samaj mp azam khan apologized in lok sabha

विवादित बयान पर आजम खान ने दो बार मांगी माफी, रमा देवी ने कहा- सुधारें आदत

  • Updated on 7/29/2019

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। लोकसभा में पीठासीन सभापति के रूप में आसीन रमा देवी पर पिछले बृहस्पतिवार को की गयी विवादास्पद टिप्पणी के मामले में समाजवादी पार्टी सांसद आजम खान ने सोमवार को माफी मांग ली ।

सदन की कार्यवाही शुरू होने पर लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने आजम खान का नाम पुकारा।    इसके बाद सपा सांसद ने कहा कि आसन के प्रति न मेरी कोई गलत भावना थी और न कभी रही है। उन्होंने कहा कि वह दो बार संसदीय कार्य मंत्री रहे हैं, चार बार मंत्री रहे हैं, नौ बार विधायक रहे हैं और राज्यसभा में भी रह चुके हैं। ‘मेरे भाषण, मेरे आचरण को पूरा सदन जनता है। इसके बावजूद भी आसन को लगता है कि मुझसे भावना में कोई गलती हुई तो इसके लिये क्षमता चाहता हूं।’

हालांकि, सदन में कुछ सदस्यों ने आजम की बात ठीक से नहीं सुने जाने की बात कही। इस पर अध्यक्ष ने उनसे एक बार फिर से बोलने को कहा। इसके बाद आजम खान ने फिर कहा, ‘बात को एक बार कहें या एक हजार बार कहें.. बात वही रहेगी । आसन के लिये मेरी कोई गलत भावना हो, ऐसा संभव ही नहीं है, फिर भी आसन को लगता है कि मुझसे कोई गलती हुई है तो मैं क्षमा मांगता हूं।’

इस बीच भाजपा सदस्य रमा देवी ने कहा कि आजम खान की यह आदत रही है, बाहर भी वह ऐसे ही बोलते रहे हैं। ‘मैं वरिष्ठ सांसद हूं, अध्यक्ष जी जो आदेश देंगे, उसका पालन करूंगी।’ गौरतलब है कि लोकसभा में भाजपा, कांग्रेस, तृणमूल कांग्रेस, राकांपा सहित सभी दलों ने गुरूवार को पीठासीन सभापति रमा देवी के बारे में सपा सांसद आजम खान की टिप्पणी की शुक्रवार को पार्टी लाइन से हटकर कड़ी भर्त्सना करते हुए इसे ‘कुटिल, दुर्भावनापूर्ण, अपमानजनक’ बताया था तथा स्पीकर से इस मामले में ‘कठोरतम’ कार्रवाई करने की मांग की।    

#Azamkhan के ये हैं 5 विवादित बयान, जिससे राजनीति हुई शर्मसार   

संसद में तीन तलाक विधेयक पर हो रही बहस के दौरान आजम खान ने स्पीकर के आसन पर बैठी भाजपा सांसद रमा देवी को लेकर आपत्ती जनक बात कह दी थी।

इस मामले को बढ़ता देख स्पीकर ने अन्य दलों के सांसदों से विचार-विमर्श किया जिसमें यह फैसला हुआ कि यदि आजम खान सोमवार तक अपने बयान के लिए माफी मांग लेते हैं तो ठीक है, नहीं तो उनके खिलाफ आगे की कार्यवाही की जाएगी। आजम के बयान पर सपा की सहयोगी पार्टी बसपा प्रमुख मायादती से लेकर सभी दलों के सांसदों ने सबक सिखाने वाली कार्यवाही करने की मांग की थी।

इससे पहले, आजम के बयान का बचाव करते हुए उनकी पत्नी ने कहा कि बेवजह उनको फंसाया जा रहा है और यह पूरी तरह से राजनीति साजिश है। उन्होंने किसी के लिए भी ऐसा कुछ भी नहीं कहा कि उन्हें माफी मांगनी पड़े। फातिमा ने कहा कि उर्दू की भाषा प्यार की भाषा है और इसमें हमेशा से ही मिठास रही है। जब भी इसके सामान्य बोल चाल में प्रयोग किया जाता है तो अक्सर लोग गलत अर्थ लगा जाते हैं।

आजम के समर्थन में मांझी ने मां-बेटे के रिश्ते को लेकर दिया ये विवादित बयान...

 इस मामले पर शून्यकाल में निचले सदन में विभिन्न दलों की महिला सांसदों समेत कई दलों के नेताओं ने करीब एक घंटे तक सपा सदस्य की टिप्पणी पर अपना कड़ा विरोध जताया । महिला सांसदों ने स्पीकर से ऐसी कार्रवाई करने की मांग की थी जो ‘नजीर’ बन सके।

Hindi News से जुड़े अपडेट लगातार हासिल करने के लिए हमें फेसबुक पर ज्वॉइन करें, ट्विटर पर फॉलो करें।हर पल अपडेट रहने के लिए NT APP डाउनलोड करें। ANDROID लिंक और iOS लिंक।

comments

.
.
.
.
.