root will be divert during kawad festival

कांवड़ मेले के दौरान डायवर्ट रहेंगे रूट,दो चरणों में लागू होगा डायवर्जन

  • Updated on 7/8/2019

देहरादून/ब्यूरो। कांवड़ मेले के दौरान बाहर से हरिद्वार-देहरादून आने वाले वाहनों के लिए रूट डायवर्ट रहेंगे। कांवड़ मेला 17 जुलाई से शुरू हो रहा है। 30 जुलाई तक अगर हरिद्वार-देहरादून की ओर आने का कोई कार्यक्रम है, तो रूट डायवर्जन चार्ट देखकर ही घर से निकलें। रूट डायवर्जन दो चरणों में लागू किया जाएगा।

रोडवेज बसों के लिए 17 जुलाई से लेकर 30 जुलाई तक एक समान व्यवस्था की गई है। दिल्ली, मेरठ मुजफ्फरनगर की ओर से हरिद्वार आने वाली बसों को मंगलौर से लंढौरा, लक्सर होते हुए कनखल देशरक्षक तिराहे पर लाया जाएगा। यहां से बसों को हरिराम आर्य इंटर कॉलेज में बनाई गई पार्किंग में भेजा जाएगा।

दिल्ली, मेरठ, मुजफ्फरनगर की ओर से देहरादून आने वाली बसों को रामपुर तिराहा मुजफ्फरनगर से देवबंद, छुटमलपुर होते हुए देहरादून भेजा जाएगा। हरियाणा, हिमाचल प्रदेश और सहारनपुर की ओर से हरिद्वार आने वाली बसों को छुटमलपुर से देहरादून और वहां से रायवाला होते हुए हरिद्वार में मोतीचूर पार्किंग तक भेजा जाएगा। गढ़वाल एवं ऋषिकेश-देहरादून की ओर से हरिद्वार आने वाली बसें भी मोतीचूर पार्किंग तक आएंगी और यहां से भीमगोडा बैराज, चीला होते हुए वापस जाएंगी। नजीबाबाद, नैनीताल से देहरादून की ओर आने वाली बसें हरिद्वार के चंडीघाट से चीला होते हुए आएंगी।


24 जुलाई से हरिद्वार में भारी वाहनों का प्रवेश प्रतिबंधित

भारी वाहनों के लिए ट्रैफिक प्लान दो चरणों में बनाया गया है। 17 से 23 जुलाई तक भारी वाहन रात 11 बजे से सुबह 4 बजे तक हरिद्वार जिले में प्रवेश कर सकेंगे। दिल्ली, मेरठ, मुजफ्फरनगर से हरिद्वार आने वाले भारी वाहन मीरापुर, बिजनौर, नजीबाबाद, मंडावली, चिड़ियापुर होते हुए कांगड़ी पार्किंग तक आएंगे। हरियाणा, सहारनपुर की ओर से आने वाले वाहन छुटमलपुर से देहरादून होते हुए लालतप्पड़ पार्किंग में पार्क होंगे। रात 11 बजे इन्हें यहां से हरिद्वार के लिए रवाना किया जाएगा। 24 जुलाई से भारी वाहनों का हरिद्वार जिले में प्रवेश पूरी तरह से प्रतिबंधित रहेगा।
 
 
 
 
 
Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.