Monday, Nov 18, 2019
Safdarjung Hospital Get ultrasound, eco, lungs and brain report in seconds

सफदरजंग अस्पताल: सेकेंडों में पाइए अल्ट्रासाउंड, ईको, लंग्स और दिमाग की रिपोर्ट

  • Updated on 11/7/2019

नई दिल्ली/ टीम डिजिटल। सफदरजंग अस्पताल (Safdarjung Hospital) में अब इमरजेंसी (Emergency) में आने वाले मरीजों को अल्ट्रासाउंड की प्रक्रिया में परेशानी से नहीं जूझना होगा। एनेस्थिसिया एंड क्रिटिकल केयर विभाग के प्रोफेसर डॉ. कपिल गुप्ता अस्पताल में 8 पोर्टेबल अल्ट्रासाउंड (Ultrasound) मशीन मिली है। जिससे न केवल मरीजों की परेशानी कम होगी बल्कि कुछ समय में ही उन्हें जांच रिपोर्ट भी मिल जाएगी।

अत्याधुनिक कैमरा करेगा कमाल 
यह कमाल मशीन में लगा अत्याधुनिक कैमरा से संभव हो पाएगा। यहां बता दें कि इससे पहले सफदरजंग अस्पताल में अल्ट्रासाउंड करना चुनौती से कम नहीं था। अस्पताल के इमरजेंसी में आने वाले हार्ट अटैक सहित कई ऐसे मरीज जिन्हें तत्काल अल्ट्रासाउंड या ईको की जरूरत पड़ती थी, उन्हें अल्ट्रासाउंड के लिए इमरजेंसी से काफी दूर स्थित अल्ट्रासाउंड मशीन के पास जाना पड़ता था।

इस पैट को पालने से मिलेगी खुशी, सेहत भी रहेगी अच्छी

ऐसे में आपातकालीन (Emergency) मरीजों को जान का भी खतरा रहता था। नई मशीन आने से अब इस तरह की परेशानियों से छुटकारा मिलेगा। इस मशीनों की सभी डॉक्टर्स को जानकारी देने के लिए अस्पताल में वर्कशॉप का भी आयोजन किया गया था जिसमें दिल्ली के अनेकों डॉक्टरों ने हिस्सा लिया। 

अब गैस्ट्रिक की दवाओं के रैपर पर लिखा होगा, इसके सेवन से किडनी पर बुरा असर

मशीन की खासियत  

  • रियल टाइम डाटा पता चलेगा

  • मरीजों के पास मशीन लाना संभव होगा

  • मशीन बॉक्स के आकार की है

  • शरीर की नर्व, निमोनिया, लंग्स में पानी भरना, माइंड का प्रैशर आदि को इस मशीन के जरिए आसानी से स्क्रीन पर देखा जा सकता है

  • पहले की तरह रिपोर्ट के लिए इंतजार नहीं करना पड़ेगा 


दिल्ली के #AirPollution से ऐसे करें अपना बचाव, इन बातों का रखें खास ध्यान

इन विभागों में मिलेगी सुविधा 
इमरजेंसी, ऑप्रेशन थिएटर और आईसीयू   

एम्स में बढ़ी ऑर्थराइटिस मरीजों की तादाद, प्रदूषण को बताया कारण

ऐसे काम करेगी मशीन 
डॉ. कपिल गुप्ता के मुताबिक जांच प्रक्रिया में शरीर में किसी तरह का चीरा लगाने की जरूरत नहीं होगी। मशीन की तार (वायर) को केवल शरीर के प्रभावित हिस्से पर लगाना होता है। इसके बाद मशीन को कमांड दी जाती है। इसके कुछ सेकेंडों के बाद जांच रिपोर्ट स्क्रीन पर उभर आती है। डॉ. गुप्ता के मुताबिक रियल टाइम डेटा प्राप्त होने से मरीजों की जान बचाने में सहुलियत होती है। डॉक्टर के मुताबिक इमरजेंसी में रोजाना करीब 200 मरीज आते हैं। 

comments

.
.
.
.
.