Saturday, Jul 31, 2021
-->
restructuring preparations for delhi congress begin before mcd elections rkdsnt

एमसीडी चुनाव से पहले दिल्ली कांग्रेस के पुनर्गठन तैयारी शुरू

  • Updated on 11/29/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष अनिल चौधरी (Anil Chaudhary) ने रविवार को कहा कि दिल्ली कांग्रेस में संगठनात्मक पुनर्गठन की प्रक्रिया ब्लॉक स्तर पर अगले सप्ताह आरंभ होने की संभावना है और इस दौरान कोविड-19 राहत कार्यों में योगदान देने वाले कार्यकर्ताओं को प्राथमिकता दी जाएगी। चौधरी ने कहा कि पार्टी की ब्लॉक इकाइयों के अध्यक्षों के तौर पर नियुक्ति की खातिर नामों को एकत्र करने के लिए सभी 270 ब्लॉक में पार्टी के वरिष्ठ कार्यकर्ताओं को पर्यवेक्षकों बनाया जाएगा। 

ईडी निदेशक मिश्रा के कार्यकाल में संशोधन के खिलाफ प्रशांत भूषण ने दायर की याचिका

उन्होंने कहा, ‘‘दिल्ली कांग्रेस ने अपने राज्यों को लौट रहे प्रवासी कामगारों की मदद के लिए, उन्हें भोजन और राशन किट वितरित करके व्यापक स्तर पर राहत कार्य किए।’ चौधरी ने कहा कि राहत कार्य के दौरान बढ़-चढ़ कर भाग लेने वाले नेताओं को बरकरार रखा जाएगा और नियुक्तियां की जाएंगी, लेकिन इन कार्यों में हिस्सा नहीं लेने वाले और कोई उत्साह नहीं दिखाने वालों को हटा दिया जाएगा। इससे पहले 2018 में दिल्ली कांग्रेस के तत्कालीन अध्यक्ष अजय माकन ने ब्लॉक स्तर पर बदलाव किए थे। 

कांग्रेस बोली- ‘काले कानूनों’ के खत्म होने तक लड़ाई जारी रहेगी, किसानों से बात करें पीएम मोदी

पिछले दो साल में तीन अध्यक्ष बदल जाने के बावजूद दिल्ली कांग्रेस का संगठनात्मक पुनर्गठन काफी समय से लंबित था। चौधरी ने कहा कि 270 ब्लॉक अध्यक्ष पदों में से करीब 35 रिक्त हैं। कुछ ब्लॉक अध्यक्षों की कोरोना वायरस संक्रमण के कारण मौत हो गई।

मोदी सरकार ने दिया सार्वजनिक क्षेत्र की बीमा कंपनियों को अपने खर्चो में कटौती करने का निर्देश

उन्होंने कहा कि दिल्ली कांग्रेस में निचले से ऊपरी स्तर तक संगठनात्मक पुनर्गठन होगा। ब्लॉक अध्यक्षों के बाद 14 जिला इकाइयों का पुनर्गठन किया जाएगा। प्रदेश कांग्रेस समिति, जो पिछले छह-सात साल से लगभग अस्तित्व में नहीं है, उसमें भी विभिन्न महत्वपूर्ण संगठनात्मक पदों पर नियुक्तियां करके सुधार किया जाएगा। 

अखिलेश यादव ने किसान आंदोलन को लेकर मोदी सरकार को लिया आड़े हाथ

कुमार को इस साल मार्च में दिल्ली कांग्रेस अध्यक्ष नियुक्त किया गया था। पूर्ववर्ती अध्यक्ष सुभाष चोपड़ा ने 2020 दिल्ली विधानसभा चुनाव में पार्टी के एक भी सीट नहीं जीत पाने पर फरवरी में इस्तीफा दे दिया था। कांग्रेस की शीला दीक्षित ने डेढ़ दशक तक दिल्ली पर शासन किया था। यहां 2013 तक उनकी सरकार थी, लेकिन ‘आप’ के उदय के बाद कांग्रेस ने बेहद खराब प्रदर्शन किया और वह 2015 तथा 2020 में विधानसभा चुनाव में खाता भी नहीं खोल पाई।

हरियाणा में प्रदर्शनकारी किसानों पर हत्या के प्रयास, दंगा करने के आरोप में केस दर्ज 

 

 

 

यहां पढ़े कोरोना से जुड़ी बड़ी खबरें...

comments

.
.
.
.
.