Friday, Aug 19, 2022
-->
sahaj chaddha of ghaziabad is making a splash in foreign countries with his bat

गाजियाबाद के सहज चड्ढा का विदेशों में बज रहा डंका, अपने बल्ले से मचा रहे हैं धूम

  • Updated on 1/12/2022

नई दिल्ली/टीम डिजीटल।  इंडियन प्रीमियर लीग में भारतीय क्रिकेटरों के साथ-साथ विदेशी खिलाडिय़ों का भी दबदबा रहता है। जहां उन्हें करोड़ों में खरीदा जाता है। आईपीएल ने कई ऐसे खिलाडिय़ों को पहचान दी है जो शायद ही कभी भारत का प्रतिनिधित्व कर पाते। लेकिन अभी भी कई खिलाड़ी हैं जो आईपीएल तक का दरवाजा खटखटाने की कोशिश कर रहे हैं। इनमें से कुछ खिलाड़ी ऐसे भी हैं जो अपनी प्रतिभा के दम पर विदेशों में अपने नाम का डंका बजवा रहे हैं। ऐसे ही नामों में शामिल है गाजियाबाद के सहज चड्ढा का नाम। जो अब तक ना जाने कितनी बार विदेशों में अपनी प्रतिभा के दम पर सबको नतमस्तक कर चुके हैं। साउथ अफ्रीका से लेकर इंग्लैंड तक उन्होंने कई बड़ी स्थानीय क्रिकेट प्रतियोगिताओं में ना केवल भाग लिया। बल्कि अपनी प्रतिभा को साबित भी किया। 

वह खिलाड़ी जो आईपीएल के दरवाजे से कांउटी के गलियारे तक पहुंचा 
1994 को दिल्ली में पैदा हुए सहज चड्ढा 2005 से गाजियाबाद में रह रहे हैं। जहां उन्होंने इंदिरापुरम के कैंब्रिज स्कूल से पढाई शुरू की। धीरे-धीरे उनका रूझान क्रिकेट की तरफ बढता रहा। वाईएमसीए में राकेश शुक्ला से उन्होंने 5 साल क्रिकेट की बारीकियां सीखीं। जहां 2015 में वह पहली बार आईपीएल की दहलीज तक पहुंचे। 2015 में सहज ने किंग्स इलेवन पंजाब के ट्रैनिंग कैंप में हिस्सा लिया। इसके अलावा 2016-17 में वह दिल्ली डेयर डेविल्स के भी ट्रैनिंग कैंप में जाने का मौका मिला। लेकिन कभी इन दोनों में टीम की तरफ से बल्ला पकडऩे का मौका नहीं मिला।

लेकिन उनकी प्रतिभा को दक्षिण अफ्रीका के क्रिसेंट क्रिकेट क्लब ने पहचाना और उन्हें टीम का हिस्सा बनने का मौका मिला। जहां उन्होंने लेनशिया प्रीमियर लीग में 2016-17 के सीजन में 15 मैच खेलते हुए 1190 रन बनाए। यहां वह इशांत शर्मा, कसीगो रबाडा जैसे खिलाडिय़ों के साथ खेले। दक्षिण अफ्रीका में क्रिकेट क्लब के लिए खेलते हुए काउंटी क्रिकेट के पारखियों की नजर भी सहज पर पड़ी और फिर 2019 में वह एसेक्स क्रिकेट काउंटी में 25 सौ 52 रन बनाने के साथ ही 30 विकेट भी झटके। बीती 2021 में भी वह मिडिलसेक्स काउंटी में एनसन क्लब के लिए खेले जहां उन्होंने 850 रन बनाकर प्रतियोगिता में पहला स्थान हासिल किया। 

जब संजय बांगड ने कहा हैरान हूं तुम्हारे पास भारत की जर्सी नहीं है
सहज अपने क्रिकेट सफर में अब तक कई अन्तर्राष्ट्रीय क्रिकेट के साथ ड्रैसिंग रूम साझा करने के साथ-साथ कई दिग्गजों से ही क्रिकेट की बारीकियों के बारे में जान चुके हैं। मुंबई में ऐसे ही एक कैंप का जिक्र करते हुए सहज बताते हैं कि यहां उन्हें अपने जीवन का अब तक का सबसे बड़ा कॉम्पलीमेंट मिला, जब पूर्व क्रिकेटर संजय बांगड ने उनके खेल को देखते हुए हैरानी जताई थी कि उन्हें अभी तक भारतीय टीम में क्यों शामिल नहीं किया गया है। इसके अलावा वह पूर्व भारतीय कोच गैरी कस्र्टन व वर्तमान भारतीय कोच राहुल द्रविड से रूबरू हो चुके हैं। 

अपनी एकेडमी भी चलाते हैं सहज
 अपनी प्रतिभा दिखाने के साथ-साथ सहज दिल्ली ब्लूज क्रिकेट एकेडमी भी चलाते हैं। जिसमें वह युवा क्रिकेटरों को क्रिकेट की बारीकियों से रूबरू कराते हैं। लेकिन इसका मतलब यह कतई नहीं है कि उन्होंने खुद क्रिकेट का अभ्यास करना छोड़ दिया है। वह राकेश शर्मा से बल्लेबाजी के गुर तो राजस्थान रणजी कोच के नवेंदू त्यागी से गेंदबाजी के गुर सीखते हैं। 

2022 में भी धमाल करने की तैयारी
सहज इस साल भी किक्रेट में धमाल करने की तैयारी में है। उन्होंने रणजी के लिए तैयारियां शुरू की थीं। कोरोना की वजह से फिलहाल रणजी की तैयारी रूक गई हैं। लेकिन मार्च के पहले हफ्ते में इंग्लैंड में शुरू होने जा रहे कांउटी क्रिकेट के लिए उन्होंने कमर कस ली है। 
 

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.