प्रतीकों को छोड़ दें और उन्हें लोगों को सौंप दें।  


 

comments

.
.
.
.
.