Monday, Mar 01, 2021
-->
sachin pilot camp petition will be heard on friday in rajasthan high court in rkdsnt

पायलट खेमे की याचिका पर अब कल होगी राजस्थान हाई कोर्ट में सुनवाई

  • Updated on 7/16/2020


नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। राजस्थान हाई कोर्ट की खंड पीठ सचिन पायलट और 18 अन्य बागी कांग्रेस विधायकों को राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष द्वारा जारी अयोग्यता नोटिसों को चुनौती देने के लिए दायर याचिका पर अब शुक्रवार दोपहर एक बजे सुनवाई करेगी। इससे पहले संभावना है कि 2 न्यायाधीशों की पीठ बागी खेमे द्वारा दाखिल संशोधित याचिका पर गुरुवार शाम करीब पौने आठ बजे सुनवाई करेगी। 

Air India की बिना वेतन के अवकाश योजना पर TMC ने उठाए सवाल

इस याचिका पर गुरुवार करीब 3 बजे जस्टिस सतीश चन्द्र शर्मा ने सुनवाई की। लेकिन, बागी खेमे के वकील वरिष्ठ अधिवक्ता हरीश साल्वे ने नए सिरे से याचिका दाखिल करने के लिए समय मांगा। मामले पर शाम करीब पांच बजे फिर से सुनवाई हुई और उसे खंड पीठ के पास भेज दिया गया। इससे पहले कांग्रेस के मुख्य सचेतक महेश जोशी ने अदालत को अर्जी देकर अनुरोध किया कि इस संबंध में कोई भी आदेश देने से पहले उनका भी पक्ष सुना जाए। जोशी ने ही विधानसभा अध्यक्ष को पत्र लिखकर इन विधायकों को अयोग्य करार देने का अनुरोध किया है। 

इंडिया आइडियाज समिट’ को संबोधित करेंगे पीएम मोदी 

कांग्रेस ने विधानसभा अध्यक्ष से शिकायत की थी कि इन 19 विधायकों ने कांग्रेस विधायक दल की बैठकों में शामिल होने के पार्टी के व्हिप का उल्लंघन किया है, इसके बाद विधानसभा अध्यक्ष ने मंगलवार को सभी को नोटिस जारी किया। पायलट खेमे के विधायकों का कहना है कि पार्टी का व्हिप सिर्फ तभी लागू होता है जब विधानसभा का सत्र चल रहा हो। 

लोकसभा, विधानसभाओं सीटों पर खत्म हो एससी/एसटी आरक्षण : प्रकाश आंबेडकर

विधानसभा अध्यक्ष को भेजी गयी शिकायत में कांग्रेस ने पायलट और अन्य बागी विधायकों के खिलाफ संविधान की दसवीं अनुसूची के पैराग्राफ 2(1)(ए) के तहत कार्रवाई करने की मांग की है। इस प्रावधान के तहत अगर कोई विधायक अपनी मर्जी से उस पार्टी की सदस्यता छोड़ता है, जिसका वह प्रतिनिधि बनकर विधानसभा में पहुंचा है तो वह सदन की सदस्यता के लिए अयोग्य हो जाता है। 

मप्र : दलित किसान दंपत्ति की पिटाई को लेकर कांग्रेस ने गठित की जांच समिति

 

 

 

 

यहां पढ़ें कोरोना से जुड़ी महत्वपूर्ण खबरें...

comments

.
.
.
.
.