Friday, May 27, 2022
-->
sad bikram singh majithia gets relief from high court in drugs case rkdsnt

ड्रग्स मामले में शिअद नेता बिक्रम सिंह मजीठिया को हाई कोर्ट से मिली राहत

  • Updated on 1/25/2022

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय ने शिरोमणि अकाली दल (शिअद) नेता बिक्रम सिंह मजीठिया को गिरफ्तारी से तीन की सुरक्षा प्रदान की है ताकि वह अग्रिम जमानत की अर्जी खारिज करने के फैसले फैसले के खिलाफ उच्चतम न्यायालय में याचिका दायर कर सकें। न्यायमूर्ति लीजा गिल की अदालत ने सोमवार को मादक पदार्थ मामले में आरोपी मजीठिया की अग्रिम जमानत की अर्जी खारिज कर दी थीं। 

योगी के खिलाफ चंद्रशेखर के बाद डॉक्टर कफील खान चुनाव लड़ने की तैयारी में 

 

मंगलवार को प्राप्त हुई आदेश की प्रति के मुताबिक अदालत ने कहा, ‘‘...याचिकाकर्ता को इस फैसले को उच्चतम न्यायालय में चुनैती देने के लिए तीन दिन का समय दिया जा रहा है।तब तक याचिकाककर्ता को गिरफ्तार नहीं किया जाएगा।’’ हालांकि, मजीठिया का पक्ष रख रहे वकील ने अदालत से अनुरोध किया था कि उनके मुवक्किल को सात दिन के लिए गिरफ्तारी से सुरक्षा दी जाए।  

केजरीवाल का ऐलान- दफ्तरों में सिर्फ आंबेडकर, भगत सिंह की लगेंगी तस्वीरें

अग्रिम जमानत अर्जी के खारिज होने को मजीठिया के लिए झटका माना जा रहा है क्योंकि अगले महीने होने वाले पंजाब विधानसभा चुनाव के लिए वह अमृतसर जिले के मजीठा विधानसभा सीट से शिअद के प्रत्याशी हैं। राज्य में 20 फरवरी को होने वाले मतदान के लिए नामांकान की प्रक्रिया मंगलवार को शुरू हुई। मजीठिया (46) के खिलाफ पिछले महीने एनडीपीएस अधिनियम के तहत मामला दर्ज किया गया था जिसके बाद उन्होंने अग्रिम जमानत के लिए उच्च न्यायालय का रुख किया था। 

मुफ्त सेवाओं के खिलाफ अश्विनी उपाध्याय की PIL पर कोर्ट का चुनाव आयोग को नोटिस

उच्च न्यायालय ने 10 जनवरी को उन्हें गिरफ्तारी से अंतरिम राहत दी थी और 12 जनवरी को जांच से जुडऩे का निर्देश दिया था। अदालत ने देश नहीं छोडऩे सहित कुछ शर्तें भी लगाई थीं। बाद में अंतरिम राहत की अवधि 18 जनवरी को बढ़ा दी गई थी। मजीठिया शिअद अध्यक्ष सुखबीर सिंह बादल के साले और पूर्व केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर बादल के भाई हैं।  

AAP उम्मीदवार ने नामांकन पत्र खारिज होने पर किया आत्मदाह का प्रयास

comments

.
.
.
.
.