Wednesday, Aug 10, 2022
-->
rupee at the lowest level ever against the dollar, modi government on the target of the opposition

रुपया अब तक सबसे निचले स्तर पर, विपक्ष के निशाने पर मोदी सरकार

  • Updated on 6/13/2022

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में सोमवार को अमेरिकी मुद्रा के मुकाबले रुपया लगभग 20 पैसे की बड़ी गिरावट के साथ 78.13 (अस्थायी) प्रति डॉलर के रिकॉर्ड निचले स्तर तक लुढ़क गया। घरेलू शेयर बाजार के कमजोर होने तथा विदेशों में डॉलर के मजबूत होने से निवेशकों की कारोबारी धारणा प्रभावित हुई जो गिरावट का मुख्य कारण था। बाजार सूत्रों ने कहा कि एशियाई मुद्राओं के कमजोर होने तथा विदेशी पूंजी की बाजार से सतत निकासी से भी रुपया प्रभावित हुआ। इसके साथ ही विपक्ष दलों ने केंद्र की मोदी सरकार पर कटाक्ष करना शुरू कर दिया है।

केजरीवाल का ऐलान- दिल्ली की AAP सरकार 5 बाजारों को बनाएगी ‘विश्व स्तरीय’

 

  अंतरबैंक विदेशी मुद्रा विनिमय बाजार में डॉलर के मुकाबले रुपया 78.20 पर खुला। दिन के कारोबार में यह 78.02 के उच्च स्तर और नीचे में 78.29 तक गया। कारोबार के अंत में रुपया अपने पिछले बंद भाव 77.93 रुपये के मुकाबले 20 पैसे की गिरावट के साथ 78.13 प्रति डॉलर पर पहुंच गया जो अबतक का रिकॉर्ड सबसे निचला स्तर है।   

अनुराग ठाकुर, प्रवेश वर्मा को दिल्ली हाई कोर्ट से भी मिली राहत, CPIM की याचिका खारिज

    एचडीएफसी सिक्योरिटीज के शोध विश्लेषक, दिलीप परमार ने कहा, ‘‘अन्य मुद्राओं में गिरावट के साथ भारतीय रुपया अपने सर्वकालिक निचले स्तर पर आ गया। शुक्रवार अमेरिका में मुद्रास्फीति रिकार्ड चार दशक के उच्च स्तर पर पहुंचने के साथ बुधवार को फेडरल रिजर्व द्वारा आक्रामक तरीके से ब्याज दर वृद्धि की अटकल है। इसके साथ अमेरिकी ट्रेजरी आय के बढऩे से डॉलर और मजबूत हुआ।’’  

BJP से विधानसभा चुनाव में निपटने के लिए AAP ने किया गुजरात इकाई का पुनर्गठन

    परमार ने आगे कहा कि शुक्रवार के अमेरिकी मुद्रास्फीति के आंकड़ों के आने के बाद, मुद्रा बाजार उम्मीद कर रहा है कि फेडरल रिजर्व आक्रमक तरीके से नीतिगत दर बढ़ाएगा। बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 1,456.74 अंक की गिरावट के साथ 52,846.70 अंक पर बंद हुआ।

राष्ट्रपति चुनाव को लेकर ममता ने की पहल, कांग्रेस बोली- मतभेदों से ऊपर उठने का समय

     इस बीच, छह प्रमुख मुद्राओं की तुलना में अमेरिकी डॉलर की स्थिति को बताने वाला डॉलर सूचकांक 0.55 प्रतिशत बढ़कर 104.71 हो गया। वैश्विक तेल मानक ब्रेंट क्रूड वायदा का दाम 1.58 प्रतिशत घटकर 120.08 डॉलर प्रति बैरल रह गया। शेयर बाजार के अस्थायी आंकड़ों के अनुसार, विदेशी संस्थागत निवेशक पूंजी बाजार में शुद्ध बिकवाल रहे। उन्होंने शुक्रवार को शुद्ध रूप से 3,973.95 करोड़ रुपये के शेयर बेचे।      


 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.