Monday, Mar 08, 2021
-->
research-claims-people-aged-between-40-to-70-in-india-are-more-at-risk-of-corona-prsgnt

भारत में 40 से 70 उम्र के लोगों को कोरोना का खतरा ज्यादा, रिपोर्ट में हुआ खुलासा

  • Updated on 10/1/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दुनियाभर में कोरोना का कहर थमने का नाम नहीं ले रहा। अभी भी एक दिन में लाखों संक्रमण के मामले सामने आ रहे है। आंकड़ों को देखें तो दुनिया भर में अबतक 33,875,993 लोग कोरोना संक्रमित हो चुके है। जबकि इस खतरनाक वायरस के कारण 1,013,199 लोगों की मौत हो चुकी है। वहीं राहत की बात है कि 25,172,971 लोग इस संक्रमण से ठीक भी हुए हैं।

वहीं, दुनियाभर में फैले कोरोना वायरस के बारे में हुए अब तक के सबसे बड़े रिसर्च में नया खुलासा हुआ है। इस रिसर्च में बताया गया है कि विकसित देशों की तुलना में भारत में 40 वर्ष से 69 वर्ष तक के लोगों में कोरोना वायरस का संक्रमण के अधिक मामले सामने आए हैं। इतना ही नहीं,कोरोना से मरने वालों की आयु भी अधिक है। 

कोरोना वायरस के बाद चीन से फैली ये खतरनाक बीमारी, भारत के लिए ICMR ने जारी की चेतावनी

इस रिसर्च में शामिल हुए अनुसंधानकर्ताओं में आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु सरकार के अनुसंधानकर्ता भी शामिल हैं। इस रिसर्च को साइंस पत्रिका में प्रकाशित किया गया है। इस रिसर्च के अनुसार आंध्र प्रदेश और तमिलनाडु दोनों राज्यों में कोरोना के 84,965 पुष्ट मामलों के संपर्क में आए 5,75,071 लोगों में कोरोना के संक्रमण होने के तरीक़े का आकलन किया गया है।

इस रिपोर्ट के बारे में नई दिल्ली में ‘सेंटर फॉर डिजीज डायनेमिक्स, इकोनॉमिक्स एंड पॉलिसी’ के वैज्ञानिकों के समूह कहते हैं कि ये रिसर्च कम एवं मध्यम आय वाले देशों में कोरोना फैलने के तरीके के बारे में जानकारी देता है।

राष्ट्रपति ट्रंप ने भारत पर लगाया बड़ा आरोप, बोले- कोरोना को लेकर नहीं दिए सही आंकड़े

इस रिपोर्ट के आधार पर वैज्ञानिकों ने बताया है कि भारत के दोनों राज्यों में युवकों में कोरोना संक्रमण अधिक देखने को मिला है और युवकों में ही मौत के मामले अधिक शामिल हैं।  इस स्टडी में यह भी कहा गया है कि कोरोना का संक्रमण एक ही आयु के लोगों के साथ में आने, एक साथ आने और मिलने पर अधिक फैलता है। 

वहीँ, अनुसंधानकर्ताओं का कहना है कि ऐसा नवजात बच्चों से लेकर 14 वर्ष के बच्चों तक और 65 वर्ष से अधिक आयु के लोगों के बीच भी देखा गया है।

133 देशों को WHO से मिलेगी 400 रुपये से भी कम कीमत की कोरोना टेस्‍ट किट

उन्होंने बताया कि कोरोना संक्रमण के मामलों और मरने वालों का अनुपात पांच वर्ष से 17 वर्ष के आयुवर्ग में 0.05%  और 85 वर्ष से अधिक आयु के लोगों में 16.6% देखा गया है। अनुसंधानकर्ताओं के अनुसार, भारत के इन दो राज्यों में कोरोना मरीज मौत से पहले अस्पताल में औसतन 5 दिन तक रहे, लेकिन यही लोग अमेरिका में करीब 13 दिन अस्पताल में रहे थे। वहीं, वैज्ञानिकों ने बताया कि मृतकों में से 45% लोग डाइबिटीज पेशंट थे।  

आखिर भारत में कैसे घुसा जानलेवा कोरोना वायरस? सामने आया ये बड़ा सच....

भारत के ये दो राज्य, आंध्र प्रदेश एवं तमिलनाडु में स्वास्थ्यकर्मियों की सबसे ज्यादा संख्या है और प्रति व्यक्ति सार्वजनिक स्वास्थ्य खर्च भी सबसे अधिक हैं। रिसर्च में पाया गया है कि मृतकों में 63% लोग ऐसे हैं, जो पहले से कोरोना के अलावा भी किसी दूसरी बीमारी से ग्रस्त थे और 36%  लोगों को पहले से दो या अधिक बीमारियां थीं। 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरें

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.