Friday, Sep 17, 2021
-->
russian-vaccine-sputnik-vsafe-induces-antibody-response-in-trials-says-the-lancet-study-prsgnt

दुनिया को इसी साल मिलेगी कोरोना वैक्सीन, रूस का कोरोना टीका Sputnik V कसौटी पर खरा उतरा

  • Updated on 9/5/2020

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। दुनियाभर में फैली कोरोना वायरस (Corona Virus) महामारी को रोकने के लिए रूस ने सबसे पहले वैक्सीन देने का दावा किया था जो अब सच होने जा रहा है। रूस की बनाई कोरोना वैक्सीन को लेकर जो संदेह जताए जा रहे थे वो भी अब गलत साबित होते नज़र आ रहे हैं। 

इस बारे में लैंसेट की रिपोर्ट प्रकाशित हुई है जिसमें रूस की वैक्सीन स्पूतनिक वी (Sputnik V) पर सफल होने की मुहर लग चुकी है। लैंसेट ने पाया है कि दो चरण तक चले टेस्ट में वैक्सीन लेने वाले 76 वालेंटियर की बॉडी में पर्याप्त एंटीबॉडी मिली है, जिसने कोरोना वायरस के असर को बेअसर कर दिया है। 

रूस की वैक्सीन पर भारतीय संस्था ने उठाए सवाल, कहा- नहीं हुए उचित परीक्षण

वैज्ञानिकों का  है कहना...
इस बारे में लंदन स्कूल ऑफ हाइजीन एंड ट्रापिकल मेडिसिन के वैज्ञानिकों का भी कहना है कि ये पूरी दुनिया के लिए एक अच्छी खबर हैं लेकिन हमें इस खुशखबरी के साथ ही इस वैक्सीन के तीसरे चरण के परिणामों का भी इंतज़ार करना होगा। 

हालांकि उन्होंने ये भी कहा कि वैक्सीन लेने से कुछ मामूली लक्षण भी दिखाई दिए हैं जैसे बुखार आना, सरदर्द और जोड़ो में दर्द होना।

US Journal में छपी बिहार के वैज्ञानिकों की रिसर्च रिपोर्ट, चंदन के बीज में खोजा ब्रेस्ट कैंसर का इला 

रूस और भारत में समझौता 
वहीँ, इस वैक्सीन को लेकर भारत और रूस के बीच समझौता भी हुआ है। भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने रूस की सरकार को वैक्सीन लाने और कोरोना से निपटने के लिए बधाई दी है। उन्होंने वैक्सीन बनाने को लेकर रूस के वैज्ञानिकों और मेडिकल टीम को सराहा है। 

वहीँ, रूस के डायरेक्ट इन्वेस्टमेंट फंड के CEO किरिल दिमित्रीव ने कहा है कि वैक्सीन के लिए भारत के साथ रूस ने समझौता किया है। उन्होंने ये भी कहा कि भारत कोरोना वैक्सीन बनाने के क्षेत्र में अच्छा काम कर रहा है।

इतिहास में पहली बार इंसान के शरीर में अपने-आप ठीक हुआ HIV, जानें कारण

पुतिन ने कहा था 
रूस के वैक्सीन बनाने को लेकर राष्ट्रपति पुतिन ने कहा था कि हम इसे पूरे विश्व में पहुंचाएंगे। दुनिया के सभी कोरोना प्रभावित देशों को ये वैक्सीन अच्छे दामों पर मिल सकेगी। पुतिन ने इस वैक्सीन को बेहतर बताते हुए ये भी कहा था कि उन्होंने अपनी बेटी को इस वैक्सीन की डोज दी है। 

बताते चले कि दुनिया में लगभग सभी कोरोना प्रभावित देश कोरोना वैक्सीन बनाने में जुटे हैं लेकिन रूस ने इसमें सबसे पहले बाजी मार ली है हालांकि अमेरिका और कई दूसरे देशों ने इस वैक्सीन के ट्रायल्स को लेकर संदेह जताया था।

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें-

comments

.
.
.
.
.