romila thapar, jnu now seeks 12 emeritus professor biodata

रोमिला थापर के बाद अब JNU ने मांगा 12 एमेरिटस प्रोफेसर से बायोडाटा

  • Updated on 9/3/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय  (JNU) प्रशासन ने रोमिला थापर के बायोडाटा के बाद अब 12 अन्य प्रोफेसर एमेरिटस से उनका बायोडाटा मांगा है। रोमिला थापर का बायोडाटा मांगने पर विभिन्न तबकों ने प्रशासन की आलोचना की थी। 


बता दें कि JNU के पूर्व कुलपति आशीष दत्ता सहित जाने-माने वैज्ञानिक आर. राजारमन और इतिहासकार रोमिला थापर का मूल्यांकन करने के लिए उनका बायोडाटा मांगा था। अब 12 अन्य प्रोफेसर एमेरिटस से उनका बायोडाटा मांगा गया है, ताकि उनके कामों की समीक्षा की जा सके। 

रोमिला थापर से जेएनयू प्रशासन ने मांगा सीवी

HRD मंत्रालय ने दिया स्पष्टीकरण
वहीं इस पर विवाद बढने के बाद सोमवार को मानव संसाधन विकास मंत्रालय (HRD) को भी स्पष्टीकरण देना पड़ा। HRD मंत्रालय का कहना है कि जेएनयू ने किसी भी प्रोफेसर एमेरिटस का दर्जा खत्म करने के लिए कोई कदम नहीं उठाया है।
प्रशासन का कहना है कि प्रो. एचएस गिल, सी.के. वाष्र्णेय, संजय गुहा, आशीष दत्ता, राजारमण, रोमिला थापर, योगेंद्र सिंह, डी बनर्जी, टीके ओम्मेन, अमित भादुड़ी और शीला भल्ला को भी पत्र भेजे हैं।

ये सभी 31 मार्च 2019 से पहले 75 साल के हो गए हैं। प्रशासन का कहना है कि थापर समेत कुछ ने अपने जवाब दे दिए हैं, जिन्होंने नहीं दिया है उन्हें स्मरणपत्र भेजा जाएगा और उनके जवाब पर एक समिति उनके बायोडाटा की समीक्षा करेगी।

JNU छात्रसंघ चुनाव: उम्मीदवारों की सूची जारी, 6 सितंबर को डाले जाएंगे वोट

प्रो. एमिरेटस का पद स्थाई नहीं
विवि ने कहा कि अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रो. एमिरेटस का पद स्थाई नहीं होता है। प्रोफेसर एमिरेटस का बायोडाटा मांगने का फैसला विश्वविद्यालय की कार्यकारी परिषद का है, क्योंकि अध्यादेश के मुताबिक विवि के लिए ये जरूरी है कि वो उन सभी को पत्र लिखे जिनकी आयु 75 साल पार कर चुकी है। ताकि उनकी उपलब्धता और विवि के साथ उनके संबंध को जारी रखने की उनकी इच्छा के बारे में जानकारी प्राप्त हो सके। वहीं इस फैसले को जवाहरलाल नेहरू शिक्षक संघ (जेएनयूटीए) ने रविवार को राजनीति से प्रेरित बताया था।

जवाहर लाल नेहरू यूनिवर्सिटी छात्रसंघ चुनाव, उम्मीदवार कल करेंगे नामांकन

यह है प्रोफेसर एमेरिटस
प्रोफेसर एमेरिटस एक मानद पद है जो विवि प्रतिष्ठित संकाय सदस्य को उनकी सेवानिवृत्ति के बाद देता है। ये प्रो. एमेरिटस उन विभागों में शैक्षणिक काम करने के लिए स्वतंत्र होते हैं जिससे वो संबंध रखते हैं। यही नहीं प्रो. एमेरिटस उन नियमित संकाय सदस्यों के साथ मूल पर्यवेक्षक के रूप में शोध विद्वानों का पर्यवेक्षण भी कर सकते हैं।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.