Wednesday, Sep 23, 2020

Live Updates: Unlock 4- Day 23

Last Updated: Wed Sep 23 2020 09:55 PM

corona virus

Total Cases

5,688,530

Recovered

4,624,973

Deaths

90,443

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA1,242,770
  • ANDHRA PRADESH646,530
  • TAMIL NADU552,674
  • KARNATAKA540,847
  • UTTAR PRADESH369,686
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • NEW DELHI253,075
  • WEST BENGAL234,673
  • ODISHA192,548
  • BIHAR180,788
  • TELANGANA174,774
  • ASSAM161,393
  • KERALA131,027
  • GUJARAT127,541
  • RAJASTHAN120,739
  • HARYANA116,856
  • MADHYA PRADESH110,711
  • PUNJAB97,689
  • CHANDIGARH70,777
  • JHARKHAND69,860
  • JAMMU & KASHMIR62,533
  • CHHATTISGARH52,932
  • UTTARAKHAND27,211
  • GOA26,783
  • TRIPURA21,504
  • PUDUCHERRY18,536
  • HIMACHAL PRADESH9,229
  • MANIPUR7,470
  • NAGALAND4,636
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS3,426
  • MEGHALAYA3,296
  • LADAKH3,177
  • DADRA AND NAGAR HAVELI2,658
  • SIKKIM1,989
  • DAMAN AND DIU1,381
  • MIZORAM1,333
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
rlsp attacks on cm nitish over irimee jamalpur irimee  musrnt

जमालपुर IRIMEE को शिफ्ट करने पर मचा बवाल! RLSP ने कहा- जवाब दें नीतीश कुमार

  • Updated on 5/7/2020

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। बिहार के जमालपुर में स्थित इंडियन रेलवे इंस्टीट्यूट ऑफ मेकेनिकल एंड इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग (IRIMEE) को लखनऊ स्थानांतरित करने की सूचना के बाद प्रदेश की राजनीति में उबाल आ गया है। इस सूचना से पढ़ाई और प्रशिक्षण के लिए देश भर में दरबदर होने वाले छात्रों में जहां रोष है वहीं प्रदेश के राजनीतिक दलें ने बिहार के मुख्यमंत्री और उनकी सहयोगी पार्टी भाजपा से इस मामले को लेकर जवाब मांगना शुरू कर दिया है।

राष्ट्रीय लोक समता पार्टी (RLSP) के युवा राष्ट्रीय महासचिव व सुप्रीम कोर्ट अधिवक्ता आशीष कुमार सिन्हा ने IRIMEE के स्थानांतरण से जुड़े पूरे प्रकरण पर मुख्यमंत्री नीतिश कुमार और उप- मुख्यमंत्री सुशील मोदी से सच बताने की मांग करते हुए कहा कि जद(यू) और भाजपा के 14 साल सरकार में सहभागी बने रहने और बिहार की विरासत/धरोहर को बट्टा लगाने की साजिश को याद रखा जाएगा। जहां पहले ही बिहार अवसाद और अपमान की मार से जूझता, बीमारू और गरीब राज्य की श्रेणी में है वहीं अब इस संस्था को स्थानांतरित किये जाने का अनुमोदन हर एक बिहारवासियों के दिल और दिमाग पर एक गहरी चोट है।

आशीष ने कहा कि जहां एक तरफ इस सेन्ट्रल इस्टिट्यूट का जाना उनसे जुड़े कितने ही अन्य एलायड संस्थाओं पर प्रभाव के साथ- साथ इनसे जुड़े हजारों लोगों के रोजगार और उनसे जुड़े परिवार को रोजगार का मोहताज बना देगा वहीं दूसरी तरफ बिहार की सरकार के प्रबंधन, अर्थव्यवस्था और प्रतिष्ठा पर कड़ा प्रहार है और वो भी तब जबकि बिहार विधानसभा चुनाव को महज पांच महीने ही रह गए हैं। उन्होंने बिहार के भाजपा-जदयू गठबंधन से सवाल किया कि क्या यही सबका साथ-सबका विकास है? सब याद रखा जाएगा, सब कुछ याद रखा जाएगा...

बताते चलें कि जमालपुर के रेलवे प्रशिक्षण संस्थान को लखनऊ स्थानांतरित करने का नोटिस रेलवे ने दिनांक 27-04-20 को जारी किया था। हालांकि इसके डायरेक्टर का कहना है कि जमालपुर में IRIMEE का कार्यालय पहले ही की भांति काम करता रहेगा और लखनऊ में इसकी सिर्फ शाखा खुल रही है। लेकिन पत्र में स्थानांतरित शब्द लिखे जाने को लेकर सारा विवाद हो गया है। यह भारतीय रेलवे का बिहार में सबसे पुराने प्रशिक्षण संस्थान है। 

पहले भी केंद्र सरकार पर इस संस्थान को बंद करने के प्रयास का आरोप लगता रहा है। 2015-16 में भी ऐसे प्रयास हुए थे, तब मधेपुरा सांसद पप्पू यादव ने इसके विरोध में आवाज उठाई थी। मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी केंद्र सरकार के फैसले पर रोष जताया था। उनका कहना था की प्रधानमंत्री रेलवे यूनिवर्सिटी बनाना चाहते हैं देश में, तो क्यों नहीं जमालपुर के इस संस्थान को ही यूनिवर्सिटी बना देते। तब हंगमा होने के बाद रेलवे बोर्ड ने आश्वासन दिया था कि संस्थान बंद नहीं होगा। 

लेकिन पिछले कुछ साल की गतिविधियों पर गौर करें, तो यही लगता है की रेलवे बोर्ड ने इस संस्थान को यहां से हटाने में कोई कमी नही छोड़ी। बीते सालों में यहां से ट्रेनिंग लेने वाले रेलवे कर्मचारियों की संख्या लगातार कम की जाती रही। 
वर्ष 2016 से एससीआरए का नामांकन है बंद, अब इरिमी स्थानांतरण होना तय।

वर्ष 2016 में रेलवे बोर्ड नई दिल्ली और यूपीएससी विभाग की ओर से विशेष श्रेणी रेलवे प्रशिक्षु (एससीआरए) के लिए परीक्षाएं व नामांकन एक साथ बंद कर दी गयी थी। इरिमी में आखिरी बैच 2015 के मात्र 6 प्रशिक्षु शेष रह गए हैं। हालांकि यहां इंडियन रेलवे सर्विस ऑफ मेकनीकल इंजीनियर्स (आईआरएसएमई) सहित डिप्टी, फोरमैन, चार्जमैन सहित अन्य रेलवे पदाधिकारियों का ट्रेनिंग व पढ़ाई चल रही है। लेकिन इरिमी स्थानांतरण होने के बाद अब जमालपुर सिर्फ ट्रेनिंग इंस्टीच्यूट बनकर रह जाएगा।

जानें क्यों खास है IRIMEE

एशिया का सबसे बड़ा व प्रसिद्ध रेल इंजन कारखाना जमालपुर की स्थापना 8 फरवरी 1862 को हुई थी। यह बिहार के मुंगेर जिले मे स्तिथ है।
- इंडियन रेलवे इंस्टीट्यूट ऑफ मैकेनिकल एंड इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग (IRIMEE, इरिमी) नाम से यह प्रशिक्षण संस्थान 1888 में खोला गया, इसमें 1927 से रेलवे के मैकेनिकल इंजीनियरिंग को प्रशिक्षण दिया जाता रहा है। रेलवे के छह मुख्य संस्था में यह सबसे पुराना है। 

IRIMEE जमालपुर में 35 मेन फैकल्टी, 100 कंप्यूटर्स की क्लासरूम के साथ एक बड़ी लाइब्रेरी, ऑडिटोरियम तथा कॉन्फ्रेंस हॉल है

- IRIMEE जमालपुर में 13 लैब रूम, 3 हॉस्टल, यांत्रिक कक्ष, जिमखाना और 56 एकल कमरे, 14  डबल बेड रूम और 1  वीआईपी रूम है
- IRIMEE जमालपुर का भवन 1,15,056 SQ feet में फैला है

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.