Sunday, Oct 02, 2022
-->
sad-leader-serious-charges-imposed-on-kamal-nath

CM पद की शपथ लेने से पहले ही कमलनाथ पर शिअद नेता ने लगाए गंभीर आरोप

  • Updated on 12/13/2018

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। मध्य प्रदेश के विधानसभा चुनाव में कांग्रेस की जीत के बाद पार्टी के कार्यकर्ताओं सहित अध्यक्ष राहुल गांधी काफी खुश हैं। राज्य में सीएम पद के लिए काफी देर तक चली बैठक के बाद आखिरकार कमलनाथ के नाम पर मुहर लगाई गई। कमलनाथ प्रदेश कांग्रेस के अध्यक्ष भी हैं और पार्टी के वरिष्ट नेता भी।

मध्य प्रदेश के नए मुख्यमंत्री के रूप में कांग्रेस के वरिष्ठ नेता कमलनाथ का नाम सबसे आगे होने की चर्चा के बीच शिरोमणि अकाली दल (शिअद) ने एक नेता ने बृहस्पतिवार को कांग्रेस नेतृत्व पर 1984 के सिख विरोधी दंगों के ‘साजिशकर्ताओं को बचाने’ का आरोप लगाया।

BJP पर शिवसेना ने साधा निशाना, हार को बताया अन्याय और असत्य की पराजय

अकाली दल ने आरोप लगाया कि 1984 में तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या के बाद राष्ट्रीय राजधानी में सिख विरोधी दंगों के फैलने में कमलनाथ का हाथ था। अकाली दल के नेता मनजिंदर सिंह सिरसा ने पत्रकारों से कहा, जब भी गांधी परिवार सत्ता में आता है, तो वह 1984 के दंगों के साजिशकर्ताओं को बचाता है।

अब राहुल गांधी और गांधी परिवार कमलनाथ को मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री के पद का तोहफा देने जा रहे हैं।  उन्होंने कहा, ‘राहुल गांधी यह संदेश देना चाहते हैं कि 1984 में सिखों के मारे जाने में जो लोग शामिल थे उन्हें अब चिंता करने की जरूरत नहीं है। वे न केवल उनकी पीछे मौजूद हैं बल्कि उन्हें पुरस्कृत भी करेंगे।

तेलंगाना: के. चंद्रशेखर राव ने ली मुख्यमंत्री पद की शपथ

सिरसा ने कहा सिख शांति प्रिय लोग हैं, लेकिन वे गांधी परिवार को माकूल जवाब देंगे। अगर गांधी परिवार, कमलनाथ को मुख्यमंत्री के रूप में नामित करने का फैसला करता है तो इससे जनाकोश फैलेगा। गौरतलब है कि जब कमलनाथ को कांग्रेस का पंजाब और हरियाणा का महासचिव प्रभारी बनाया गया था तब सिखों के एक वर्ग ने इसका विरोध किया था। इसके बाद कमलनाथ से पंजाब का कार्यभार ले लिया गया पर हरियाणा के लिए महासचिव की जिम्मेदारी उनके पास बनी रहने दी गई।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।
comments

.
.
.
.
.