Saturday, May 08, 2021
-->
rss-leader-garland-ambedkar-statue-dalit-lawyers-purify-it

आंबेडकर की मूर्ति पर RSS नेता ने किया माल्यार्पण, दलित वकीलों ने किया शुद्धिकरण

  • Updated on 8/11/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। उत्तर प्रदेश के मेरठ शहर में आरएसएस नेता द्वारा आंबेडकर प्रतिमा पर माल्यार्पण किया गया जिसके बाद दलित समुदाय के वकीलों ने उनकी प्रतिमा को गंगाजल से स्नान कराकर शुद्धिकरण किया। दलित वकीलों का कहना है कि कुछ दिन पहले आरएसएस विचारक राकेश सिन्हा यहां आए थे और बाबा आंबेडकर साहब की मूर्ति पर माल्यार्पण किया था। जिसके बाद प्रतिमा अशुद्ध हो गई थी और इसे शुद्धिकरण के लिए गंगाजल से इसे स्नान करवाया गया। वकीलों का कहना है कि बीजेपी अब दलितों का फायदा उठाना चाहती है। उन्होंने कहा कि बीजेपी ने दलितों के लिए कुछ नहीं किया। 

डिफेंस कॉरीडोर के जरिए भाजपा ने साधे एक तीर से दो निशाने

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक बीजेपी के महासचिव सुनील बंसल ने भी अांबेडकर की प्रतिमा पर माल्यार्पण किया था। वहीं अपने साक्षात्कार में बात करते हुए दलित वकील प्रवीण भारती ने कहा कि उन सभी ने आरएसएस बीजेपी के दोहरे चरित्र को उजागर करने के लिए मूर्ति का शुद्धिकरण किया है। 

बीजेपी की प्रदेश कार्यसमिति की बैठक से पूर्व भाजपा कार्यकर्ताओं ने शुक्रवार को मेरठ की कचहरी के पास अांबेडकर की प्रतिमा का माल्यार्पण किया था। जब बीजेपी के कार्यकर्ता वहां से गए तब बसपाई वहां पहुंचे। इस काम ने नाखुश दलित वकीलों ने मूर्ति को गंगाजल से नहलाया। वकीलों ने कहा कि बीजेपी अंबेडकर से कोई लेना देना नहीं है। संघ बीजेपी को बढ़ावा देने के लिए दलित हितैषी होने का दावा करती आई है। लेकिन हकीकत ये है कि दलितों के कल्याण पर कोई ध्यान नहीं है, सिर्फ दलितों के वोट बैंक के लिए भाजपा का यही रुख हमेशा से देखने को मिलता रहा है। 

मंत्री बोले- CM रमन सिंह हैं महाभारत के भीष्म पितामह, हार-जीत वही तय करेंगे

उन्होंने कहा कि आज देश में दलितों पर हमले हो रहे हैं, उन पर अत्याचार किया जा रहा है। लेकिन बीजेपी हाथ पर हाथ थरी बैठी रहती है। अब जो कुछ भी बीजेपी कर रही है वो सिर्फ वोट बैंक के लिए किया जा रहा है।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.