Sunday, Nov 28, 2021
-->
rishi-ganga-power-project-was-deeply-shocked-by-the-bursting-of-the-glacier-in-chamoli-albsnt

चमोली में ग्लेशियर के फटने से ऋषि गंगा पावर प्रोजेक्ट को लगा गहरा धक्का,दिखा तबाही का मंजर

  • Updated on 2/7/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। उत्तराखंड में ग्लेशियर के फटने से तबाही के साफ निशान नजर आ रहे है। यह ग्लेशियर राज्य के चमोली जिले में फटा है। वहीं इससे बाढ़ के हालात पैदा हो गए है। जिस कारण ऋषि गंगा पावर प्रोजेक्ट को भारी धक्का पहुंचा है। दरअसल रैणी गांव में ही ऋषि गंगा पावर प्रोजेक्ट है। जिसको क्षति पहुंची है।

हरिद्वार में अलर्ट, गंगा किनारे की बस्तियाँ कराई जा रही खाली

बता दें कि इस ग्लैशियर के फटने से धौलगंगा घाटी और अलकनन्दा घाटी में नदी अपने उफान पर है। जिसकी चपेट में यह ऋषि गंगा पावर प्रोजेक्ट भी आ गया है। दरअसल इस प्रोजेक्ट से पानी से बिजली उत्पादन का लक्ष्य रखा गया। जो बहुत हद तक सफल भी रहा। माना जा रहा है कि यहां से पैदा हुए बिजली का लाभ सिर्फ उत्तराखंड को ही नहीं बल्कि दूसरे राज्यों को भी देने की तैयारी थी।  यह प्रोजेक्ट ऋषि गंगा पर स्थित है। वहीं पावर प्रोजेक्ट से जुड़े 150मजदूर के गायब होने की भी पुष्टि हुई है। जिससे स्थानीय स्तर पर हड़कंप मचा हुआ है। 

उत्तराखंड में बाढ़ की स्थिति पर अमित शाह की नजर, दिल्ली से भेजी NDRF की अतिरिक्त टीमें

मालूम हो कि ग्लेशियर के फटने से अलकनंदा और सहायक नदियों में बाढ़ जैसे हालात बन गए है। जिसको देखते हुए पूरे गढ़वाल क्षेत्र में सरकार की तरफ से अलर्ट जारी हुआ है। दूसरी तरफ सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत ने अपने एक बयान में कहा है कि सरकार हरसंभव प्रभावित लोगों को मदद पहुंचा रही है। साथ ही उन्होंने कहा कि नदी के बहाव में कमी आया है। जो अच्छी बात है। 

यहां पढ़े अन्य बड़ी खबरें...


 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.