Sunday, Apr 21, 2019

रोडवेज की हड़ताल को कॉलेजों के छात्र-छात्राओं ने दिया समर्थन

  • Updated on 10/31/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। हरियाणा रोडवेज की हड़ताल के 16वे दिन जिला डिपो की हड़ताल में कर्मचारियों ने कामकाज ठप्प करके शहर में जुलूस निकाल कर बस स्टेंड पर प्रदर्शन किया। रोडवेज कर्मचारी 720 बस किराए पर लेने के फैसले के खिलाफ 16 अक्टूबर से निरंतर हड़ताल पर हैं। बुधवार को बस स्टेंड पर आयोजित प्रदर्शन में जहां बड़ी संख्या में अन्य विभागों के कर्मचारियों ने हिस्सा लिया, वहीं काफी संख्या में कॉलेजों के छात्र-छात्राएं भी शामिल हुई।

विद्यार्थियों ने प्रदर्शन में बोलते हुए सरकार के इस फैसले की आलोचना करते हुए मांग की कि सरकार प्राइवेट बसें चलाने की बजाय रोडवेज बसं चलाए। छात्राओं ने कहा कि प्राइवेट बसों में महिलाओं व छात्राओं की कोई सुरक्षा नहीं है। छात्रों का कहना था कि यदि सरकार रोडवेज का निजीकरण कर देगी तो छात्रों को रोडवेज बसों में सफर करने की सुविधा कैसे मिलेगी। 

किसानों को पराली जलाने से रोकने के लिए NGT सख्त, राज्यों को चेताया

छात्रों ने सरकार से कर्मचारियों की मांगों को पूरा करने और रोडवेज में निजीकरण न करने की मांग की। समर्थन देने वाले छात्रों में गजेंद्र तेवतिया, मनीष डागर, नरेश जांगिड़, सोनू डागर, रामवीर डागर, ललित तेवतिया, लोकेश, रोनक रावत, यासिर खान, सौरव व दलवीर मुख्य थे। सर्व कर्मचारी संघ के राज्य महासचिव सुभाष लांबा ने प्रदर्शनकारियों को संबोधित करते हुए बताया कि सरकार ने रोजवेज की हड़ताल को कुचलने के लिए तमाम तरह के दमनकारी हथियारों को इस्तेमाल करके देख लिया है।

उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार ने हजारों रोडवेज कर्मचारियों पर एस्मा के तहत कार्रवाई करके बर्खास्तगी व निलंबन जैसी कार्रवाई करके सैकडों कर्मचारियों को जेलों में डाल रखा है। उन्होंने कहा कि हरियाणा की करोड़ों जनता व लाखों कर्मचारियों की भावनाओं के खिलाफ सरकार अपने चहेतों को फायदा पहुंचाने के लिए रोडवेज में निजी बसों को किलोमीटर स्कीम पर किराए पर लेने की जिद पर अड़ी हुई है। रोडवेज की बसों में प्रदेश की 42 कैटेगरी को छूट देकर यात्रा कराई जाती है, निजी बसें केवल मुनाफे के लिए चलती हैं। 

सरकार की योजनाओं का अधिक से अधिक लाभ लें: लतिका शर्मा

उन्होंने आरोप लगाया कि सरकार को जनहित के मुद्दों से कोई वास्ता नहीं है। उन्होंने कहा कि कर्मचारी जनता के बीच जाकर सरकार की जनविरोधी नीतियों की पोल खोलेंगे। प्रदर्शन में कर्मचारी नेता जितेंद्र तेवतिया, दरियाव सिंह, विजयपाल डागर, योगेश शर्मा, रिटायर्ड कर्मचारी नेता ताराचंद, किसान नेता धर्मचंद, महेंद्र सिंह, राजकुमार व राजवीर कुंडू के अलावा छात्र-छात्राओं ने भी संबोधित किया। 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.