Monday, May 16, 2022
-->
Robert vadra jodhpur high court bikaner land scam case deferred till February

रॉबर्ट वाड्रा के खिलाफ सुनवाई फरवरी तक टली, भूमि घोटाले का है मामला

  • Updated on 12/19/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। रॉबर्ट वाड्रा (Robert Vadra) और उनकी मांग मौरीन वाड्रा (Maureen Vadra) के खिलाफ सुनवाई को जोधपुर हाईकोर्ट (Jodhpur High Court) ने स्काई लाइट हॉस्पीटैलिटी केस (Sky Light Hospitality Case) में पांच फरवरी तक स्थगित कर दी है। बता दें कि प्रियंका गांधी वाड्रा (Priyanka Gandhi Vadra) के पति रॉबर्ट वाड्रा पर भूमि घोटाले में आरोपी हैं। 

गांधी परिवार ही नहीं, पूरे देश की सुरक्षा के साथ समझौता किया जा रहा : रॉबर्ट वाड्रा

मामले की सुनवाई अगले साल फरवरी तक टाली
बताया जा रहा है कि समय की कमी के चलते जस्टिस मनोज कुमार गर्ग (Justice Manoj Kumar Garg) ने इस मामले की सुनवाई अगले साल फरवरी तक टाल दी। वरिष्ठ वकील केटीएस तुलसी रॉबर्ट की ओर से हाईकोर्ट में पेश हुए।

जबकि अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल आरडी रस्तोगी और भीनू प्रताप बोहरा प्रवर्तन निदेशालय. की ओर से पेश हुए। रॉबर्ट वाड्रा, उनकी मां मौरीन और स्काई लाइट हॉस्पीटैलिटी के पार्टनर इस केस से जुड़े मनी लॉन्ड्रिंग मामले में आरोपी हैं। 

रॉबर्ट वाड्रा की तबीयत बिगड़ी, नोएडा के मेट्रो हॉस्पिटल में हुए भर्ती

भूमि घोटाले का मामला
दरअसल स्काई लाइट हॉस्पीटैलिटी ने बीकानेर के कोलायत गांव में 69.55 एकड़ जमीन बहुत ही कम दाम पर खरीद और एलिघेनी फिनलीज को 5.15 करोड़ रुपये में अवैध तरीके से बेच दी।

इस भूमि घोटाले में राज्य सरकार के कुछ अधिकारियों की मिलीभगत भी जांच के दायरे में है। सितंबर, 2015 में ईडी ने वाड्रा समेत दूसरे आरोपियों के खिलाफ मनी लॉन्ड्रिंग कानून की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया था। 

comments

.
.
.
.
.