Sunday, Sep 20, 2020

Live Updates: Unlock 4- Day 20

Last Updated: Sun Sep 20 2020 12:51 PM

corona virus

Total Cases

5,400,620

Recovered

4,303,044

Deaths

86,752

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA1,145,840
  • ANDHRA PRADESH617,776
  • TAMIL NADU536,477
  • KARNATAKA494,356
  • UTTAR PRADESH348,517
  • ARUNACHAL PRADESH325,396
  • NEW DELHI242,899
  • WEST BENGAL215,580
  • BIHAR180,788
  • ODISHA175,550
  • TELANGANA169,169
  • ASSAM148,969
  • KERALA131,027
  • GUJARAT121,930
  • RAJASTHAN109,473
  • HARYANA103,773
  • MADHYA PRADESH97,906
  • PUNJAB90,032
  • CHANDIGARH70,777
  • JAMMU & KASHMIR62,533
  • JHARKHAND56,897
  • CHHATTISGARH52,932
  • UTTARAKHAND27,211
  • GOA26,783
  • TRIPURA21,504
  • PUDUCHERRY18,536
  • HIMACHAL PRADESH9,229
  • MANIPUR7,470
  • NAGALAND4,636
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS3,426
  • MEGHALAYA3,296
  • LADAKH3,177
  • DADRA AND NAGAR HAVELI2,658
  • SIKKIM1,989
  • DAMAN AND DIU1,381
  • MIZORAM1,333
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
rss chief bhagwat said equal rights of all castes on temple crematorium reservoir rkdsnt

RSS प्रमुख भागवत बोले- मंदिर, श्मशान और जलाशय पर सभी जातियों का समान अधिकार

  • Updated on 9/14/2020


नई दिल्ली/टीम डिजिटल। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) प्रमुख मोहन भागवत (Mohan Bhagwat) ने सामाजिक समरसता पर जोर देते हुए सोमवार को कहा कि हर जाति में महान लोगों ने जन्म लिया है और मंदिर, श्मशान तथा जलाशयों पर सभी जातियों का बराबर का हक है।

कोविड-19: यूजीसी-नेट परीक्षा स्थगित, नई तारीख का ऐलान

संघ के अवध प्रान्त सह प्रचार प्रमुख दिवाकर अवस्थी ने बताया कि भागवत ने अवध प्रान्त के प्रवास के दूसरे दिन संघ पदाधिकारियों से कहा कि कोई भी ऐसी जाति नहीं है जिसमें श्रेष्ठ, महान तथा देशभक्त लोगों ने जन्म नहीं लिया हो। मंदिर, श्मशान और जलाशय पर सभी जातियों का समान अधिकार है। संघ प्रमुख ने कहा कि महापुरुष सिर्फ अपने श्रेष्ठ कार्यों की बदौलत ही महापुरुष हैं और उनको उसी दृष्टि से देखे जाने का भाव भी समाज में बनाये रखना बहुत जरूरी है।

रेल लाइन के किनारे बनी झुग्गियों को लेकर मोदी सरकार ने सुप्रीम कोर्ट में रखा पक्ष

भागवत ने गौ आधारित तथा प्राकृतिक खेती के लिये भी समाज को जागृत तथा प्रशिक्षित करने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि संघ के स्वयंसेवकों को समाज में देशहित, प्रकृति हित में किसी भी सामाजिक अथवा धार्मिक संगठन द्वारा किये जाने वाले कार्य में बढ़-चढ़कर सहयोग करना चाहिये। 

क्रशर कोरोबारी त्रिपाठी की हत्या के बाद यूपी पुलिस की कार्यप्रणाली पर उठे सवाल

बैठक में कुटुंब प्रबोधन, सामाजिक समरसता, गौ सेवा, ग्राम विकास, पर्यावरण, धर्म जागरण और सामाजिक सदभाव गतिविधियों से जुड़े हुये कार्यकर्ता मौजूद थे।  भागवत ने कुटुंब प्रबोधन के बारे में कहा कि कुटुंब (परिवार) संरचना प्रकृति प्रदत्त है। इसलिये उसकी देखभाल करना भी हमारी जिम्मेदारी है। हमारे समाज में परिवार की एक विस्तृत कल्पना है, इसमें केवल पति, पत्नी और बच्चे ही परिवार नहीं है बल्कि बुआ, काका, काकी, चाचा, चाची, दादी, दादा भी प्राचीन काल से हमारी परिवार संकल्पना में रहे हैं। 

एमजे अकबर मामले में प्रिया रमानी ने कोर्ट में रखी अपनी दलीलें

 

 

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

सुशांत मौत मामले में CBI ने दर्ज की FIR, रिया के नाम का भी जिक्र

comments

.
.
.
.
.