Tuesday, Jul 07, 2020

Live Updates: Unlock 2- Day 7

Last Updated: Tue Jul 07 2020 03:13 PM

corona virus

Total Cases

721,736

Recovered

440,229

Deaths

20,184

  • INDIA7,843,243
  • MAHARASTRA211,987
  • TAMIL NADU114,978
  • NEW DELHI100,823
  • GUJARAT36,858
  • UTTAR PRADESH28,636
  • TELANGANA25,733
  • KARNATAKA25,317
  • WEST BENGAL22,987
  • RAJASTHAN20,922
  • ANDHRA PRADESH20,019
  • HARYANA17,504
  • MADHYA PRADESH15,284
  • BIHAR12,525
  • ASSAM11,737
  • ODISHA10,097
  • JAMMU & KASHMIR8,675
  • PUNJAB6,491
  • KERALA5,623
  • CHHATTISGARH3,305
  • UTTARAKHAND3,161
  • JHARKHAND2,854
  • GOA1,813
  • TRIPURA1,580
  • MANIPUR1,390
  • HIMACHAL PRADESH1,077
  • PUDUCHERRY1,011
  • LADAKH1,005
  • NAGALAND625
  • CHANDIGARH490
  • DADRA AND NAGAR HAVELI373
  • ARUNACHAL PRADESH270
  • DAMAN AND DIU207
  • MIZORAM197
  • ANDAMAN AND NICOBAR ISLANDS141
  • SIKKIM125
  • MEGHALAYA88
Central Helpline Number for CoronaVirus:+91-11-23978046 | Helpline Email Id: ncov2019 @gov.in, ncov219 @gmail.com
rss in emergency 1975 which is imposed by indira gandhi djsgnt

आपातकाल में RSS के बाल स्वयंसेवकों पर रहती थी पुलिस की पैनी नजर, यहां छिपकर लगाते थे शाखा

  • Updated on 6/25/2020

नई दिल्ली/ धीरज कुमार। भारतीय लोकतंत्र का सबसे काला काल जिसमें देशभर में मीडिया संस्थान से लेकर राजनीति दल व समाजिक संगठन पर प्रतिबंध लगा दिया गया। साल 1975 में आज ही के दिन आपातकाल लागू किया गया था। इंदिरा गांधी ने अपनी जमाई हुई सत्ता को खोता देख देश को आपातकाल के आग में झोंक दी। आनन फानन में 25 जून 1975 की रात को तत्कालीन राष्ट्रपति से आपातकाल के घोषणा पत्र पर हस्ताक्षर लिए गए। जिससे उनकी सत्ता बची रहे।

सत्ता के लिए इंदिरा गांधी ने देश को लगाया दांव पर, ऐसे लिखी गई Emergency की पटकथा

जनसंघ के नेता हिरासत में लिए गए
आपातकाल के दौरान जनसंघ व विपक्ष के कई बड़े नेता को हिरासत में ले लिया गया। मीडिया पर सेंसरशिप लगा दी गई। सामाजिक संगठन पर प्रतिबंध लगा दिया। लोग अपने-अपने घरों में डरे-सहमें कैद रहने लगे। 25 जून को पारित यह नियम देशभर में 26 जून 1975 से लागू हो गया। इस दौरान राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवकों को भी घोर यातनाएं दी गई। 21 महीने के काले काल में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ पर प्रतिबंध लगा दिया गया था। 

RSS

बाल स्वयंसेवक छिपकर लगाते थे शाखा
यूपी के बागपत जिले में विनोद जैन बताते हैं कि जिले में बड़ौत के गांधी पार्क में केशव शाखा लगती थी, जिसमें बाल स्वयंसेवक संघ का ध्वज लेकर जाते थे। आपातकाल लागू होने के बाद पुलिस वाले उन्हें परेशान करते थे। बाल स्वयंसेवकों को जेल भेजने की धमकी देकर डंडे मारकर भगा दिया जाता था। बाल स्वयंसेवक पुलिस से छिपकर कभी जैन कॉलेज के सी-फिल्ड तो कभी बी-फिल्ड में चोरी-छिपे शाखा लगाया करते थे।

Title

आरएसएस का पथ संचलन
बाल स्वयंसेवक जहां भी शाखा लगाने पहुंचते वहां पर पुलिस को भनक लग जाती और स्वयंसेवकों को परेशान करने पहुंच जाते। कई बार बिजरौल रोड पर आम के बाग में सायंकालीन शाखा लगाया जाता था। बाद में आपातकाल हटने के बाद जनता पार्टी की सरकार बनी और संघ पर से प्रतिबंध हटा दिया गया। संघ से प्रतिबंध हटने के बाद आरएसएस ने बड़ौत में भव्य पथ संचलन निकाला था।

कैबिनेट ने लिया बड़ा फैसला, RBI करेगा 1540 सहकारी बैंकों की निगरानी

RSS

21 महीने तक रहा आपातकाल
गौरतलब है कि देशभर में इमरजेंसी संविधान की धारा 352 का प्रयोग करते हुए तत्कालीन राष्ट्रपति ने इंदिरा गांधी के कहने पर लागू की थी। यह इमरजेंसी 25 जून 1975 को लागू कर दी गई थी। जो अगले 21 महीने तक जारी रहा। इस दौरान इंदिरा गांधी ने विपक्ष में उठने वाली हर आवाज को दबाने के लिये जेल की दीवार के पीछे भेज दिया। हालांकि इंदिरा गांधी ने यह इमरजेंसी 1971 के लोकसभा चुनाव में धांधली के कारण उनके जीत को ही इलाहबाद हाईकोर्ट ने अवैध घोषित कर दिया था। जिसके बाद ही इंदिरा गांधी ने अपनी कुर्सी बचाने के लिये बड़ा दांव खेला था।

 

comments

.
.
.
.
.