Wednesday, Mar 03, 2021
-->
rss chief mohan bhagwat shri ram janmabhoomi nidhi sohsnt

RSS प्रमुख मोहन भागवत ने श्रीराम जन्मभूमि निधि समर्पण महाअभियान किया शुरू

  • Updated on 1/16/2021

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। आरएसएस (RSS) के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत (Mohan bhagwat) ने दिल्ली (Delhi) में मंदिर मार्ग स्थित महर्षि वाल्मीकि मंदिर में विधिवत रूप से पूजा-अर्चना कर श्रीराम जन्मभूमि निधि समर्पण महाअभियान की शुरूआत की। इस मौके पर मंदिर के संत स्वामी श्रीकृष्ण शाह विद्यार्थी महाराज ने गर्मजोशी से सरसंघचालक का स्वागत किया। आरएसएस प्रमुख ने स्वामी को श्री राम मंदिर का प्रारूप भेंट किया। 

UP के सभी धार्मिक स्थलों की सरकार ने बढ़ाई सुरक्षा, मथुरा, काशी और अयोध्या में CO के नए पद बनाए

कृष्ण शाह विद्यार्थी महाराज ने दिया योगदान
इस अवसर पर स्वामी श्रीकृष्ण शाह विद्यार्थी महाराज और मोहन भागवत ने कई मुद्दों पर चर्चा भी की। बता दें कि निधि समर्पण महाभियान में स्वामी श्रीकृष्ण शाह विद्यार्थी महाराज ने भी अपना योगदान दिया है। इसके अलावा राम मंदिर परिसर में भगवान वाल्मीकि की गरिमा के अनुरुप उनका विग्रह स्थापित करने पर भी चर्चा की।

वैक्सीन को लेकर विशेषज्ञों की चेतावनी- Vaccination के लिए नशा करें बंद 

सबसे पहले राष्ट्रपति कोविंद ने दिया चंदा
मालूम हो कि अयोध्या (Ayodhya) में राम मंदिर के निर्माण के लिए चंदा अभियान बीते शुक्रवार से शुरू हो गया है। इस मौके पर सबसे पहले राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने चंदा देकर इस अभियान की शुरुआत की। राष्ट्रपति ने राम मंदिर निर्माण के लिए पांच लाख रुपए का चेक दिया है। उन्होंने ये चेक निधि मंदिर ट्रस्ट को दिया। दरअसल, राम मंदिर को भव्य बनाने के लिए शुरू किया गया ये अभियान करीब डेढ़ महीने तक चलेगा।

केन्द्रीय मंत्री शेखावत ने ममता बनर्जी पर साधा निशाना, लगाया धोखाधड़ी का आरोप

जानें कब मंदिर का निर्माण कार्य पूरा हो जाएगा 
अगले महीने यानी 23 फरवरी तक ये अभियान चलाया जाएगा, जिसमें करीब 13 करोड़ परिवारों तक पहुंचकर चंदा इकट्ठा किया जाएगा। इसके लिए चंदा पर्चियां भी बनाई गई हैं। जो 10 रुपए, 100 रुपए और 1000 रुपए तक की होंगी। इन पर्चियों में अयोध्या राम मंदिर की छवि होगी। बता दें कि मकर संक्रांति के बाद से रामलला के मंदिर का निर्माण शुरू हुआ है। उम्मीद है कि दिसंबर 2023 तक मंदिर का निर्माण कार्य पूरा हो जाएगा। 

राजस्थान: सरकार ने नाइट कर्फ्यू की बढ़ाई अवधि, अगले आदेश तक जारी रहेंगी पाबंदियां

मंदिर निर्माण करीब साढ़े तीन वर्षों में पूरा होने की उम्मीद
इससे पहले श्री राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास के खजांची स्वामी गोविंद देव गिरि जी महाराज ने बताया था कि अयोध्या में राम मंदिर की बुनियाद पर काम इस महीने शुरू हो जाएगा और मंदिर परिसर का निर्माण करीब साढ़े तीन वर्षों में पूरा होने की उम्मीद है। उन्होंने कहा 'बुनियाद किस तरह से बने, उस पर हाल में निर्णय किया गया है। खुदाई शुरू हो गई है लेकिन वास्तविक बुनियाद निर्माण अभी शुरू नहीं हुआ है। यह इसी जनवरी में शुरू होगा।' उनसे पूछा गया था कि क्या औपचारिक रूप से मंदिर का निर्माण शुरू हो गया है और अगर नहीं तो यह कब शुरू होगा। परियोजना की पूरी लागत के बारे में पूछने पर उन्होंने कहा था कि उनका 'अनुमान' है कि परिसर के अंदर मुख्य मंदिर के निर्माण में 300 से 400 करोड़ रुपये की लागत आनी चाहिए।

कृषि कानूनों को लेकर हरसिमरत कौर बादल ने राहुल गांधी पर साधा निशाना, कहा- घड़ियाली आंसू न बहाएं

1100 करोड़ रुपये से अधिक हो सकती है लागत
महाराज ने कहा था कि पूरी लागत 1100 करोड़ रुपये से अधिक हो सकती है जिसमें मुख्य मंदिर पर 300 से 400 करोड़ रुपये और परिसर के अंदर 67 एकड़ के विकास का खर्च भी शामिल है। उन्होंने कहा कि मंदिर का निर्माण तीन से साढ़े तीन वर्ष के अंदर पूरा होने की उम्मीद है। गिरि जी महाराज ने कहा कि सौ करोड़ रुपये से अधिक का चंदा इकट्ठा हो गया है। यह पूछने पर कि क्या मंदिर निर्माण के लिए विदेशों से भी चंदा स्वीकार किया जाएगा तो उन्होंने कहा कि वर्तमान में उन्हें इसकी अनुमति नहीं है क्योंकि एफसीआरए (विदेशी चंदा विनियमन कानून) की सुविधा नहीं है।

यहां पढ़ें अन्य बड़ी खबरें...

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.