Wednesday, Feb 01, 2023
-->
samajwadi party akhilesh taunt on modi bjp govt say they will bring bill again after elections rkdsnt

समाजवादी पार्टी का BJP पर तंज, कहा- साफ नहीं इनका दिल, चुनाव बाद फिर लाएंगे ‘बिल’

  • Updated on 11/21/2021

नई दिल्ली/टीम डिजिटल। समाजवादी पार्टी (सपा) ने तीन विवादास्पद कृषि कानूनों को वापस लिए जाने की केंद्र की घोषणा को लेकर सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की मंशा पर संशय जाहिर करते हुए रविवार को कहा कि भाजपा का दिल साफ नहीं है और वह उत्तर प्रदेश में 2022 में होने वाले विधानसभा चुनावों के बाद इस संबंध में फिर से विधेयक लाएगी। सपा ने अपने इस दावे को बल देने के लिए राजस्थान के राज्यपाल कलराज मिश्र और उन्नाव से सांसद एवं भाजपा नेता साक्षी महाराज के बयानों का हवाला दिया।     

हाई कोर्ट का निर्देश - धनबाद के जज की हत्या मामले में मकसद का पता लगाए CBI 

सपा ने अपने आधिकारिक ट्विटर हैंडल से ट्वीट किया, ‘‘साफ नहीं इनका दिल, चुनाव बाद फिर लाएंगे बिल(विधेयक)।‘’  उसने कहा कि मिश्र और साक्षी महाराज ने कहा है कि ‘‘भाजपा सरकार फिर से विधेयक ला सकती है।’’  सपा ने कहा,‘‘किसानों से झूठी माफी मांगने वालों की यह सच्चाई है। किसान 2022 में बदलाव लाएंगे।‘‘     

MTNL, BSNL की करीब 970 करोड़ रुपये की संपत्तियां बेचेगी मोदी सरकार

सपा ने अपने ट््वीट में एक समाचार पत्र में छपा मिश्र का एक बयान संलग्न किया है, जिसमें राजस्थान के राज्यपाल ने कृषि कानून पर कहा है कि यह समय अनुकूल नहीं है और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कृषि कानून इसी वजह से वापस लेने का फैसला किया है। मिश्र ने कहा,‘‘अगर आगे जरूरत पड़ी तो किसान विधेयक फिर लाया जाएगा।‘’सपा ने इस ट्वीट में साक्षी महराज का भी एक बयान संलग्न किया है, जिसमें उन्होंने कहा है,‘‘विधेयक तो बनते-बिगड़ते रहते हैं, फिर वापस आ जाएंगे, दोबारा बन जाएंगे, कोई देर नहीं लगती।‘’  

नरेंद्र गिरि मौत मामला: CBI ने आनंद गिरि, दो अन्य के खिलाफ दाखिल किया आरोप पत्र

    साक्षी महाराज ने शुक्रवार को उन्नाव में पत्रकारों से कहा था, ‘‘मैं मोदी जी को धन्यवाद दूंगा कि उन्होंने बड़ा दिल दिखाया और विधेयक के बजाय राष्ट्र को चुना। जिनके इरादे गलत थे, जिन्होंने ‘पाकिस्तान जिंदाबाद’ और ‘खालिस्तान जिंदाबाद’ के नारे लगाए, उन्हें करारा जवाब मिला है।‘’  उन्होंने यह भी कहा कि उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव 2022 और विधेयकों को निरस्त करने की घोषणा के बीच कोई संबंध नहीं है।

केंद्रीय मंत्री वीके सिंह ने पूछा- कृषि कानून में स्याही को छोड़कर इसमें और क्या काला है?


 

comments

.
.
.
.
.