Friday, Apr 19, 2019

गुर्जर आरक्षण पर सचिन पायलट ने मोदी सरकार के पाले में डाली गेंद

  • Updated on 2/6/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल।लोकसभा चुनावों से पहले गुर्जर आरक्षण के मुद्दे के फिर चर्चा में आने के बीच, कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष एवं उपमुख्यमंत्री सचिन पायलट ने बुधवार को कहा कि केंद्र सरकार को गुर्जर आरक्षण के मामले में आई कानूनी अड़चनों को दूर करने के लिए काम करना चाहिए।

राबर्ट वाड्रा की पेशी को लेकर प्रियंका गांधी ने तोड़ी चुप्पी, सियासत तेज

इस तरह उन्होंने इस मामले पर गेंद केंद्र की मोदी सरकार के पाले में डाल दी है।उन्होंने कहा कि राज्य सरकार और पार्टी गुर्जर आरक्षण के मुद्दे पर प्रतिबद्ध है और न्याय दिलाकर मानेगी। 

सुधा भारद्वाज एलगार परिषद मामले में जमानत के लिए पहुंचीं हाई कोर्ट

पायलट ने सामान्य वर्ग के आॢथक रूप से पिछड़ों को दस प्रतिशत आरक्षण देने के केंद्र सरकार के फैसले का जिक्र करते हुए कहा, 'केंद्र सरकार ही इस काम को कर सकती है। मैं तो केंद्र सरकार से भी आग्रह करूंगा कि जिस प्रस्ताव को विधानसभा पारित कर चुकी है। कई बार हमारी सरकारों ने इसे स्वीकृति दी, पिछली सरकार ने भी दी... तो केंद्र सरकार को इसका भी गंभीरता से अध्ययन करना चाहिए।'

प्रशांत भूषण को अटार्नी जनरल की अवमानना याचिका पर SC का नोटिस

पायलट ने कहा, '5 प्रतिशत के इस (गुर्जर) आरक्षण में जो कानूनी अड़चनें आई हैं (केन्द्र को) उनका समाधान निकालने के लिए काम करना चाहिए।' दरअसल, गुर्जर नेता किरोड़ी सिंह बैंसला ने मंगलवार को कहा था कि सरकार ने अगर गुर्जर और चार अन्य जातियों को 5 प्रतिशत आरक्षण नहीं दिया तो 8 फरवरी से राज्य में गुर्जर आरक्षण आंदोलन फिर से शुरू किया जाएगा।  

वाड्रा की पेशी के साथ भाजपा ने कांग्रेस पर साधा निशाना, लगाए गंभीर आरोप

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.